PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 18 अपशिष्ट जल की कहानी

Punjab State Board PSEB 7th Class Science Book Solutions Chapter 18 अपशिष्ट जल की कहानी Textbook Exercise Questions and Answers.

PSEB Solutions for Class 7 Science Chapter 18 अपशिष्ट जल की कहानी

PSEB 7th Class Science Guide अपशिष्ट जल की कहानी Textbook Questions and Answers

1. खाली स्थान भरें :-

(i) मल प्रवाह में घुली हुई तथा ठोस अशुद्धियों को ……………………. कहते हैं।
उत्तर-
प्रदूषक

(ii) चार्जित गार में लगभग …………………… जल होता है।
उत्तर-
97%

(iii) जल शुद्धिकरण टैंक के तल पर बैठे ठोस पदार्थ को ……………………… कहते हैं।
उत्तर-
गार/आपंक

(iv) ……………… ऐसा स्थान होता है, जहाँ अपशिष्ट जल में से दूषकों को अलग किया जाता है।
उत्तर-
जल शुद्धिकरण टैंक

(v) सफाई संबंधी ……………………… आदतें अपनाएं।
उत्तर-
अच्छी।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 18 अपशिष्ट जल की कहानी

2. निम्नलिखित में से सही या गलत चुनें :-

(i) खुली नालियों (Drain) की गंध तथा दिखावट बहुत मनमोहक होती है।
उत्तर-
ग़लत

(ii) पॉलिथीन के लिफ़ाफे नालियों में फेंकें।
उत्तर-
ग़लत

(iii) खुली नालियाँ, मक्खियों तथा मच्छरों के प्रजनन स्थान होते हैं।
उत्तर-
सही

(iv) खुले में शौच न करें।
उत्तर-
सही

(v) भोजन के बचे हुए ठोस टुकड़े नालियों (Drain) को बंद कर सकते हैं।
उत्तर-
सही

3. कॉलम ‘क’ और कॉलम ‘ख’ का सही मिलान करें :-

कॉलम ‘क’ कॉलम ‘ख’
(i) कार्बनिक अशुद्धियाँ (क) मल–प्रवाह उपचार
(ii) अकार्बनिक अशुद्धियाँ (ख) टायफाइड
(iii) अपशिष्ट जल-शोधन (ग) रूड़ी खाद
(iv) जल के साथ होने वाली बीमारी (घ) नाइट्रेट्स तथा फास्फेट
(v) सूखा गार (ङ) मानवीय मल।

उत्तर-

कॉलम ‘क’ कॉलम ‘ख’
(i) कार्बनिक अशुद्धियाँ (ङ) मानवीय मल।
(ii) अकार्बनिक अशुद्धियाँ (घ) नाइट्रेट्स तथा फास्फेट
(iii) अपशिष्ट जल-शोधन (क) मल-प्रवाह उपचार
(iv) जल के साथ होने वाली बीमारी (ख) टायफाइड
(v) सूखा गार (ग) रूड़ी खाद।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 18 अपशिष्ट जल की कहानी

4. बहु-वैकल्पिक उत्तरों में सही उत्तर चुनें :-

प्रश्न (i)
अपशिष्ट जल शोधक यंत्र में होते हैं-
(क) छड़ों वाली जाली
(ख) जल शुद्धिकरण
(ग) गारा तथा रेत अलग करने वाली टंकी
(घ) उपर्युक्त सभी।
उत्तर-(घ) उपर्युक्त सभी।

प्रश्न (ii)
अपशिष्ट जल शोधक प्लांट के सह उत्पाद होते हैं-
(क) बायोगैस
(ख) गारा
(ग) ‘क’ तथा ‘ख’ दोनों
(घ) इनमें से कोई नहीं।
उत्तर-
(ग) ‘क’ तथा ‘ख’ दोनों।

प्रश्न (iii)
इनमें से कौन-सा रासायनिक जल को कीटाणु रहित करने के लिए प्रयोग किया जाता है ?
(क) क्लोरीन
(ख) ओजोन
(ग) ‘क’ तथा ‘ख’ दोनों
(घ) इनमें से कोई नहीं।
उत्तर-
(ग) ‘क’ तथा ‘ख’ दोनों।

प्रश्न (iv)
विश्व टॉयलेट दिवस मनाया जाता है-
(क) 29 नवंबर
(ख) 19 अक्तूबर
(ग) 19 नवंबर
(घ) 29 अक्तूबर।
उत्तर-
(ग) 19 नवम्बर।

प्रश्न (v)
इनमें से कौन-सी कम खर्चीली मल-प्रवाह निपटान की प्रणाली नहीं है ?
(क) सेप्टिक टंकी
(ख) कंपोस्टिंग टंकी
(ग) रासायनिक टॉयलेट
(घ) छड़ों वाली जाली।
उत्तर-
(घ) छड़ों वाली जाली।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 18 अपशिष्ट जल की कहानी

5. अति लघूत्तर प्रश्न :-

प्रश्न (i)
मल-प्रवाह क्या होता है ?
उत्तर-
मल-प्रवाह – यह वह गंदा जल होता है जिसमें घुली हुई तथा लटकती हुई ठोस अशुद्धियाँ होती हैं। यह घरों, उद्योगों, खेतों तथा अस्पतालों द्वारा पैदा किया जाता है।

प्रश्न (ii)
गार किसे कहते हैं ?
उत्तर-
गार – जो ठोस पदार्थ जल शुद्धिकरण टैंक के तल पर बैठ जाता है, उसे गार अथवा आपंक कहते हैं।

प्रश्न (iii)
निर्मल जल /शुद्ध जल (Clarified Water) क्या होता है ?
उत्तर-
निर्मल जल या शुद्ध जल – शुद्ध जल रंगहीन, गंधहीन तथा स्वादरहित होता है। शुद्ध जल का pH लेवल 7 होता है। वर्षा जल शुद्ध जल होता है। शुद्ध जल का उबाल दर्जा 100°C होता है। शुद्ध जल में कोई घुलनशील अथवा लटकती हुई कोई अशुद्धि नहीं होती तथा यह कीटाणु रहित होता है।

प्रश्न (iv)
सेप्टिक टंकी किसे कहते हैं ?
उत्तर-
सेप्टिक टैंकी – यह एक कम खर्चे वाली मल प्रवाह शोध की ऐसी प्रणाली है जिसमें ऑक्सीजन रहित जीवाणु होते हैं जो अपशिष्ट पदार्थों का अपघटन करते हैं। इसका मुख्य मल-विसर्जन पाइपों से कोई संबंध नहीं होता है। मानवीय मल प्रवाह की यह तकनीक वहाँ प्रयोग होती है जहाँ मल को शौचालय के बंद पाइपों के रास्ते सीधा ही बायोगैस प्लांट में भेजा जाता है।
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 18 अपशिष्ट जल की कहानी 1

प्रश्न (v)
अपशिष्ट जल शोधन-प्रणाली क्या होती है ?
उत्तर-
अपशिष्ट जल – शोधन प्रणाली-अशुद्धियों को अलग करने के लिए मल प्रवाह को बंद पाइपों द्वारा व्यर्थ जल शोधक प्रणाली तक लेकर जाते हैं तथा शोध के बाद इस जल को नदियों या समद्रों में बहा दिया जाता है। अपशिष्ट जल शोधक प्रणाली वहीं होती है जहाँ इसमें से अशुद्धियाँ अलग की जाती हैं। अपशिष्ट जल में से अशुद्धियाँ अलग करने को जल स्वच्छ करना या जल शोधन या उपचार कहते हैं। जल शोधन में पानी में से अशुद्धियाँ दूर करने के लिए भौतिक, रासायनिक तथा जैविक क्रियाएँ की जाती हैं। अपशिष्ट जल शोधन को साधारणतः से मल-प्रवाह शोधन कहते हैं।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 18 अपशिष्ट जल की कहानी

6. लघूत्तर प्रश्न :-

प्रश्न (i)
तेल, घी आदि को नाली में क्यों नहीं फेंकना चाहिए ? टिप्पणी दें।
उत्तर-
खाना/भोजन पकाते समय बचे हुए तेल/घी को ड्रेन में फेंकने के स्थान पर कूड़ेदान में फेंकना चाहिए क्योंकि यह सख्त होकर निकासी वाली पाइपों को बंद कर सकते हैं। खुले स्थान पर यह मिट्टी के मुसामों/छिद्रों को भी बंद कर सकते हैं जिससे मिट्टी की पानी को फिल्टर करने की क्षमता कम हो जाती है।

प्रश्न (ii)
अपशिष्ट जल शोधक प्रणाली में छड़ों वाली जाली का क्या काम है ?
उत्तर-
अपशिष्ट जल शोधक प्रणाली में सबसे पहले इस जल में से ठोस अशुद्धियों जैसे डिब्बे, कपड़े के टुकड़े नैपकिन, प्लास्टिक की वस्तुएँ आदि को अलग करने के लिए जल को लोहे वाले जाल में से गुजारा जाता है जहाँ यह वस्तुएँ रुककर अलग हो जाती हैं।
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 18 अपशिष्ट जल की कहानी 2

प्रश्न (iii)
कूड़े को केवल कूड़ेदान में फेंके। टिप्पणी करें।
उत्तर-
कूड़े के बिखेरने से न केवल हमारा इर्द-गिर्द ही गंदा होगा बल्कि वातावरण भी दूषित होगा तथा गंदी बदबू भी आएगी जो कीड़े-मकौड़ों तथा तिलचट्टे पैदा होने में सहायक होगी। इससे कई बिमारियाँ भी होंगी। इसलिए कूडे को कूड़ेदान में फेंकना चाहिए।

Science Guide for Class 7 PSEB अपशिष्ट जल की कहानी Intext Questions and Answers

सोचें तथा उत्तर दें:- (पेज 216)

प्रश्न 1.
साफ जल तथा दूषित जल के रंग में क्या अंतर होता है ?
उत्तर-
साफ जल – साफ जल रंगहीन होता है, परंतु इसमें घुली अशुद्धियाँ तथा सूक्ष्मजीव उपस्थित हो सकते हैं। यह जल शुद्ध नहीं होता तथा पीने योग्य नहीं है।

दूषित जल – जल जिसमें सूक्ष्मजीव उपस्थित हो वह भी रंगहीन हो सकता है। इसके अतिरिक्त यदि जल में कोई रंगदार घुली हुई मिट्टी या अशुद्धि है तो यह काले या भूरे रंग का भी हो सकता है।

प्रश्न 2.
गंदे जल में विद्यमान कोई दो कार्बनिक संदूषकों के नाम बताएं।
उत्तर-
गंदे पानी में उपस्थित कार्बनिक संदूषक-

  1. कीटनाशक
  2. नदीन नाशक
  3. फल सब्जियाँ
  4. मानवीय तथा पशु मल।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 18 अपशिष्ट जल की कहानी

सोचें तथा उत्तर दें:- (पेज 217)

प्रश्न 1.
मल-प्रवाह मार्ग में मैनहोल क्यों बनाए जाते हैं ?
उत्तर-
मल-प्रवाह मार्ग के प्रत्येक 50-60 मीटर की दूरी पर या दो मल विसर्जनों के जोड़ पर जहाँ दिशा बदलनी हो, वहाँ मैनहोल बनाए जाते हैं ताकि इसमें दाखिल होकर व्यक्ति जल-मल निकास की समस्या का पता तथा निवारण कर सके।

प्रश्न 2.
किसी खुले जल-निकास में या समीप पाए जाने वाले दो जीवों के नाम बताएं।
उत्तर-

  1. काकरोच (तिलचट्टा) तथा
  2. बिच्छू।

सारी परखनलियों का ध्यानपूर्वक अध्ययन करें तथा निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर दें:-(पेज 220)

प्रश्न 1.
हवा प्रवाहित करने के बाद तरल दिखावट (Appearance) में क्या परिवर्तन आया ?
उत्तर-
द्रव का रंग थोड़ा साफ तथा हल्के रंग का दिखाई देता है।

प्रश्न 2.
रेत फिल्टर होने से क्या अलग हुआ ?
उत्तर-
रेत फिल्टररेशन द्वारा अघुलनशील ठोस कण अलग हो गए।

PSEB Solutions for Class 7 Science अपशिष्ट जल की कहानी Important Questions and Answers

वस्तुनिष्ठ प्रश्न

प्रश्न 1.
रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए-

(i) जल को स्वच्छ करना ………………… को दूर करने का प्रक्रम है।
उत्तर-
संदूषक

(ii) घरों द्वारा मुक्त किए जाने वाला अपशिष्ट जल …………………… कहलाता है।
उत्तर-
वाहित मल

(iii) शुष्क ……………………….. का उपयोग खाद के रूप में किया जाता है।
उत्तर-
आपंक

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 18 अपशिष्ट जल की कहानी

(iv) नालियाँ …………………. और ……………………. के द्वारा अवरूद्ध हो जाती हैं।
उत्तर-
तेल, वसा

(v) ढक्कन से ढका हुआ वह खुला स्थान जिस रास्ते व्यक्ति अंदर जाकर मल-प्रवाह प्रणाली को चैक कर सकता है, को ……………….. कहते हैं।
उत्तर-
मैनहोल।

प्रश्न 2.
कॉलम ‘क’ में दिए गए शब्दों का कालम ‘ख’ के साथ मिलान कीजिए-

कॉलम ‘क’ कॉलम ‘ख
(i) व्यर्थ जल शोध के सह-उत्पाद (क) 19 दिसम्बर
(ii) विश्व जल दिवस (ख) मक्खियां तथा मच्छरों का प्रजनन स्थल
(iii) खुले मल-प्रवाह (ग) गार, बायोगैस
(iv) विश्व टायलेट दिवस (घ) 22 मार्च।

उत्तर-

कॉलम ‘क’ कॉलम ‘ख’
(i) व्यर्थ जल शोध के सह-उत्पाद (ग) गार, बायोगैस
(ii) विश्व जल दिवस (घ) 22 मार्च
(iii) खुले मल-प्रवाह (ख) मक्खियां तथा मच्छरों का प्रजनन स्थल
(iv) विश्व टायलेट दिवस (क) 19 दिसम्बर।

प्रश्न 3.
सही विकल्प चुनें-

(i) धरती के नीचे छोटे तथा बढ़े पाइपों के जाल को कहते हैं।
(क) गार
(ख) मल-प्रवाह
(ग) मल विसर्जन प्रणाली
(घ) इनमें से कोई नहीं।
उत्तर-
(ग) मल विसर्जन प्रणाली।

(ii) विश्व जल दिवस मनाया जाता है-
(क) 22 मार्च
(ख) 22 फरवरी
(ग) 22 अप्रैल
(घ) 22 जून।
उत्तर-
(क) 22 मार्च।

(iii) पराबैंगनी विकिरणों को कौन-सी गैस अवशोषित करती है ?
(क) नाइट्रोजन
(ख) ऑक्सीजन
(ग) ओज़ोन
(घ) हाइड्रोजन।
उत्तर-
(ग) ओज़ोन।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 18 अपशिष्ट जल की कहानी

(iv) प्रदूषित पानी से रोग होते हैं ?
(क) पीलिया
(ख) पेचिश
(ग) हैजा
(घ) उपरोक्त सभी।
उत्तर-
(घ) उपरोक्त सभी।

(v) मलेरिया फैल सकता है-
(क) खुली नालियों से-
(ख) बंद नालियों से
(ग) नल से
(घ) पानी की पाइपों से।
उत्तर-(क) खुली नालियों से।

प्रश्न 4.
निम्नलिखित में से ठीक या गलत बताओ-

(i) अवशोषित मल प्रवाह को जल भंडारों में फेंक देना चाहिए।
उत्तर-
ग़लत

(ii) बचे हुए तेल तथा घी को ड्रेन में बहा देना चाहिए।
उत्तर-
ग़लत

(iii) पॉलीथीन के लिफ़ाफे या टुकड़े नालियों में फेंकने से नालियों को बंद कर सकते हैं।
उत्तर-
ठीक

(iv) कचरे को केवल कूड़ेदान में ही फेंकना चाहिए।
उत्तर-
ठीक

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 18 अपशिष्ट जल की कहानी

(v) जल शुद्धिकरण टैंक के तल में बैठे ठोस पदार्थ को गार कहते हैं।
उत्तर-
ठीक।

अति लघु उत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
कौन-सा दिन विश्व जल दिवस के रूप में मनाया जाता है ?
उत्तर-
22 मार्च।

प्रश्न 2.
जल की सफ़ाई से क्या तात्पर्य है ?
उत्तर-
जल की सफ़ाई : अपशिष्ट जल से संदूषकों को पृथक् करने के प्रक्रम को जल की सफ़ाई कहते हैं।

प्रश्न 3.
अपशिष्ट जल को साफ़ करने के प्रक्रम को किस नाम से जाना जाता है ?
उत्तर-
वाहित मल उपचार।

प्रश्न 4.
‘वाहित मल’ कैसे बनता है ?
उत्तर-
वाहित मल घरों, उद्योगों, अस्पतालों, कार्यालयों और अन्य उपयोगों के बाद प्रवाहित किया जाने वाला जल अपशिष्ट या वाहित मल होता है।

प्रश्न 5.
पेचिश फैलाने वाले जीव कौन-से हैं ?
उत्तर-
सूक्ष्म रोगाणु।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 18 अपशिष्ट जल की कहानी

प्रश्न 6.
सीवर किसे कहते हैं ?
उत्तर-
सीवर (Sewerage) – भूमि के अंदर छोटे और बड़े पाइपों का जाल, सीवर कहलाता है।

प्रश्न 7.
पानी के सूक्ष्म जीव कौन-से रसायनों से नष्ट होते हैं ?
उत्तर-
पेंट, तेल, दवाइयां आदि। ।

प्रश्न 8.
ठोस व्यर्थ नालियों में क्यों नहीं फेंकने चाहिए ?
उत्तर-
क्योंकि यह नालियों को प्रदूषित करते हैं तथा ऑक्सीजन के मुक्त प्रवाह को रोकते हैं।

प्रश्न 9.
ऑक्सीजन व्यर्थ जल को किस प्रकार शुद्ध करती है ?
उत्तर-
ऑक्सीजन व्यर्थ जल का निम्नीकरण करती है।

प्रश्न 10.
रोगों के फैलने के दो कारणों के नाम लिखो।
उत्तर-

  1. सफाई ना करना
  2. प्रदूषित जल।

प्रश्न 11.
जिन स्थानों पर मल वाहन की व्यवस्था नहीं है वहां किस प्लांट का उपयोग उपयुक्त है ?
उत्तर-
सेप्टिक टैंक (Septic Tank)।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 18 अपशिष्ट जल की कहानी

लघु उत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
वाहित मल निपटान की प्रणाली पर नोट लिखिए।
उत्तर-
सेप्टिक टैंक, रासायनिक शौचालय, कपोस्टिंग पिट आदि वाहित मल निपटान की वैकल्पिक व्यवस्थाएँ हैं। यह सारी व्यवस्था साधन की कम लागत से तैयार होती है और उन सभी जगहों के लिए उपयुक्त है जहाँ सीवर साधन उपलब्ध नहीं हैं जैसे अस्पताल, अलग-थलग बने भवन अथवा 4 से 5 घरों का समूह।

प्रश्न 2.
घरों में अपशिष्ट जल की मात्रा को कम करने के कुछ उपाय समझाइए।
उत्तर-घरों में अपशिष्ट जल की मात्रा को नियंत्रण करने के उपाय-

  1. नालियों में तेलीय वस्तुएँ, वसा आदि को नहीं बहने देना चाहिए क्योंकि ये वस्तुएँ नालियों को अवरूद्ध कर देती हैं।
  2. पेंट, रसायन, कीटनाशी आदि जल में प्रवाहित नहीं करने चाहिए क्योंकि ये जल शोधन के सूक्ष्मजीव को नष्ट कर देते हैं।
  3. प्रयुक्त चाय पत्ती, बचे हुए ठोस खाद्य पदार्थ, खिलौने, सैनिटरी टावल आदि कूड़ेदान में डालने चाहिए क्योंकि यह ठोस नालियों को अवरूद्ध कर देते हैं।

प्रश्न 3.
वाहित मल क्या है ? अनुपचारित वाहित मल को नदियों अथवा समुद्र में विसर्जित करना हानिकारक क्यों है ? समझाइए। . .
उत्तर-
वाहित मल – यह द्रव रूपी अपशिष्ट है जिसमें अधिकांश घुले हुए और निलंबित अपद्रव्य (संदूषक) होते हैं। यह प्रकृति में जटिल होता है। वाहित मल घरों, उद्योगों, कृषि क्षेत्रों तथा मानव क्रियाकलापों द्वारा उत्पन्न होता है। यह जल तथा भूमि के प्रदूषण का मुख्य कारण है।

अनुपचारित प्रदूषित जल के हानिकारक प्रभाव-

  1. इससे स्वास्थ्य संबंधी खतरे होते हैं।
  2. भूमिगत जल तथा भूमि जल प्रदूषित हो जाते हैं।
  3. जलवाहक रोगों के लिए वाहक का कार्य करता है।

प्रश्न 4.
तेल और वसाओं को नाली में क्यों नहीं बहाना चाहिए ? समझाइए।
उत्तर-
तेल तथा वसा जम कर ठोस बन जाने से पाइप तथा नालियों को बंद कर देते हैं। खुली नालियों में तेल मिट्टी के कणों को जकड़ लेते हैं जिससे उनकी फिल्टर करने की शक्ति कम हो जाती है।

प्रश्न 5.
अपशिष्ट जल से स्वच्छ जल प्राप्त करने के प्रक्रम में सम्मिलित चरणों का वर्णन करें।
उत्तर-
अपशिष्ट जल से स्वच्छ जल प्राप्त करने में चरण-

  1. अपशिष्ट जल में उपस्थित कपड़ों के टुकड़े, डंडियाँ, डिब्बे तथा प्लास्टिक आदि को पृथक् करने के लिए
    अपशिष्ट जल को उर्ध्वाकार लगी छड़ों से बने शलाका छन्ने (बार स्क्रीन) में से गुज़ारा जाता है।
  2. अपशिष्ट जल को ग्रिट तथा रेत अलग करने वाली टैंकी में से गुज़ारा जाता है जहाँ अपशिष्ट जल को कम प्रवाह से छोड़ा जाता है। यहाँ जल में उपस्थित रेत, ग्रिट और कंकड़-पत्थर नीचे बैठ जाते हैं।
  3. अब जल को बड़ी टैंकी में ले जाया जाता है, जिसका पैंदा मध्य भाग में ढलान वाला होता है। इस टैंकी के मध्य भाग में मल तथा तैरने वाले तेल जैसे ठोस टैंकी की तपैंदी के मध्य भाग में बैठ जाते हैं।
  4. अब निर्मलीकृत जल में से पंप द्वारा वायु को गुज़ारा जाता है जिससे उसमें वायकीय जीवाणुओं की वृद्धि होती है। इस प्रकार साफ़ किया गया जल निर्मलीकृत जल कहलाता है।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 18 अपशिष्ट जल की कहानी

प्रश्न 6.
आपंक क्या है ? समझाइए कि इसे कैसे उपचारित किया जाता है ?
उत्तर-
आपंक (Sludge) – यह अपशिष्ट जल को बार स्क्रीन लगी टैंकी जिससे ग्रिट तथा रेत पृथक् की जाती है, में से गुज़ार कर एकत्रित किया गया ठोस मल है।

आपंक का उपचार – आपंक को एक टैंकी में एकत्रित किया जाता है, जहाँ यह अवायवीय जीवाणुओं द्वारा अपघटित हो जाता है। इस प्रक्रम में उत्पन्न होने वाली बायोगैस (जैव गैस) का उपयोग ईंधन के रूप में या बिजली उत्पादन में किया जाता है। शुष्क आपंक को खाद के रूप में उपयोग किया जाता है।

प्रश्न 7.
अनुपचारित मानव मल एक स्वास्थ्य संकट है। समझाइए।
उत्तर-

  1. अनुपचारित मानव मल मच्छर, मक्खी तथा अन्य कीटों का जनन केंद्र बन जाता है।
  2. यह दुर्गंध से भरपूर होता है।
  3. यह भूमि तथा जल को प्रदूषित करता है।
  4. यह अनेक प्रकार के रोगों का वाहक है।

प्रश्न 8.
जल को रोगाणुनाशित (रोगाणु मुक्त) करने के लिए उपयोग किए जाने वाले दो रसायनों के नाम बताइए।
उत्तर-

  1. क्लोरीन और
  2. ओज़ोन।

दीर्घ उत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
वाहित मल उपचार संयंत्र का विवरण दीजिए।
उत्तर-
वाहित मल उपचार संयंत्र – वाहित मल के उपचार में भौतिक, रासायनिक और जैविक प्रक्रम सम्मिलित हैं जो जल को संदूषित करने वाले भौतिक, रासायनिक और जैविक द्रव्यों को पृथक करने में सहायता करते हैं।

(i) शलाका छन्नों में से गुज़ारना – अपशिष्ट जल उर्ध्वाकार लगी छड़ों से बने शलाका छन्नों में से गुज़ारा जाता है ताकि बड़े आकार की अशुद्धियां जैसे कपड़ों के टुकड़े, डिब्बे, प्लास्टिक के थैले आदि पृथक् हो सकें।

(ii) ग्रिट और बालू उपचार टैंक – अपशिष्ट जल को इन टैंकों में से बड़ी से धीमी गति से प्रवाहित किया जाता है ताकि धूल, कंकड़, पत्थर आदि नीचे तल में बैठ जाएँ।

(iii) आपंक को पृथक् करना – अपशिष्ट जल को एक ऐसी टैंकी में डाला जाता है जिसका मध्य भाग ढलान वाला होता है ताकि अपशिष्ट जल में ठोस इस ढलान वाली तली में बैठ जाए। यह तली पर जमा ठोस आपंक कहलाता

इसे खुरच कर बाहर निकाला जाता है। अपशिष्ट जल में तैरने वाली अशुद्धियों (तेल, वसा) को अपमथित्र (स्किमर) द्वारा पृथक् किया जाता है। यह जल निर्मलीकृत जल होता है।

अब दो विभिन्न प्रक्रम अपनाए जाते हैं-
(क) आपंक को एक ऐसी टंकी में स्थानांतरित किया जाता है जहाँ अवायवीय अपघटन हो सके। इस अपघटन में बायोगैस उत्पन्न होती है।

(ख) निर्मलीकृत जल में वायवीय सूक्ष्मजीव बचे हुए मानव अपशिष्ट पदार्थों, खाद्य पदार्थों, साबुन आदि का उपयोग करते हैं। इन जीवों की वद्धि के लिए निर्मलीकृत जल में वायु का प्रवाह किया जाता है। यह सूक्ष्मजीव उपभोग किए हुए पदार्थों के साथ टंकी की तली में बैठ जाते हैं। ऊपर से जल को निकाल दिया जाता है। जमे हुए आपंक को सुखा कर खाद के रूप में उपयोग किया जाता है।

(iv) उपरोक्त जल को या तो किसी जल स्रोतों में डाल दिया जाता है अथवा क्लोरीन या ओज़ोन से उपचारित किया जाता है।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 17 वन: हमारी जीवन रेखा

Punjab State Board PSEB 7th Class Science Book Solutions Chapter 17 वन: हमारी जीवन रेखा Textbook Exercise Questions and Answers.

PSEB Solutions for Class 7 Science Chapter 17 वन: हमारी जीवन रेखा

PSEB 7th Class Science Guide वन: हमारी जीवन रेखा Textbook Questions and Answers

1. खाली स्थान भरें :-

(i) पौधों द्वारा प्रकाश संश्लेषण क्रिया के दौरान …………………….. गैस छोड़ी जाती है।
(ii) ………………… तथा …………………… वनों के लिए दो प्रमुख खतरे हैं।
(iii) बड़े स्तर पर पौधों की पनीरी (Saplings) के रोपण को ………………….. कहते हैं।
उत्तर-
(i) ऑक्सीजन,
(ii) आग, प्रदूषण,
(iii) वन लगाना।

2. निम्नलिखित में सही (√) या गलत (×) लिखें :-

(i) जंतु पौधों को पोषक तत्व (Nutriants) देते हैं।
उत्तर-
ग़लत

(ii) भारत में कुल क्षेत्रफल का केवल 15% ही वन्य क्षेत्र है।
उत्तर-
ग़लत

(iii) घर बनाने के लिए तथा कृषि के लिए वृक्ष काटने को वनों का कटाव (Deforestation) कहते हैं।
उत्तर-
सही

(iv) पशुओं को अधिक चराने (Grazing) से वनों का कटाव होता है।
उत्तर-
सही

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 17 वन: हमारी जीवन रेखा

3. निम्नलिखित कॉलमों में ठीक उत्तरों से मिलान करें :-

कॉलम क कॉलम ख
(i) पौधे (क) जंगल
(ii) नवीनीकरण प्राकृतिक स्रोत (ख) बड़े स्तर पर वृक्ष लगाने की प्रक्रिया
(iii) वृक्ष/वन उगाने (ग) वृक्ष काटना
(iv) वनों का सफाया (घ) उत्पादक

उत्तर-

कॉलम क कॉलम ख
(i) पौधे (घ) उत्पादक
(ii) नवीनीकरण प्राकृतिक स्रोत (क) जंगल
(iii) वृक्ष/वन उगाने (ख) बड़े स्तर पर वृक्ष लगाने की प्रक्रिया
(iv) वनों का सफाया (ग) वृक्ष काटना

4. निम्नलिखित प्रश्नों के बहुवैकल्पिक उत्तरों में सही विकल्प चुनें :-

प्रश्न (i)
इनमें से एक पौधा उत्पाद नहीं है-
(क) प्लाइवुड
(ख) लाख
(ग) कैरोसीन (मिट्टी का तेल)
(घ) गोंद।
उत्तर-
(ग) कैरोसीन (मिट्टी का तेल)।

प्रश्न (ii)
भोजन-श्रृंखला में होते हैं-
(क) उत्पादक तथा शाकाहारी ।
(ख) उत्पादक तथा मांसाहारी
(ग) उत्पादक तथा अपघटक
(घ) उत्पादक, शाकाहारी तथा मांसाहारी।
उत्तर-
(घ) उत्पादक, शाकाहारी तथा मांसाहारी।

प्रश्न (iii)
जीवाणु तथा फफूंदी होते हैं-
(क) अपघटक
(ख) शाकाहारी
(ग) सर्वाहारी
(घ) मांसाहारी।
उत्तर-
(क) अपघटक।

प्रश्न (iv)
सूक्ष्म-जीव, मृतजीवों पर क्रिया करके पैदा करते हैं-
(क) ह्यूमस
(ख) लकड़ी
(ग) रेत
(घ) उपर्युक्त सभी।
उत्तर-
(क) ह्यूमस।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 17 वन: हमारी जीवन रेखा

5. अति लघूत्तर प्रश्न :-

प्रश्न (i)
धरती के थल भाग का लगभग कितना क्षेत्र वनों से ढका हुआ है ?
उत्तर-
लगभग 13% पृथ्वी का थल भाग जंगलों से भरा हुआ है।

प्रश्न (ii)
परिस्थितिक परितंत्र क्या होता है ?
उत्तर-
परिस्थितिक परितंत्र – सजीव तथा उनका पर्यावरण/वातावरण मिलकर परिस्थितिक परितंत्र बनाते हैं। पौधे, जंतु तथा सूक्ष्मजीव परिस्थितिक परितंत्र के जैविक अंश हैं।

प्रश्न (iii)
वृक्ष/वन उगाना क्या होता है ?
उत्तर-
वृक्ष या वन उगाना – काटे गए वृक्षों की प्रति पूर्ति करने के लिए बड़े स्तर पर वृक्ष लगाने की प्रक्रिया को वन उगाना कहते हैं।

प्रश्न (iv)
विश्व तापन किस कारण होता है ?
उत्तर-
विश्व तापन का कारण – विश्व तापन का मुख्य कारण मानव की गतिविधियां हैं जिसके कारण वातावरण में ग्रीन हाऊस गैसों का प्रभाव बढ़ जाता है। ग्रीन हाऊस गैसों में मुख्य गैसें-कार्बन डाईआक्साइड, मीथेन, नाइट्रस आक्साइड, ओजोन तथा क्लोरोफ्लोरो कार्बन आदि गैसें शामिल हैं।

6. लघूत्तर प्रश्न :-

प्रश्न (i)
भोजन श्रृंखला के आधार पर पौधों तथा जंतुओं की पारस्परिक निर्भरता का वर्णन करो।
उत्तर-
पौधों तथा जंतुओं की पारस्परिक निर्भरता – पौधों की भांति मनुष्य तथा जंतु अपना भोजन स्वयं नहीं बना सकते। पौधे ही मनुष्यों तथा जंतुओं के लिए भोजन उत्पन्न करते हैं। इससे छोटे पौधे जंगली जंतुओं जैसे-चमगादड़, गिलहरी तथा चींटियों के लिए आवास तथा सुरक्षा प्रदान करते हैं। उदाहरण के तौर पर गर्मी के मौसम में पौधे तथा वृक्ष बहुत-से जंतुओं को छाया प्रदान करते हैं।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 17 वन: हमारी जीवन रेखा

प्रश्न (ii)
भूमि-संरक्षण में वन कैसे मदद करते हैं ?
उत्तर-
जंगलों में बहुत-से पौधे, झांड़ियां तथा वृक्ष हैं जो अपनी जड़ों से जंगल की मिट्टी की ऊपरी परत को जकड़ कर रखते हैं। यह प्राकृतिक शक्तियां जैसे पवन तथा बाढ़ को ऊपरी उपजाऊ परत को बहाकर अपने साथ नहीं ले जाने देती तथा मिट्टी की पानी रोकने की क्षमता बनी रहती है। इसलिए भूमि-संरक्षण में जंगल सहायक हैं।

प्रश्न (iii)
ऐसे दो उदाहरण दें जिनसे यह पता चले कि पौधे जंतुओं पर निर्भर करते हैं।
उत्तर-

  1. जंतुओं द्वारा श्वास क्रिया दौरान छोड़ी गई कार्बनडाइआक्साइड पौधों द्वारा प्रकाश संश्लेषण प्रक्रिया के लिए प्रयोग की जाती है। इस प्रक्रिया में पौधे कार्बनडाइऑक्साइड से सूर्य प्रकाश की उपस्थिति में अपना भोजन तैयार करते हैं।
  2. एक स्थान पर ज्यादा पौधे उगने के कारण पौधों का भोजन के लिए मुकाबला होता है। जिससे पौधों को बाधा तथा जीवन खतरे में आ जाता है। इसलिए एक-एक स्थान पर पौधे न उगाएं। जंतु उनके फल तथा बीजों को दूर-दूर तक खिलारने में मदद करते हैं।

प्रश्न (iv)
वन बाढ़ों को कैसे रोकते हैं ? व्याख्या करें।
उत्तर-
वन, वर्षा जल को प्राकृतिक रूप से अवशोषित करने का कार्य करते हैं। यह वर्षा के जल को सीधा धरती पर नहीं गिरने देते जिसमें जल धरती में समाता नहीं परंतु धीरे-धीरे रिसाव होता रहता है। जिस कारण नदियों के पानी के बहाव पर नियंत्रण रहता है। इस प्रकार वन के आस-पास के क्षेत्रों में वृक्ष वर्षा का अनुकूल सन्तुलन बना कर रखते हैं जिस कारण बाढ़ों पर रोक लगती है।

प्रश्न (v)
ऐसे पाँच उत्पादों के नाम लिखें जो हम वनों से प्राप्त करते हैं ?
उत्तर-
वनों से प्राप्त होने वाले उत्पाद-

  1. वनों में उगने वाले पौधों से हमें कई प्रकार सूखे मेवे तथा मसाले मिलते हैं।
  2. हम बनों में साल, टीक, रोजवुड आदि वृक्षों से इमारती लकड़ी प्राप्त करते हैं।
  3. वनों से हम ईंधन प्राप्त करते हैं तथा गत्ता तथा कागज उद्योग वनों पर निर्भर है।
  4. वनों से हम पेंट बनाने के लिए बरोजा, रबड़ बनाने के लिए लेटेक्स प्राप्त करते हैं।
  5. वनों से हम घास की कई प्रजातियां प्राप्त करते हैं।

7. निबंधात्मक प्रश्न :-

प्रश्न (i)
वन काटना/ नष्ट करना क्या है ? वन नष्ट होने के अलग-अलग कारणों की व्याख्या करो।
उत्तर-
मानव आबादी की ज़रूरतें जैसे-रोटी, कपड़ा, मकान, सड़कें, रेलवे लाइनें बनाने के लिए बड़े स्तर पर वृक्षों को काटना जंगलों को स्थायी तौर पर नष्ट करना है।

वन नष्ट होने के कारण-

  1. बढ़ती जनसंख्या के लिए भोजन की मांग पूरी करने के लिए कृषि योग्य भूमि को बड़े क्षेत्रफल की आवश्यकता होती है जिसके लिए बड़े स्तर पर वृक्षों या जंगलों को काटा जाता है।
  2. पालतू पशुओं को अधिक चराना।
  3. खदानों की अधिक खुदाई करना।
  4. जल भराव तथा अधिक सिंचाई करने से पृथ्वी के नीचे के पानी का स्तर नीचे जाने से वृक्ष मुरझा जाते हैं तथा अंत में मर कर सूख जाते हैं।
  5. ईंधन के लिए लकड़ी कागज़ निर्माण के लिए वृक्षों को काटने से।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 17 वन: हमारी जीवन रेखा

प्रश्न (ii)
वनों के क्या लाभ हैं ?
उत्तर-
वनों के लाभ – मनुष्य अपनी आवश्यकता की पूर्ति करने के लिए प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष तौर पर वनों पर निर्भर है। इसलिए वन हमारे जीवन में महत्त्वपूर्ण योगदान देते हैं। –

  1. पौधों तथा वृक्षों की जड़ें मिट्टी के कणों को जकड़ कर रखती हैं और मिट्टी को बहने और उड़ने से बचाती हैं। फलस्वरूप वन भूमि-अपरदन और बाढ़ को रोकते हैं।
  2. वनों में उगने वाले पौधों से हमें अनेक प्रकार के सूखे मेवे और मसाले प्राप्त होते हैं।
  3. जंगली वृक्षों और पौधों द्वारा वाष्पोत्सर्जन होने के कारण हवा में जलवाष्पों की मात्रा बढ़ती है। जिससे इर्द-गिर्द की वायु ठंडी रहती है। यह वर्षा लाने में सहायक होते हैं।
  4. वनों से हमें बोजा, रबड़ बनाने के लिए लेटैक्स, पशुओं के लिए चारा, टोकरी उद्योग के लिए बांस और कागज़ उद्योग और पशुओं के चारे के लिए घास प्राप्त होती है।
  5. वन हमें आयुर्वेदिक दवाइयां तैयार करने के लिए नीम, सफेदा, आंवले तथा सिनकोना प्रदान करते हैं।
  6. वन के पौधे तथा वृक्ष प्रकाश-संश्लेषण प्रक्रिया दौरान हवा में उपस्थित कार्बन-डाइऑक्साइड की मात्रा कम करके हरा-गृह प्रभाव कम करते हैं फलस्वरूप विश्व-तापन भी कम होता है।
  7. वनों से हमें फर्नीचर और घर की खिड़कियां, दरवाज़े बनाने के लिए लकड़ी उपलब्ध होती है।

प्रश्न (ii)
जंतु, पौधों पर कैसे निर्भर करते हैं ? व्याख्या करें।
उत्तर-
जंतुओं की पौधों पर निर्भरता-

  1. भोजन जो ऊर्जा का स्रोत है, पौधों की पत्तियों, फूलों और अन्य पौधे के उत्पादों से प्राप्त होता है।
  2. जंतुओं को श्वास क्रिया के लिए आवश्यक ऑक्सीजन पौधों से प्राप्त होती है जो पौधे प्रकाश-संश्लेषण क्रिया के दौरान छोड़ते हैं।
  3. जंतु धूप और वर्षा से बचाव के लिए बड़े वृक्षों से निवास स्थान प्राप्त करते हैं।
  4. पक्षी, वृक्षों पर अपने आश्रय के लिए घोंसले बनाते हैं तथा छोटे पक्षियों को आश्रय प्रदान करते हैं।
  5. जंगली जीव घनी झाड़ियों तथा घनी झाड़ियों में छुप कर स्वयं को शिकार से बचाते हैं।

प्रश्न (iv)
वनों के संरक्षण के लिए कौन-कौन से कदम उठाए जा सकते हैं ?
उत्तर-
वनों के संरक्षण के लिए उठाने योग्य कदम-

  1. ईंधन के रूप में लकड़ी का उपयोग कम करना चाहिए तथा खाना पकाने के लिए एल०पी०जी० या बायोगैस का उपयोग करना चाहिए।
  2. फ़र्नीचर या इमारत बनाने के लिए काटे गए वृक्षों की प्रति पूर्ति के लिए अधिक-से-अधिक नये वृक्ष लगाने चाहिए ताकि भविष्य में वनों की कमी महसूस न हो।
  3. वनों में लगने वाली आग से बचने के लिए अच्छे आग बुझाने वाले यंत्र/उपकरण प्रयोग करने चाहिए।
  4. सरकार को हर वर्ष बड़े स्तर पर वृक्ष लगाने के लिए कदम उठाने चाहिए।

PSEB Solutions for Class 7 Science वन: हमारी जीवन रेखा Important Questions and Answers

वस्तुनिष्ठ प्रश्न

प्रश्न 1.
रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए-

(i) कीट, तितलियाँ, मधुमक्खियाँ और पक्षी, पुष्पीय पादपों की ……………………… में सहायता करते हैं।
उत्तर-
परागण

(ii) वन परिशुद्ध करते हैं …………………. और ……………………. को।
उत्तर-
जल, वायु

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 17 वन: हमारी जीवन रेखा

(iii) शाक वन में ……………………… परत बनाते हैं।
उत्तर-
निम्न

(iv) वन में क्षयमान पत्तियाँ और जंतुओं की लीद …………….. को समृद्ध करते हैं।
उत्तर-
धरती

(v) वृक्ष प्रकाश संश्लेषण प्रक्रिया के समय हवा में …………….. की मात्रा घटा कर हरित गृह प्रभाव कम करते
उत्तर-
कार्बनडाइऑक्साइड।

प्रश्न 2.
कॉलम क में दिए गए शब्दों का कॉलम ख के साथ मिलान कीजिए-

कॉलम ‘क’ कॉलम ‘ख’
(i) वृक्ष नियंत्रित करते हैं (क) भोजन श्रृंखला
(ii) जन्तु (ख) भूमि-अपरदन तथा बाढ़ रोकते हैं
(iii) वृक्ष (ग) प्रकाश संश्लेषण
(iv) जन्तुओं द्वारा श्वास क्रिया दौरान कार्बन डाइऑक्साइड (घ) जलवायु
(v) भोजन जाल (ङ) फूलों का परागण।

उत्तर-

कॉलम ‘क’ कॉलम ‘ख’
(i) वृक्ष नियंत्रित करते हैं (घ) जलवायु
(ii) जन्तु (ङ) फूलों का परागण
(iii) वृक्ष (ख) भूमि-अपरदन तथा बाढ़ रोकते हैं
(iv) जन्तुओं द्वारा श्वास क्रिया दौरान कार्बन डाइऑक्साइड (ग) प्रकाश संश्लेषण कार्बन डाइऑक्साइड
(v) भोजन जाल (क) भोजन श्रृंखला

प्रश्न 3.
सही विकल्प चुनें-

(i) जंगल में मिलने वाले जंतु सहायक होते हैं-
(क) जंगलों की वृद्धि के लिए
(ख) बाढ़ से बचाव के लिए
(ग) ऑक्सीजन तथा कार्बनडाइऑक्साइड का संतुलन बनाने के लिए
(घ) इसमें से कोई नहीं।
उत्तर-
(क) जंगलों की वृद्धि के लिए।

(ii) वातावरण में आक्सीजन तथा कार्बन डाइआक्साइड बनाते हैं-
(क) जंतु
(ख) पौधे तथा वृक्ष
(ग) अपघटक
(घ) केवल मांसाहारी।
उत्तर-
(ख) पौधे तथा वृक्ष।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 17 वन: हमारी जीवन रेखा

(iii) जंगलों की तबाही बढ़ाएगी-
(क) ऑक्सीजन की मात्रा
(ख) कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा
(ग) नाइट्रोजन की मात्रा
(घ) इनमें से कोई नहीं।
उत्तर-
(ख) कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा।

(iv) जंगल सफाई तथा शुद्धिकरण करते हैं-
(क) जल का
(ख) हवा
(ग) जल तथा हवा दोनों का
(घ) जल, हवा तथा मिट्टी का।
उत्तर-
(ग) जल तथा हवा दोनों का।

(v) निम्नलिखित में से कौन-सा वन उत्पाद नहीं है ?
(क) गोंद
(ख) प्लाईवुड
(ग) सील करने की लाख
(घ) कैरोसीन।
उत्तर-
(घ) कैरोसीन।

(vi) निम्नलिखित में से कौन-सा वक्तव्य सही नहीं है ?
(क) वन, मृदा को अपरदन से बचाते हैं।
(ख) वन में पादप और जंतु एक-दूसरे पर निर्भर नहीं होते हैं।
(ग) वन जलवायु और जल चक्र को प्रभावित करते हैं।
(घ) मृदा, वनों की वृद्धि और पुनर्जनन में सहायक होती है।
उत्तर-
(ख) वन में पादप और जंतु एक-दूसरे पर निर्भर नहीं होते हैं।

प्रश्न 4.
निम्नलिखित कथनों में से ठीक/गलत बताएं-

(i) वन ऐसे क्षेत्र हैं जहां जीव-जंतु तथा घने पौधे तथा वृक्ष होते हैं।
उत्तर-
ठीक

(ii) भारत का 11 प्रतिशत क्षेत्र जंगलों के अधीन है।
उत्तर-
ग़लत,

(iii) पौधे, जंतु तथा सूक्ष्म जीव पारिस्थितिक प्रबंध के जैविक (तत्व) घटक हैं।
उत्तर-
ठीक

(iv) उत्पादक → शाकाहारी → मांसाहारी एक भोजन श्रृंखला (चक्र) है।
उत्तर-
ठीक

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 17 वन: हमारी जीवन रेखा

(v) वृक्ष किसी स्थान के जलवायु को नियंत्रित नहीं करते हैं।
उत्तर-
ग़लत,

(vi) वन भूमि अपरदन तथा बाढ़ को रोकने के लिए सहायता करते हैं।
उत्तर-
ठीक।

अति लघु उत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
वन का व्यापक दृश्य क्या है ?
उत्तर-
वन – ऐसा क्षेत्र, जहाँ भूमि दिखाई न दे और वृक्षों के शिखरों से ढका हुआ हरा क्षेत्र ही दिखाई दे।

प्रश्न 2.
वनों में कैसी परिस्थितियां पाई जाती हैं ?
उत्तर-
शांत और ठंडी हवा से भरी हुई।

प्रश्न 3.
कौन-सी मानव गतिविधियाँ जंतुओं को परेशान करती हैं ?
उत्तर-
शोर (Noise)।

प्रश्न 4.
जंतुओं का मानव के वन में प्रवेश समय कैसा व्यवहार होता है ?
उत्तर-
जंतु परेशान हो जाते हैं।

प्रश्न 5.
वनों में कौन-से जंतु पाए जाते हैं ?
उत्तर-
कीट, मकड़ियाँ, गिलहरियाँ, चीटियां, सूक्ष्मजीव।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 17 वन: हमारी जीवन रेखा

प्रश्न 6.
प्रो० अहमद कौन थे ?
उत्तर-
विश्वविद्यालय के वैज्ञानिक।

प्रश्न 7.
वन में पाए जाने वाले जंतुओं के नाम बताओ।
उत्तर-
बंदर, पक्षी, गीदड़, भालू आदि।

प्रश्न 8.
वन में पाए जाने वाले विभिन्न वृक्षों के नाम लिखिए।
उत्तर-
साल, टीक, सेमल, शीशम, नीम, पलाश, अंजीर, रैता, आँवला, बाँस, कचनार आदि।

प्रश्न 9.
वन में पाए जाने वाले पादप कैसे वर्गीकृत किए जाते हैं ?
उत्तर-
वृक्ष, शाक, झाड़ियाँ, घास, लताएँ आदि।

लघु उत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
वनों में पानी का जमाव नहीं होता क्यों ?
उत्तर-
वन वर्षा के जल के प्राकृतिक अवशोषक के रूप में कार्य करते हैं और जल को अवस्रावित होने देते हैं। यह वर्ष भर भौम स्तर को बनाए रखने में सहायक होते हैं, बल्कि नदियों में जल के प्रवाह को बनाए रखने में भी सहायक होते हैं, जिससे हमें जल की सतत् आपूर्ति मिलती है। इसलिए वनों में जल का जमाव नहीं होता।

प्रश्न 2.
वनों की मृदा में पोषक तत्त्व अधिक क्यों होते हैं ?
उत्तर-
वनों की मृदा पोषकों से भरपूर होती है, क्योंकि मृत और गले-सड़े जीव-जंतुओं और पादपों के अपघटन से पूरी सतह पोषकों से भरपूर बनती है।

प्रश्न 3.
समझाइए कि वनों में कुछ व्यर्थ नहीं होता है।
उत्तर-
वन कई प्रकार के जीव-जंतुओं के आवास हैं। वे मलमूत्र विसर्जित करते हैं और मरते हैं, फिर भी वनों में कुछ व्यर्थ नहीं जाता। क्योंकि ये मृत शरीर बाज़ों, चीलों आदि के भोजन हैं, जबकि अपशिष्ट व्यर्थ (मलमूत्र और मृत शरीरों के अवशेष) सूक्ष्मजीवों और कवकों द्वारा सरल पोषकों में परिवर्तित हो जाते हैं, जिनकी धरती को अति आवश्यकता है।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 17 वन: हमारी जीवन रेखा

प्रश्न 4.
ऐसे पाँच उत्पादों के नाम बताइए, जिन्हें हम वनों से प्राप्त करते हैं।
उत्तर-
वनों के उत्पाद-

  1. लकड़ी
  2. ऑक्सीजन
  3. दवाइयाँ (जड़ी-बूटियाँ)
  4. वर्षा
  5. लाख, गूंद, रेजिन आदि।

प्रश्न 5.
समझाइए कि वन में रहने वाले जंतु किस प्रकार वनों की वृद्धि करने और पुनर्जनन में सहायक होते हैं ?
उत्तर-
जंतु वनों में रहते हैं। वे इन पर प्रत्यक्ष (शाकाहारी) या अप्रत्यक्ष (माँसाहारी) रूप से निर्भर करते हैं। दोनों ही तरह वे पौधों का उपयोग करते हैं और उनके शरीरों द्वारा निकाला गया मलमूत्र अपघटकों द्वारा अपघटित होकर सरल पदार्थों में परिवर्तित हो जाता है। सरल पदार्थ पुनः धरती में शोषित हो जाते हैं और पादपों की वृद्धि में सहायक होते हैं।

जीव-जंतु परागकणों और बीजों को वन के विभिन्न भागों में फैलाने में सहायक होते हैं, जिससे विभिन्न प्रकार के पौधे विभिन्न क्षेत्रों में उगते हैं। इस तरह वन पुनः जीवन में सहायक होते हैं।

प्रश्न 6.
अपघटक किन्हें कहते हैं ? इनमें से किसी दो के नाम बताइए। वे वन में क्या करते हैं ?
उत्तर-
अपघटक – वे सूक्ष्मदर्शी जीव जो मृत जीव-जंतुओं और पादपों के शरीरों को सरल पदार्थों में परिवर्तित करते हैं, अपघटक (Decomposers) कहलाते हैं।
जीवाणु कवक अपघटकों का मुख्य कार्य वनों में वृद्धि करते पादपों को पोषक तत्त्व उपलब्ध कराना है।

प्रश्न 7.
वायुमंडल में ऑक्सीजन और कार्बन डाइऑक्साइड के बीच संतुलन को बनाए रखने में वनों की भूमिका को समझाइए।
उत्तर-
वन, एक विशाल क्षेत्र है, जो विभिन्न प्रकार के वृक्षों से ढका हुआ है। वृक्ष हरे रंग के होते हैं। उनकी पत्तियाँ सूर्य की किरणें, वायुमंडलीय कार्बन डाइऑक्साइड जल से प्रकाश संश्लेषण क्रिया द्वारा ऑक्सीजन उत्सर्जित करती हैं, जो जंतुओं द्वारा उपयोग की जाती हैं। इस तरह वायुमंडल में ऑक्सीजन और कार्बन डाइऑक्साइड का संतुलन बना रहता है।
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 17 वन हमारी जीवन रेखा 1

प्रश्न 8.
हमें अपने से दूर स्थित वनों से संबंधित परिस्थितियों और मृदा के विषय में चिंतित होने की क्यों आवश्यकता है ?
उत्तर-
वन, प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से मनुष्य जीवन को प्रभावित करते हैं। वे बाढ़ को रोकते हैं और वर्षा लाने में सहायक हैं। यह वायुमंडल में ऑक्सीजन और कार्बन डाइऑक्साइड का संतुलन बनाए रखते हैं। वे जीवन के कई महत्त्वपूर्ण उत्पादों के दाता हैं। वे कई जीव-जंतुओं को आवास, भोजन और सुरक्षा प्रदान करते हैं। वे भोजन श्रृंखला का एक भाग हैं। इसलिए हमें अपने से दूर स्थित वनों से संबंधित परिस्थितियों और मुद्दों के विषय में चिंतित होने की आवश्यकता है।

प्रश्न 9.
समझाइए कि वनों में विभिन्न प्रकार के जंतुओं और पादपों के होने की आवश्यकता क्यों है ?
उत्तर-
वनों में विभिन्न प्रकार के पादप शाकाहारी जीवों को भोजन और आवास के अवसर प्रदान करते हैं। शाकाहारियों की अधिक संख्या का अर्थ है, विभिन्न प्रकार के माँसभक्षियों के लिए भोजन की अधिक उपलब्धता। जंतुओं की विविध किस्में वन के पुनर्जनन और वृद्धि में सहायक होती हैं। अपघटक वन में उगने वाले पादपों के लिए पोषक तत्त्वों की आपूर्ति को बनाए रखते हैं। इस प्रकार वन एक गतिक सजीव इकाई है जो जीवन और जीवन क्षमता से भरपूर है।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 17 वन: हमारी जीवन रेखा

दीर्घ उत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
वनों के महत्त्व का वर्णन करो और वन अपरोपण के दुष्प्रभाव लिखो।
उत्तर-
वन एक प्राकृतिक पारिस्थितिक तंत्र है। वन पृथ्वी पर जीवन बनाए रखने के लिए आवश्यक हैं। वनों के लाभ

  1. पादप और जंतुओं का आवास।
  2. सूक्ष्म जीवों और जंतुओं को भोजन प्रदान करता है।
  3. जल-चक्र का नियंत्रण।
  4. पृथ्वी का तापमान संतुलन करना।
  5. मृदा अपरदन रोकना।
  6. ऑक्सीजन और कार्बन डाइऑक्साइड का संतुलन बनाए रखना।

वन अपरोपण के दुष्प्रभाव-

  1. अनियमित वर्षा।
  2. भू-सपंदन।
  3. जंगली वन्य जीवन का अलोप होना।
  4. मृदा किस्म में कमी।
  5. हरित ग्रह प्रभाव में वृद्धि और विश्व तापन में वृद्धि।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 16 जल: एक बहुमूल्य संसाधन

Punjab State Board PSEB 7th Class Science Book Solutions Chapter 16 जल: एक बहुमूल्य संसाधन Textbook Exercise Questions and Answers.

PSEB Solutions for Class 7 Science Chapter 16 जल: एक बहुमूल्य संसाधन

PSEB 7th Class Science Guide जल: एक बहुमूल्य संसाधन Textbook Questions and Answers

1. रिक्त-स्थानों की पूर्ति कीजिए :-

(i) जो जल हम पीते हैं वह ………………….. अवस्था में होता है।
उत्तर-
द्रव

(ii) भूमि में जल के रिस कर जाने के प्रक्रम को …………………… कहते हैं।
उत्तर-
इनफिल्ट्रेशन

(iii) भौम-जल का ऊपरी सतह को ………………… कहते हैं।
उत्तर-
असंतृप्त क्षेत्र

(iv) ………………….. का अर्थ है जल का हर संभव बढ़िया ढंग से प्रयोग।
उत्तर-
प्रबन्धन

(v) किसान ……………………. प्रयोग करके जल को किफायती ढंग से प्रयोग कर सकते हैं।
उत्तर-
बूंद सिंचाई प्रणाली।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 16 जल: एक बहुमूल्य संसाधन

2. निम्नलिखित में से सही या गलत बताएँ :-

(i) जल चक्र पृथ्वी पर जल की उपस्थिति को कायम रखने में मददगार है।
उत्तर-
सही

(ii) धरती पर मौजूद कुल जल का लगभग 97% जल खारा है।
उत्तर-
ग़लत

(iii) जल की रिसती पाइपों और नलों की शीघ्र मरम्मत करनी चाहिए।
उत्तर-
सही

(iv) हम बहुत तीव्रता से विश्व-स्तरीय जल संकट की ओर बढ़ रहे हैं।
उत्तर-
सही

(v) ब्रुश करते समय नल को निरंतर न चलाएँ।
उत्तर-
सही

3. निम्नलिखित में सही विकल्पों का मिलान कीजिए :-

कॉलम ‘क’ कॉलम ‘ख’
(i) बर्फ (क) समुद्र एवं महासागर
(ii) खारा पानी (ख) नदियाँ और छप्पड़
(iii) ताज़ा पानी (ग) जल की गैसीय अवस्था
(iv) जल वाष्प (घ) जल का सबसे शुद्ध रूप
(v) वर्षा का जल (ङ) जल की ठोस अवस्था ।

उत्तर-

कॉलम ‘क’ कॉलम ‘ख’
(i) बर्फ (ङ) जल की ठोस अवस्था
(ii) खारा पानी (क) समुद्र एवं महासागर
(iii) ताज़ा पानी (घ) जल का सबसे शुद्ध रूप
(iv) जल वाष्प (ग) जल की गैसीय अवस्था
(v) वर्षा का जल (ख) नदियाँ और छप्पड़

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 16 जल: एक बहुमूल्य संसाधन

4. बहु-विकल्पों (MCQ) में से सही उत्तर चुनिए :-

प्रश्न (i)
इनमें से भौम जल की कमी के लिए कौन सा कारक उत्तरदायी है ?
(क) बढ़ती जनसंख्या
(ख) बढ़ते हुए उद्योग
(ग) जंगलों की कटाई ।
(घ) उपरोक्त सभी।
उत्तर-
(घ) उपरोक्त सभी।

प्रश्न (ii)
पंजाब में भौम-जल संरक्षण कानून कब पास हुआ ?
(क) 2009
(ख) 2010
(ग) 2008
(घ) 2015.
उत्तर-
(क) 2009.

प्रश्न (iii)
प्रत्येक वर्ष विश्व-जल दिवस कब मनाया जाता है ?
(क) 22 अप्रैल
(ख) 24 मार्च
(ग) 22 मार्च
(घ) 22 मई।
उत्तर-
(ख) 24 मार्च।

प्रश्न (iv)
धरती पर मौजूद कुल जल का लगभग …………………………. जल समुद्रों एवं महासागरों में है।
(क) 75%
(ख) 71%
(ग) 81%
(घ) 29%.
उत्तर-
(ख) 71%.

प्रश्न (v)
……………………. करते समय नल को चलता न रखें।
(क) ब्रुश करते समय
(ख) शेव करते समय
(ग) नहाते समय
(घ) उपरोक्त सभी।
उत्तर-
(घ) उपरोक्त सभी।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 16 जल: एक बहुमूल्य संसाधन

5. अति लघूत्तर प्रश्न :-

प्रश्न (i)
भौम जल क्या है ?
उत्तर-
भौम-जल – यह पृथ्वी की ऊपरी पर्त के नीचे मिट्टी के कणों में दरारों, टूटी चट्टानों के भीतर इक्ट्ठा हुआ जल है। यह जल अपने आप झरने के रूप में ऊपर पृथ्वी पर आ जाता है। इस जल को ट्यूबवैल द्वारा पृथ्वी की ऊपरी सतह पर लाया जा सकता है।

प्रश्न (ii)
समुद्रों एवं महासागरों का जल पीने योग्य क्यों नहीं होता ?
उत्तर-
समुद्रों तथा महासागरों का जल पीने योग्य नहीं होता क्योंकि इसमें अधिक मात्रा में नमक घुला होता है। एक लीटर समुद्री पानी में 35 ग्राम नमक घुला होता है। इस पानी को पीने से निर्जलीकरण, गुर्दे फेल, बेहोशी तथा मौत भी हो सकती है।

प्रश्न (iii)
जलीय चट्टानी परतें क्या होती हैं ?
उत्तर-
जलीय चट्टानी परतें – कई स्थानों पर वॉटर लेबल से भी नीचे सख़्त चट्टानों की पर्ते होती हैं जिनके बीच में भूमि-जल इकट्ठा होता है। इन चट्टानों की पर्तों को जलीय चट्टानी परतें कहते हैं।

प्रश्न (iv)
जल की कौन-सी अवस्थाएँ हैं ?
उत्तर-
जल निम्नलिखित तीन अवस्थाओं में पाया जाता है :

  1. ठोस (बर्फ रूप में)
  2. द्रव (साधारण जल)
  3. गैस (वाष्पों के रूप में)।

प्रश्न (v)
भौम-जल की प्रतिपूर्ति कैसे होती है ?
उत्तर-
भौम जल की प्रतिपूर्ति-

  1. वर्षा के जल का प्रयोग पृथ्वी के निचले भूमि-जल की प्रतिपूर्ति के लिए किया जा सकता है।
  2. खेतों में किसान, बूंद सिंचाई प्रणाली द्वारा जल की बचत कर सकते हैं। ऐसा करने से भी भूमि-जल की प्रतिपूर्ति हो सकती है।
  3. प्रशासनिक अधिकारी जल-सप्लाई की पाइपों में से जल रिसाव रोकने से भूमि-जल की प्रतिपूर्ति हो सकती है।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 16 जल: एक बहुमूल्य संसाधन

6. लघूत्तर प्रश्न :-

प्रश्न (i)
कुछ ऐसी मानवीय गतिविधियाँ लिखें, जिनसे जल बर्बाद होता है ?
उत्तर-
निम्नलिखित मानवीय गतिविधियों से जल बर्बाद होता है-

  1. बहते हुए नल को छोड़कर दाँत साफ़ करने के लिए ब्रश करना तथा शेव करना।
  2. गर्मियों के मौसम में दोपहर को पौधों को पानी देना। यदि प्रात:काल 5 से 7 के बीच पानी दिया जाए तो जल का वाष्पीकरण कम होगा।
  3. रसोई के बर्तनों को बहते नल के नीचे धोने से अधिक जल की आवश्यकता होगी।
  4. डिश वॉशर से बर्तन धोना जबकि डिशवॉशर पूरी तरह बर्तनों से नहीं भरी है।
  5. कपड़ों को धोना जब कपड़े धोने वाली मशीन पूरी तरह कपड़ों से नहीं भरी हुई है।
  6. बहते नल के नीचे बैठकर नहाना या फिर लंबे समय तक फुहारे के नीचे बैठ कर नहाना।

प्रश्न (ii)
आप बगीचे में जल की खपत कैसे कम करोगे ? .
उत्तर-

  1. अपने बगीचे में सिंचाई गर्मियों के मौसम में सुबह या शाम को अर्थात् दोपहर के बाद करने से पानी की खपत कम हो जाएगी क्योंकि इस समय जल का वाष्पीकरण कम होगा।
  2. बगीचे की सिंचाई बूंद सिंचाई प्रणाली या सप्रिंकलर से करने से अधिक जल की आवश्यकता नहीं होती तथा जल की बर्बादी नहीं होगी।

प्रश्न (iii)
जल हमारे लिए कैसे महत्त्वपूर्ण है ? ।
उत्तर-
जल की महत्ता – पृथ्वी के सबसे महत्त्वपूर्ण स्रोतों में एक जल है। सभी जीवों के जीवित रहने के लिए जल की आवश्यकता होती है। पीने के अतिरिक्त मनुष्य को खाना बनाने के लिए, नहाने, कपड़े धोने, बर्तन धोने, दाँत साफ़ करने, घर तथा अन्य स्थान साफ़ करने तथा पौधों को जल देने जैसे अनेकों कार्य करने के लिए जल की आवश्यकता होती है। जल का उपयोग बिजली पैदा करने, खेतीबाड़ी के कार्यों में, उद्योगों में सामान तैयार करने के लिए, तैराकी जैसी मनोरंजक क्रियाओं के लिए जल की आवश्यकता होती है।

प्रश्न (iv)
जनसंख्या में वृद्धि भौम-जल की कमी के लिए कैसे ज़िम्मेदार है ?
उत्तर-
मनुष्य की आबादी (जनसंख्या) तीव्रता से बढ़ रही है। जैसे-जैसे आबादी बढ़ रही है उसी प्रकार रोज़मर्रा की आवश्यकताओं के लिए पृथ्वी जल की मांग बढ़ती जा रही है। प्रायः पृथ्वी के निचले जल का प्रयोग घरों, दुकानों, दफ्तरों, सड़कों तथा रेल पटड़ियों के निर्माण तथा अन्य कई कामों में किया जाता है। ऐसे निर्माण से वर्षा के जल का पृथ्वी में रिसाव होने वाले क्षेत्र भी कम हो रहे हैं। इस प्रकार हम पृथ्वी के निचले जल का उपयोग ही नहीं कर रहे बल्कि पृथ्वी के नीचे रिसने वाले जल को भी कम कर रहे हैं। फलस्वरूप भूमि-जल स्तर नीचे चला जाता है। बढ़ती आबादी की आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए अधिक उद्योग स्थापित करने की आवश्यकता होती है तथा इसके लिए पृथ्वी के निचले जल (भूमि-जल) की आवश्यकता अधिक होती है जिससे भूमि-जल स्तर गिरता चला जाता है। बढ़ती आबादी की ज़रूरतों की पूर्ति के लिए ही वृक्ष काटे जाते हैं जिससे जल-चक्र बिगड़ जाता है। यही कारण है कि पृथ्वी के नीचे जल की मात्रा कम हो रही है तथा भूमि-जल स्तर में कमी हो रही है।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 16 जल: एक बहुमूल्य संसाधन

प्रश्न (v)
यदि पौधों को कुछ दिन जल न मिले तो वे पहले मुरझाते और बाद में क्यों सूख जाते हैं ?
उत्तर-
कई दिनों के बाद जब वर्षा नहीं हो रही, एक गर्म दिन में जितना जल पौधे को मिल रहा है उससे अधिक उससे वाष्प-उत्सर्जन के कारण नुकसान हो रहा है। पौधे के पत्तों के सैलों तथा तने का निर्जलीकरण होता है, जिससे पौधा सीधा न रहकर मुरझा जाता है तथा कुछ समय बाद वह मर जाता है।

7. निबंधात्मक प्रश्न :-

प्रश्न (i)
जल संरक्षण के लिए आप क्या कदम उठाएंगे ?
उत्तर-
जल संरक्षण के लिए कदम-

  1. पाइपों तथा नल में से रिसते जल को रोकना।
  2. दाँतों को ब्रश करते समय या शेव करते समय जल के नल को बंद रखें।
  3. फ़र्श को जल से धोने की बजाय पोचा लगाकर तथा इस प्रकार प्रयोग किए जल को पौधों में डालना या फिर उस जल को टॉयलट में डालना चाहिए।
  4. सब्ज़ियों तथा फलों को बहते नल के नीचे धोने की बजाय बड़े बर्तन में जल डालकर धोने तथा बाद में उस जल को पौधों में डालना चाहिए।
  5. अपने वाहनों (कार-स्कूटर) को बहते जल से धोने के स्थान पर बाल्टी में जल लेकर धोना चाहिए।
  6. वर्षा जल को इकट्ठा करके उस जल का प्रयोग भिन्न कार्यों के प्रयोग में करना चाहिए।
  7. नये पौधों को वर्षा की ऋतु में लगाना चाहिए।
  8. लोगों को जल संरक्षण के बारे में जागरूक करके जल की संभाल के ढंगों तथा जल को प्रदूषित न करने के बारे में सचेत करना चाहिए।

Science Guide for Class 7 PSEB जल: एक बहुमूल्य संसाधन Intext Questions and Answers

सोचें और उत्तर दें :-(पेज़ 195)

प्रश्न 1.
ऐसी तीन गतिविधियाँ लिखो जिनके दौरान सबसे अधिक जल बर्बाद होता है।
उत्तर-

  1. जल के पाइप का लीक होना।
  2. बर्तनों को बहते पानी से धोना।
  3. कम कपड़ों के लिए कपड़े धोने वाली मशीन का प्रयोग करना।

प्रश्न 2.
क्या हमें जल की बर्बादी पर नियंत्रण करना चाहिए ? यदि हाँ, तो क्यों ?
उत्तर-
हमें पानी की बर्बादी पर नियंत्रण करना चाहिए। पानी के उपयोग को कम करने से पानी को साफ़ करके घरों, व्यापारिक स्थानों, खेती के फार्मों तथा सामाजिक संस्थानों को पहुँचाने के लिए ऊर्जा कम लगती है। ऐसा करने से प्रदूषण कम होता है तथा ईंधन की भी बचत होती है। इससे मनोरंजक क्रियाओं के लिए भी जल उपलब्ध हो जाता है।

सोचें और उत्तर दें:-(पेज़ 196)

प्रश्न 1.
………………….. ऐसी प्रक्रिया है जिसके दौरान जल द्रव अवस्था से गैसीय अवस्था में परिवर्तित होता है।
उत्तर-
वाष्पीकरण।

प्रश्न 2.
…………………….. ऐसी प्रक्रिया है जिसके दौरान जल गैसीय अवस्था से द्रव अवस्था में परिवर्तित होता है।
उत्तर-
संघनन

सोचें और उत्तर दें:-(पेज 197)

प्रश्न 1.
कौन सा बीकर भौम जल को प्रदर्शित करता है ?
उत्तर-
बीकर में लिया गया जल।

प्रश्न 2.
कौन-सा बीकर पृथ्वी के थल पर उपस्थित सतही जल की मात्रा को प्रदर्शित करता है ?
उत्तर-
बीकर (घ) में लिया गया जल धरती तल पर सतही जल दर्शाता है।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 16 जल: एक बहुमूल्य संसाधन

PSEB Solutions for Class 7 Science जल: एक बहुमूल्य संसाधन Important Questions and Answers

वस्तुनिष्ठ प्रश्न

प्रश्न 1.
रिक्त स्थानों की उचित शब्द भरकर पूर्ति कीजिए-

(क) भौम जल प्राप्त करने के लिए …………………. तथा ……………….. का उपयोग होता है।
उत्तर-
ट्यूबवैल, संछिद्रण पाइप

(ख) जल की तीन अवस्थाएं ……………………….., ………………………. और …………………….. हैं।
उत्तर-
ठोस, द्रव, गैस

(ग) भूमि की जल वाली परत ………………….. कहलाती है।
उत्तर-
भौम जल स्तर

(घ) भूमि में जल के अवस्रवण के प्रक्रम को …………………. कहते हैं।
उत्तर-
अतःस्पंदन

(v) मनुष्य के शरीर का ……………………………. भाग जल है।
उत्तर-
70%

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 16 जल: एक बहुमूल्य संसाधन

(vi) पृथ्वी पर मौजूद कुल जल का लगभग ……………. प्रतिशत जल खारा है।
उत्तर-
97%

रश्न 2.
कॉलम क में दिए शब्दों को कॉलम ख में दिए गए वाक्यों से मिलाइए-

कॉलम ‘क’ कॉलम ‘ख’
(i) भूमि जल स्तर का गिरना (क) खेतों में किसान जल की बचत कर सकते हैं
(ii) पृथ्वी पर जल की कुल मात्रा कायम रखना (ख) जलीय चट्टानी परत
(iii) तुष्का सिंचाई प्रणाली (ग) जल चक्र
(iv) वॉटर टेबल के नीचे चट्टानों की परतों के बीच पानी (घ) बढ़ती आबादी, बढ़ते उद्योग, जंगलों का कटना।

उत्तर-

कॉलम ‘क’ कॉलम ‘ख’
(i) भूमि जल स्तर का गिरना (घ) बढ़ती आबादी, बढ़ते उद्योग, जंगलों का कटना
(ii) पृथ्वी पर जल की कुल मात्रा कायम रखना (ग) जल चक्र
(iii) तुष्का सिंचाई प्रणाली (क) खेतों में किसान जल की बचत कर सकते हैं
(iv) वॉटर टेबल के नीचे चट्टानों की परतों के बीच पानी (ख) जलीय चट्टानी परत ।

3. सही उत्तर के सामने (√) का निशान लगाएं-

(i) पानी की कुल मात्रा कहां स्थिर होती है ?
(क) संसार की सभी झीलों और नदियों में पानी की कुल मात्रा नियत/स्थिर रहती है।
(ख) भूमि के नीचे जल की कुल मात्रा स्थिर रहती है।
(ग) संसार के समुद्रों और महासागरों में जल की कुल मात्रा स्थिर है।
(घ) संसार में जल की कुल मात्रा स्थिर है।
उत्तर-
(घ) संसार में जल की कुल मात्रा स्थिर है।

(ii) नीचे लिखे में से कौन-सा कारक जल की कमी के लिए जिम्मेवार नहीं है ?
(क) औद्योगिकरण में वृद्धि
(ख) बढ़ती जनसंख्या
(ग) बहुत अधिक वर्षा
(घ) जल के साधनों का बुरा प्रबंध।
उत्तर-
(ग) बहुत अधिक वर्षा ।

(iii) धरती की सतह की प्रतिशत भाग जो जल से ढ़का हुआ है-
(क) 20%
(ख) 29%
(ग) 71%
(घ) 30%.
उत्तर-
(ग) 71%.

(iv) दुनिया के कुल ताजे जल की प्रतिशत मात्रा मानवीय प्रयोग के लिए उपलब्ध हैं।
(क) 0.003%
(ख) 1%
(ग) 71%
(घ) इनमें से कोई नहीं ।
उत्तर-
(ख) 1%.

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 16 जल: एक बहुमूल्य संसाधन

प्रश्न 4.
नीचे लिखे कथन ठीक हैं या गलत-

(i) भूमि संसार भर की नदियों और झीलों में मिलने वाले जल से बहुत ज्यादा है।
उत्तर-
ठीक

(ii) जल की कमी की समस्या का सामना केवल गांवों के निवासी करते हैं।
उत्तर-
गलत

(iii) नदियों का जल खेतों में सिंचाई का एक मात्रा साधन है।
उत्तर-
गलत

(iv) वर्षा शुद्ध जल की एकमात्र साधन है।
उत्तर-
ठीक।

अति लघु उत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
विश्व का जल किन स्थानों पर मिलता है ?
उत्तर-
महासागरों और समुद्रों में।

प्रश्न 2.
जल के विभिन्न स्रोतों के नाम लिखिए।
उत्तर-
जल के विभिन्न स्रोत-

  1. वर्षा जल,
  2. कुएँ,
  3. नदियाँ,
  4. तालाब,
  5. झीलें,
  6. समुद्र,
  7. महासागर।

प्रश्न 3.
कौन-सा दिवस विश्व जल दिवस के रूप में मनाया जाता है ?
उत्तर-
22 मार्च।

प्रश्न 4.
जल दिवस का महत्त्व क्या है ?
उत्तर-
लोगों का जल संरक्षण के महत्त्व की ओर ध्यान आकर्षित करना।

प्रश्न 5.
क्या जल हर जगह उपलब्ध है ?
उत्तर-
नहीं, जल का वितरण विश्व में समान नहीं है।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 16 जल: एक बहुमूल्य संसाधन

प्रश्न 6.
जलवाष्य क्या है ?
उत्तर-
जलवाष्प-जल का गैसीय रूप।

प्रश्न 7.
शहरों में जल की आपूर्ति कैसे होती है ?
उत्तर-
पाइपों के विशेष क्रम से बिछाए जाल द्वारा।

प्रश्न 8.
भौम जल स्तर क्या है ?
उत्तर-
भौम जल स्तर – चट्टानों की दरारों में अथवा चट्टानों के ऊपर एकत्रित जल की ऊपरी परत को भौम जल स्तर कहते हैं।

प्रश्न 9.
वनोन्मूलन जल स्तर के नीचे गिरने में कैसे सहाई है ?
उत्तर-
वनोन्मूलन से जल रिसाव का क्षेत्र कम हो जाता है।

प्रश्न 10.
कच्ची सतह अथवा पक्की सतह में कौन-सी जल का रिसाव आजल से होने देती है ?
उत्तर-
कच्ची सतह।

प्रश्न 11.
रेगिस्तान क्या है ?
उत्तर-
रेगिस्तान वे क्षेत्र हैं, जहाँ वर्षा अल्प मात्रा में होती है।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 16 जल: एक बहुमूल्य संसाधन

प्रश्न 12.
बाढ़ के क्या कारण हैं ?
उत्तर-
अत्यधिक वर्षा।

प्रश्न 13.
जब वर्षा नहीं होती तो क्या होता है ?
उत्तर-
वर्षा न होने के कारण सूखा पड़ जाता है।

प्रश्न 14.
बाहर में कीमती जल के नुक्सान को रोकने में कौन जिम्मेदार है ?
उत्तर-
नागरिक प्राधिकरण।

प्रश्न 15.
NGO का पूरा नाम क्या है ?
उत्तर-
NGO – गैर सरकारी संगठन (Non Government Organisation)

लघु उत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
प्रकृति में जल कैसे पाया जाता है ?
उत्तर-
जल धरती पर पाई जाने वाली सभी वस्तुओं में से सबसे अधिक मात्रा और विभिन्न क्षेत्रों में पाया जाने वाला पदार्थ हैं। यह प्रकृति में निम्न जगहों में पाया जाता है-

  1. कुओं, सागरों, झीलों, नदियों आदि में।
  2. वर्षा जल और भौम जल के रूप में।
  3. ठंडे क्षेत्रों में बर्फ और हिम के रूप में।
  4. वायुमंडल में जल वाष्पों के रूप में।

प्रश्न 2.
वर्षा जल संग्रहण क्या है ? इसकी क्या आवश्यकता है ?
उत्तर-
वर्षा जल संग्रहण – वर्षा जल को बड़े टैंकों में एकत्रित करने के प्रक्रम को वर्षा जल संग्रहण कहते हैं।

आवश्यकता-

  1. जल की उपलब्धता बढ़ाने के लिए।
  2. उचित समय पर उपयोग करने के लिए।

प्रश्न 3.
जल की क्षति के कौन-कौन से कारण हैं ?
उत्तर-

  1. निरंतर नलों का जल बहता रहना।
  2. पाइपों के जाल द्वारा जल की आपूर्ति ।

प्रश्न 4.
यदि पादपों की कुछ दिन सिंचाई न की जाए तो क्या होगा ?
उत्तर-
पादप सूख कर मर जाएँगे।

दीर्घ उत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
चित्र की सहायता से जलचक्र प्रक्रिया को समझाओ।
उत्तर-
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 16 जल एक बहुमूल्य संसाधन 1
जल चक्र – भिन्न-भिन्न प्राकृतिक विधियों द्वारा पृथ्वी के ऊपर जल की लगातार उपल्ब्धता बनी रहती है। यह सभी विधियां इकट्ठे रूप में जल चक्र का निर्माण करती हैं। जल चक्र के दौरान जल अपनी तीनों अवस्थाओं- (i) ठोस (ii) द्रव (iii) गैस में से किसी भी अवस्था में पृथ्वी पर मिल जाता है। पृथ्वी पर उपलब्ध भूमि जल स्रोतों-समुद्र, तलाब, नदियों, झीलों आदि से जल सूरज के ताप द्वारा वाष्प बन कर ऊपर उठता है तथा वायुमंडल में मौजूद रहता है। यह जल वाष्प संघनित होकर बादल का जल बनाते हैं तथा पृथ्वी पर वर्षा के रूप में पृथ्वी के ध्रुवों पर तथा पहाड़ों पर गलेशियरों के रूप में होता है। यह इकट्ठे होकर सारी प्रक्रिया जल चक्र का निर्माण करती है।

  1. भौमिक जल
  2. वाष्पीकरण
  3. संघनन
  4. बादल
  5. वाष्प उत्सर्जन
  6. वर्षा।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 16 जल: एक बहुमूल्य संसाधन

प्रश्न 2.
भूमि जल स्तर के नीचे गिरने के लिए ज़िम्मेदार कारकों के बारे में समझए।
उत्तर-
भूमि जल स्तर के नीचे गिरने के लिए ज़िम्मेदार कारक-

  1. जनसंख्या में वृद्धि
  2. औद्योगिक तथा कृषि गतिविधियां
  3. कम वर्षा
  4. जंगलों का कटना
  5. जल के सोखने के लिए आवश्यक क्षेत्र की कमी आदि।

कुछ कारक है जो भूमि जल स्तर को नीचे करने के लिए ज़िम्मेदार हैं-

1. जनसंख्या में वृद्धि – जनसंख्या बढ़ने में इमारतों, दुकानों, दफ्तरों, सड़कों तथा अन्य कई संस्थानों के निर्माण की मांग बढ़ जाती हैं। इससे कृषि योग्य भूमि तथा खेलों के मैदान जैसे खुले क्षेत्रों में कमी आ जाती है। इस कारण भूमि में वर्षा के जल की अवशोषित दर कम होती है। इस कारण भूमि जल स्तर कम हो रहा है।

2. बढ़ते उद्योग – सब उद्योगों द्वारा जल का उपयोग हो रहा है। उपयोग में आने वाली हर वस्तु के उत्पादन में जल
की आवश्यकता होती है। अधिकतर उद्योगों द्वारा उपयोग किया जाने वाला जल भूमि में से निकाला जाता है।

3. कृषि कार्य – बहुत सारे किसान फसलों की सिंचाई के लिए वर्षा पर निर्भर करते हैं। अनियमित वर्षा के कारण जल की उपलब्धता में कमी हो जाती है। इसलिए किसानों को सिंचाई के लिए भूमि जल का प्रयोग करना पड़ता है। जनसंख्या की वृद्धि के कारण कृषि के लिए भूमि जल का प्रयोग दिन-प्रति-दिन बढ़ता जा रहा है। इसके फलस्वरूप भूमि जल स्तर लगातार नीचे गिरता जा रहा है।

4. जल का अनुचित प्रबंध – पाइपों द्वारा जल की सप्लाई करते समय पाइपों में रिसाव होता रहता है जिस कारण काफी जल का नुक्सान हो जाता है तथा भूमि जल स्तर में गिरावट का कारण होता है। अनुचित जल प्रबंध या बर्बादी व्यक्तिगत स्तर पर भी हो सकती है जैसे लीक कर रहे नलके को ठीक न करवाने से भी जल का रिसाव होता है।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 15 प्रकाश

Punjab State Board PSEB 7th Class Science Book Solutions Chapter 15 प्रकाश Textbook Exercise Questions and Answers.

PSEB Solutions for Class 7 Science Chapter 15 प्रकाश

PSEB 7th Class Science Guide प्रकाश Textbook Questions and Answers

1. खाली स्थान भरें:-

(i) ……………….. दर्पण द्वारा बनाए गए प्रतिबिम्ब का आकार वस्तु के आँख के बराबर होता है।
उत्तर-
समतल

(ii) समतल दर्पण में व्यक्ति का बायाँ हाथ प्रतिबिम्ब का ……………………. हाथ नज़र आता है तथा …………………….. हाथ प्रतिबिम्ब का बायाँ हाथ नज़र आता है।
उत्तर-
दायाँ, दायाँ

(iii) उत्तल दर्पण के लिए सदैव ………………………. तथा आकार में वस्तु से …………………… प्रतिबिम्ब प्राप्त होगा।
उत्तर-
सीधा, छोटा

(iv) उत्तल लेंस किनारों की अपेक्षा बीच में से …………………… होता है। अवतल लेंस किनारों की अपेक्षा बीच में से ………………….. होता है।
उत्तर-
मोटा, पतला

(v) प्रिज्म सफेद प्रकाश को …………………….. रंगों में अलग कर देता है।
उत्तर-
सात।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 15 प्रकाश

2. निम्नलिखित के लिए ठीक या ग़लत लिखें :-

(i) एक लेंस में से प्रकाश का परावर्तन होता है।
उत्तर-
ग़लत

(ii) समतल दर्पण की ओर आ रही प्रकाश की किरण को परावर्तित किरण कहते हैं।
उत्तर-
ग़लत

(iii) समतल दर्पण द्वारा बनाया गया प्रतिबिम्ब सदैव दर्पण के सामने बनता है।
उत्तर-
ग़लत

(iv) एक अवतल दर्पण काँच के खोखले गोले का एक भाग है, जिसकी बाहरी उभरी हुई सतह पर एक चमकीली चाँदी के रंग की परत होती है तथा इसकी भीतरी सतह से परावर्तन होता है।
उत्तर-
ठीक

(v) अवतल लेंस सदैव वस्तु का सीधा, आभासी तथा वस्तु से छोटा प्रतिबिम्ब बनाता है।
उत्तर-
ठीक

3. कॉलम मिलान करें :-

कॉलम-I कॉलम-II
(i) दाँतों के डॉक्टर द्वारा प्रयोग किए जाने वाला दर्पण (क) ऐनकें
(ii) पीछे देखने वाला दर्पण (ख) सूक्ष्मदर्शी
(iii) आवर्धक लेंस (ग) वाहन
(iv) अवतल लेंस (घ) अवतल।

उत्तर-

कॉलम-I कॉलम-II
(i) दाँतों के डॉक्टर द्वारा प्रयोग किए जाने वाला दर्पण (घ) अवतल
(ii) पीछे देखने वाला दर्पण (ग) वाहन
(iii) आवर्धक लेंस (ख) सूक्ष्मदर्शी
(iv) अवतल लेंस (क) ऐनकें

4. बहु वैकल्पिक उत्तरों वाले प्रश्न :-

प्रश्न (i)
इनमें से कौन-सा प्रकाश का परिवर्तन नहीं करता ?
(क) समतल दर्पण
(ख) अवतल दर्पण
(ग) उत्तल दर्पण
(घ) गत्ते का टुकड़ा।
उत्तर-
(घ) गत्ते का टुकड़ा।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 15 प्रकाश

प्रश्न (ii)
इनमें से क्या कारों तथा अन्य वाहनों में पीछे देखने वाले दर्पण के रूप में प्रयोग किया जाता है ?
(क) अवतल दर्पण
(ख) उत्तल दर्पण
(ग) उत्तल लेंस
(घ) अवतल लेंस।
उत्तर-
(ख) उत्तल दर्पण।

प्रश्न (iii)
अवतल लेंस वस्तु का कौन-सा प्रतिबिम्ब बनाता है ?
(क) वास्तविक तथा छोटा
(ख) आभासी तथा बड़ा
(ग) वास्तविक तथा बड़ा
(घ) आभासी तथा छोटा।
उत्तर-
(घ) आभासी तथा छोटा।

प्रश्न (iv)
सफ़ेद प्रकाश के किसी प्रिज्म में से प्रवाहित होकर सात रंगों में अलग होने की प्रक्रिया को क्या कहते हैं ?
(क) प्रकाश का परावर्तन
(ख) प्रकाश का अपवर्तन
(ग) प्रकाश का मुड़ना
(घ) प्रकाश का वर्ण-विक्षेपण।
उत्तर-
(घ) प्रकाश का वर्ण-विक्षेपण।

5. अति लघूत्तर प्रश्न :-

प्रश्न (i)
समतल दर्पण द्वारा बना प्रतिबिम्ब वास्तविक होता है या आभासी ?
उत्तर-
समतल दर्पण द्वारा बनाया प्रतिबिम्ब आभासी होता है।

प्रश्न (ii)
कौन-सा लेंस वस्तु का वास्तविक प्रतिबिम्ब बनाता है ?
उत्तर-
उत्तल लेंस वस्तु का वास्तविक प्रतिबिम्ब बनाता है।

प्रश्न (iii)
उत्तल लेंस किस यन्त्र में प्रयोग होता है ?
उत्तर-
उत्तल लेंस सूक्ष्मदर्शी में प्रयोग होता है।

प्रश्न (iv)
सतरंगी झूले वाले सात रंगों की डिस्क को क्या कहते हैं ?
उत्तर-
सतरंगी झूले वाले सात रंगों वाली डिस्क को ‘न्यूटन डिस्क’ कहते हैं।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 15 प्रकाश

6. लघूत्तर प्रश्न :-

प्रश्न (i)
वास्तविक तथा आभासी प्रतिबिम्ब में अन्तर बताएं तथा उदाहरण दें।
उत्तर-
वास्तविक तथा आभासी प्रतिबिम्ब में अन्तर-
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 15 प्रकाश 1

प्रश्न (ii)
एक व्यक्ति समतल दर्पण से 5 मीटर दूरी पर खड़ा है। उसका प्रतिबिम्ब कितनी दूरी पर बनेगा ?
(क) दर्पण से
(ख) व्यक्ति से।
हल :
हम जानते हैं कि समतल दर्पण में बन रहा प्रतिबिम्ब दर्पण के पीछे उतनी ही दूरी पर बनता है जितनी दूरी पर वस्तु दर्पण के सामने होती हैं। इसलिए-

(क) प्रतिबिम्ब की समतल दर्पण से दूरी = व्यक्ति की समतल दर्पण से दूरी
∴ प्रतिबिम्ब की समतल दर्पण से दूरी = 2 मीटर उत्तर।

(ख) प्रतिबिम्ब की व्यक्ति से दूरी = व्यक्ति की समतल दर्पण से दूरी + प्रतिबिम्ब की समतल दर्पण से दूरी।
= 2 मीटर + 2 मीटर
∴ प्रतिबिम्ब की व्यक्ति से दूरी = 4 मीटर उत्तर।

प्रश्न (iii)
अवतल दर्पण के दो उपयोग लिखें।
उत्तर-
अवतल दर्पण के दो उपयोग –

  1. अवतल दर्पण को शेविंग दर्पण के रूप में प्रयोग किया जाता है। दाढ़ी बनाते समय, अवतल दर्पण बड़ा तथा सीधा प्रतिबिम्ब बनाता है जब इसे चेहरे के पास लाया जाता है।
  2. अवतल दर्पण को अधिकतर वाहनों की अग्र-बत्ती (हैड लाइट) के रूप में प्रयोग किया जाता है। इसमें बल्ब प्रकाश स्रोत को अवतल दर्पण के मुख्य फोकस पर रखा जाता है, जिससे परावर्तन के बाद प्रकाश किरणें समानान्तर किरणों का पुंज बन जाता है।

प्रश्न (iv)
उत्तल तथा अवतल लेंस में अन्तर बताएं।
उत्तर-
उत्तल तथा अवतल लेंस में अन्तर-

उत्तल लैंस अवतल लैंस
(1) यह बीच में से मोटा तथा किनारों से पतला होता है। (1) यह बीच में से पतला तथा किनारों से मोटा होता है।
(2) इसमें वस्तु का वास्तविक तथा बड़ा प्रतिबिम्ब बनता है। (2) इसमें छोटा तथा आभासी प्रतिबिम्ब बनता है।

प्रश्न (v)
सफ़ेद प्रकाश में कितने रंग होते हैं ? उनके नाम बताएं।
उत्तर-
सफ़ेद प्रकाश में सात रंग होते हैं। इनके नाम इस प्रकार हैं-

  1. बैंगनी (Violet),
  2. जामुनी (Indigo),
  3. नीला (Blue),
  4. हरा (Green),
  5. पीला (Yellow),
  6. संतरी (Orange),
  7. लाल (Red)।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 15 प्रकाश

7. निबंधात्मक प्रश्न :-

प्रश्न (i)

समतल दर्पण द्वारा बनाए गए प्रतिबिम्ब के लक्षणों के बारे में व्याख्या करें।
उत्तर-
समतल दर्पण द्वारा बनाए गए प्रतिबिम्ब के लक्षण-

  1. जलती हुई मोमबत्ती (वस्तु) का प्रतिबिम्ब दर्पण के पीछे दिखाई देता है। इसलिए, समतल दर्पण द्वारा बनाया प्रतिबिम्ब हमेशा दर्पण के पीछे बनता है।
  2. हम मोमबत्ती का प्रतिबिम्ब दर्पण के पीछे रखी हुई स्क्रीन पर प्राप्त नहीं कर सकते क्योंकि समतल दर्पण द्वारा बनाया गया प्रतिबिम्ब आभासी होता है।
  3. जब हम जलती हुई मोमबत्ती को सीधा खड़ी करते हैं तथा प्रतिबिम्ब भी सीधा बनता है। इससे पता लगता है कि समतल दर्पण में बना प्रतिबिम्ब सीधा होता है।
  4. जब हम मोमबत्ती तथा समतल दर्पण द्वारा बने उसके प्रतिबिम्ब के आकार की तुलना करते हैं तो दोनों ही एक जैसे होते हैं। इससे पता लगता है कि समतल दर्पण द्वारा बनाये प्रतिबिम्ब का आकार वस्तु के आकार के बराबर होता है।
  5. मोमबत्ती तथा दर्पण के मध्य दूरी मोमबत्ती के प्रतिबिम्ब तथा दर्पण के मध्य दूरी के बराबर होती है अर्थात् समतल दर्पण द्वारा बनाया गया प्रतिबिम्ब दर्पण के पीछे उतनी ही दूरी पर बनता है, जितनी दूरी पर वस्तु दर्पण के सामने रखी होती है।
  6. समतल दर्पण द्वारा बनाया गया प्रतिबिम्ब उल्टा होता है। अर्थात् वस्तु का बायाँ भाग प्रतिबिम्ब का दायां तथा वस्तु के दाएं भाग का प्रतिबिम्ब बायाँ भाग बन जाता है।

प्रश्न (ii)
प्रकाश के वर्ण-विक्षेपण से क्या अभिप्राय है ? प्रिज्म का प्रयोग करके व्याख्या करें। कौन-सा प्राकृतिक व्यवहार प्रकाश के वर्ण-विक्षेपण के साथ जुड़ा है ?
उत्तर-
वर्ण-विक्षेपण- सफेद प्रकाश का किसी पारदर्शी पदार्थ (कांच के प्रिज्म) में से गुजरने के बाद उसका सात रंगों में विभाजित होने की प्रक्रिया को वर्ण-विक्षेपण कहते हैं।
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 15 प्रकाश 2
एक सफेद प्रकाश किरण पुंज को प्रिज्म में से गुजारो जैसा कि चित्र में दर्शाया गया है। प्रिज्म के दूसरी तरफ एक सफेद पर्दा (स्क्रीन) रखो। आप देखोगे कि सफेद प्रकाश सात रंगों में विभाजित हो गया है। इन रंगों से स्क्रीन पर प्राप्त हुई सात रंगों की पट्टी (Band) बन गई है, जिसको
पीला स्पैक्ट्रम कहते हैं। सात रंगों की तरंग लंबाई अलग-अलग होने के कारण यह सातों रंग भिन्न-भिन्न कोणों पर मुड़ते कांच का प्रिज्म हैं। यह सात रंग हैं-

  1. बैंगनी (Violet),
  2. जामुनी (Indigo),
  3. नीला (Blue),
  4. हरा (Green),
  5. पीला (Yellow),
  6. संतरी (Orange),
  7. लाल (Red)।

हम इन नामों को इनके पहले अक्षरों से बने शब्द द्वारा याद रख सकते हैं। जैसे—(VIBYGOR)।

वर्ण-विक्षेपण पर आधारित प्राकतिक व्यवहार – आपने वर्षा के बाद आकाश में बनता इन्द्रधनुष देखा होगा। यह सूर्य के सफेद प्रकाश की किरणों का वायुमण्डल में लटकती पानी की बूंदों में से हुए वर्ण-विक्षेपण के कारण बनता है। इसमें पानी की बूंदें प्रिज्म की तरह कार्य करती हैं तथा सफेद प्रकाश को सात रंगों में विभाजित कर देती हैं।

Science Guide for Class 7 PSEB प्रकाश Intext Questions and Answers

सोचें तथा उत्तर दें :-(पृष्ठ 180)

प्रश्न 1.
दर्पण पर टकराने के बाद प्रकाश द्वारा अपनी दिशा बदलने की क्रिया को ………………… कहते हैं।
उत्तर-
परावर्तन।

प्रश्न 2.
आपतन कोण, परावर्तन कोण के बराबर होता है। (सही/ग़लत)
उत्तर-
सही।

सोचें तथा उत्तर दें:-(पृष्ठ 183)

प्रश्न 1.
दर्पण के सामने रखी वस्तु की दर्पण से दूरी तथा दर्पण के पीछे प्रतिबिम्ब की दर्पण से दूरी …………………. होती है।
उत्तर-
बराबर।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 15 प्रकाश

प्रश्न 2.
एक ग्राफ़ पेपर के वर्गों के आकार भिन्न-भिन्न होते हैं। (सही/ग़लत)
उत्तर-
ग़लत।

प्रश्न 3.
समतल दर्पण को ग्राफ़ पेपर से सीधा खड़ा करना चाहिए। (सही/ग़लत)
उत्तर-
सही।

सोचें तथा उत्तर दें:-(पृष्ठ 185)

प्रश्न 1.
अवतल दर्पण द्वारा दीवार पर बनाया सूर्य का प्रतिबिम्ब एक ………………………. प्रतिबिम्ब है। (वास्तविक/आभासी)
उत्तर-
वास्तविक।

प्रश्न 2.
हम एक मोमबत्ती का प्रतिबिम्ब एक स्क्रीन पर प्राप्त कर सकते हैं। (सही/ग़लत)
उत्तर-
सही।

सोचें तथा उत्तर दें:-(पृष्ठ 186)

प्रश्न 1.
जब वस्तु अवतल दर्पण से बहुत ज्यादा दूर हो तो प्रतिबिम्ब तथा ………………………. होता है।
उत्तर-
वास्तविक, उल्टा।

प्रश्न 2.
स्क्रीन पर बना प्रतिबिम्ब वास्तविक होता है। (सही/ग़लत)
उत्तर-
सही।

प्रश्न 3.
अवतल दर्पण के लिए सदैव वास्तविक प्रतिबिम्ब बनता है। (सही/ग़लत)
उत्तर-
ग़लत।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 15 प्रकाश

सोचें तथा उत्तर दें:-(पृष्ठ 188)

प्रश्न 1.
कागज़ पर मिलने वाला प्रकाश का चमकदार निशान …………………. का प्रतिबिम्ब है।
उत्तर-
सूरज।

प्रश्न 2.
कागज़ पर मिलने वाला प्रतिबिम्ब आभासी प्रतिबिम्ब है। (सही/ग़लत)
उत्तर-
ग़लत।

सोचें तथा उत्तर दें :-(पृष्ठ 189)

प्रश्न 1.
उत्तल लेंस को वस्तु तथा स्क्रीन के बीच रखा जाता है। (सही/ग़लत)
उत्तर-
सही।

प्रश्न 2.
उत्तल लेंस के लिए बनने वाला प्रतिबिम्ब सदैव वास्तविक होता है। (सही/ग़लत)
उत्तर-
ग़लत।

सोचें तथा उत्तर दें:-(पृष्ठ 191)

प्रश्न 1.
सफ़ेद प्रकाश ……………………… रंगों का बना होता है।
उत्तर-
सात।

प्रश्न 2.
जब सात रंगों वाली डिस्क को घुमाया जाता है, तो यह लाल नज़र आती है। (सही/ग़लत)
उत्तर-
ग़लत।

प्रश्न 3.
सात रंगों के नाम क्रमशः बताओ, जिनसे मिलकर सफ़ेद प्रकाश बनाता है।
उत्तर-
सफ़ेद प्रकाश के सात रंग-

  1. बैंगनी (Violets),
  2. जामुनी (Indigo),
  3. नीला (Blue),
  4. हरा (Green),
  5. पीला (Yellow),
  6. संतरी (Orange),
  7. लाल (Red)।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 15 प्रकाश

PSEB Solutions for Class 7 Science प्रकाश Important Questions and Answers

वस्तुनिष्ठ प्रश्न

प्रश्न 1.
रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए-

(i) प्रकाश …………………… रेखा में चलता है।
उत्तर-
सीधी

(ii) आपतन कोण तथा …………………… आपस में सदैव समान होता है।
उत्तर-
परावर्तन कोण

(iii) जिस प्रतिबिम्ब को पर्दे पर प्राप्त किया जा सके, उसको ……………….. प्रतिबिम्ब कहते हैं।
उत्तर-
वास्तविक

(iv) समतल दर्पण द्वारा बनाया गया प्रतिबिम्ब …………………… तथा ………………….. आकार वाला होता है।
उत्तर-
सीधा, समान

(v) ………………….. ऐसा गोलाकार दर्पण जिसकी परावर्तक सतह बाहर की ओर उभरी होती है।
उत्तर-
उत्तल दर्पण

(vi) ………………….. दर्पण का प्रयोग सर्चलाइट, टार्च, कार की हैडलाइट में परावर्तक के रूप में किया जाता
है।
उत्तर-
अवतल

(vii) उत्तल दर्पण द्वारा वस्तु का प्रतिबिम्ब सदैव आभासी, सीधा तथा वस्तु से …………………… बनता है।
उत्तर-
छोटा।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 15 प्रकाश

प्रश्न 2.
कॉलम ‘क’ में दिए शब्दों को कॉलम ‘ख’ में दिए गए वाक्यों से मिलाइए

कॉलम ‘क’ कॉलम ‘ख’
(i) उत्तल लेंस (क) इन्द्रधनुष
(ii) वास्तविक, उल्टा तथा समान आकार का प्रतिबिंब (ख) अवतल दर्पण
(iii) वर्ण-विक्षेपण प्रक्रिया (ग) आर्वधक लेंस
(iv) आभासी प्रतिबिंब (घ) उत्तल लेंस
(v) परावर्तक सतह अंदर की ओर होती है। (ङ) पर्दे पर प्राप्त नहीं किया जा सकता

उत्तर-

कॉलम ‘क’ कॉलम ‘ख’
(i) उत्तल लेंस (ग) आर्वधक लेंस
(ii) वास्तविक, उल्टा तथा समान आकार का प्रतिबिंब (घ) उत्तल लेंस
(iii) वर्ण-विक्षेपण प्रक्रिया (क) इन्द्रधनुष
(iv) आभासी प्रतिबिंब (ङ) पर्दे पर प्राप्त नहीं किया जा सकता
(v) परावर्तक सतह अंदर की ओर होती है। (ख) अवतल दर्पण

3. सही उत्तर के सामने (√) का निशान लगाइए-

(i) प्रकाश गमन करता है-
(क) सरल रेखा में
(ख) वक्र रेखा में
(ग) वृत्तों में
(घ) उपरोक्त में से कोई भी नहीं।
उत्तर-
(क) सरल रेखा में।

(ii) सीधा, आभासी तथा वस्तु के आकार से छोटा प्रतिबिंब बनाता है-
(क) समतल दर्पण
(ख) अवतल दर्पण
(ग) उत्तल दर्पण
(घ) उत्तल-अवतल दर्पण।
उत्तर-
(ग) उत्तल दर्पण।

(iii) किसी वस्तु को देखने के लिए आवश्यक है-
(क) प्रकाश स्रोत
(ख) प्रकाश स्रोत तथा वस्तु
(ग) प्रकाश स्त्रोत, वस्तु तथा आँख
(घ) इनमें से कोई भी नहीं।
उत्तर-
(ग) प्रकाश स्रोत, वस्तु तथा आँख।

(iv) प्रिज्म में से गुजरने के बाद प्रकाश विभिन्न रंगों में विभाजित हो जाता है-
(क) दो रंगों में
(ख) पांच रंगों में
(ग) सात रंगों में
(घ) छ : रंगों में।
उत्तर-
(ग) सात रंगों में।

(v) दंत चिकित्सक दांतों का प्रतिबिंब देखने के लिए उपयोग करते हैं-
(क) समतल दर्पण
(ख) अवतल दर्पण
(ग) उत्तल दर्पण
(घ) अवतल तथा उत्तल दर्पण का संयोजन।
उत्तर-
(ख) अवतल दर्पण।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 15 प्रकाश

(vi) वास्तविक और आवर्धित प्रतिबिंब प्राप्त करने के लिए किस दर्पण का उपयोग करते हैं ?
(क) उत्तल दर्पण
(ख) समतल दर्पण
(ग) अवतल दर्पण
(घ) इनमें से कोई नहीं।
उत्तर-
(ग) अवतल दर्पण।

(vii) उत्तल लेंस होता है –
(क) बीच में से मोटा तथा किनारों से पतला
(ख) किनारों से मोटा तथा बीच से मोटा
(ग) एक समान मोटा
(घ) अनियमित रूप से मोटा।
उत्तर-
(क) बीच में से मोटा तथा किनारों से पतला।

(vii) जब न्यूटन डिस्क को तेजी से घुमाया जाता है तो कौन-सा रंग दिखाई देता है ?
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 15 प्रकाश 3
(क) काला
(ख) सफेद
(ग) नीला
(घ) पीला।
उत्तर-
(ख) सफेद।

अति लघु उत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
प्रकाश का एक गुण लिखिए।
उत्तर-
प्रकाश सदैव सरल रेखा के अनुदिश गमन करता है।

प्रश्न 2.
कौन-सा पृष्ठ दर्पण का काम करता है ?
उत्तर-
कोई भी चमकीला पृष्ठ या पालिश किया गया पृष्ठ।

प्रश्न 3.
यदि आप किसी दर्पण के सामने खड़े हों तो आपके प्रतिबिंब और आपका दर्पण से दरी में क्या संबंध होगा ?
उत्तर-
वस्तु की दर्पण से दूरी = प्रतिबिंब की दर्पण से दूरी।

प्रश्न 4.
गोलीय दर्पण क्या है ? .
उत्तर-
गोलीय दर्पण – गोलीय दर्पण किसी भी पालिश किए गए खाली गोले का भाग है। गोलीय दर्पण दो प्रकार के होते हैं-
(क) अवतल दर्पण
(ख) उत्तल दर्पण।

प्रश्न 5.
किस दर्पण से आवर्धित प्रतिबिंब प्राप्त किया जा सकता है ?
उत्तर-
अवतल दर्पण।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 15 प्रकाश

प्रश्न 6.
किस दर्पण का उपयोग स्कूटरों, कारों आदि के पार्श्व दर्पण के रूप में किया जाता है ?
उत्तर-
उत्तल दर्पण।

प्रश्न 7.
टार्च व कार के अग्रदीप में कौन-सा दर्पण उपयोग में आता है ?
उत्तर-
अवतल दर्पण।

प्रश्न 8.
कौन-से दर्पण द्वारा प्रतिबिंब सदैव आभासी और छोटा बनता है ?
उत्तर-
उत्तल दर्पण।

प्रश्न 9.
कौन-सा दर्पण छोटा और वास्तविक प्रतिबिंब बनाता है ?
उत्तर-
अवतल दर्पण।

प्रश्न 10.
उत्तल लेंस क्या है ?
उत्तर-
उत्तल लेंस – यह एक पारदर्शी कांच का टुकड़ा है जो दो सतहों से घिरा होता है तथा किनारों की अपेक्षा बीच में से मोटा होता है।
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 15 प्रकाश 4

प्रश्न 11.
अवतल लेंस क्या है ?
उत्तर-
अवतल लेंस – यह एक पारदर्शी काँच का टुकड़ा है जो दो सतहों से घिरा होता है तथा किनारों की अपेक्षा बीच में से पतला होता है।
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 15 प्रकाश 5

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 15 प्रकाश

प्रश्न 12.
प्रकाश के सात घटक रंगों के नाम बताओ।
उत्तर-
बैंगनी, जामनी, नीला, हरा, पीला, ओरेंज, लाल।

प्रश्न 13.
एक प्राकृतिक परिघटना बताओ जिसमें प्रकाश के सात रंग प्रदर्शित होते हों।
उत्तर-
वर्षा के बाद इन्द्रधनुष का दृश्य।

लघु उत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
हमें उत्तल लेंस द्वारा सूर्य की ओर क्यों नहीं देखना चाहिए ?
उत्तर-
उत्तल लेंस अभिसारी प्रकृति का होता है। यह सामानांतर किरणों को फोकस कर अभिसारित करता है। सूर्य की किरणें समानांतर होती हैं । यदि कोई कपड़ा या कागज़ लेंस के फोकस पर रखा जाए तो सूर्य की किरणों से कपड़ा या कागज़ जल उठेंगे। इस प्रकार यदि हम उत्तल लेंस द्वारा सूर्य को देखेंगे तो हमारी आंखों को क्षति पहुंचेगी। इसलिए हमें सूर्य की तरफ उत्तल लेंस द्वारा नहीं देखना चाहिए।

प्रश्न 2.
आभासी प्रतिबिंब क्या होता है ? कोई ऐसी स्थिति बताइए, जहां आभासी प्रतिबिंब बनता हो ?
उत्तर-
आभासी प्रतिबिंब-जब प्रकाश की किरणें परावर्तन अथवा अपवर्तन के बाद किसी बिंद पर वास्तविक रूप में मिलते नहीं परंतु मिलते हुए दिखाई देते हैं, तो उस बिन्दु को वस्तु का आभासी प्रतिबिंब कहते हैं। इस प्रतिबिंब को पर्दे पर प्राप्त नहीं किया जा सकता है।

समतल दर्पण में प्रतिबिंब सदैव आभासी होते हैं।
उत्तल दर्पण में बने प्रतिबिंब सदैव आभासी होते हैं।
अवतल दर्पण में प्रतिबिंब आभासी तब होता है, जब वस्तु दर्पण के काफ़ी पास रखी जाती है।
प्रश्न 3.
उत्तल तथा अवतल लेंसों में दो अंतर लिखिए।
उत्तर-
उत्तल और अवतल लेंसों में अंतर-

उत्तल लेंस अवतल लेंस
(1) यह लेंस बीच में से मोटा तथा किनारों से पतला होता है।
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 15 प्रकाश 6
(1) यह लेंस बीच में से पतला तथा किनारों पर मोटा होता है।
(2) इस लेंस में प्रायः प्रतिबिंब लेंस के दूसरी तरफ़ बनता है। (2) इस लेंस में प्रतिबिंब लेंस भी उसी तरफ ही बनता है।
(3) यह लेंस प्रकाश की किरणों को एक बिंदु पर फोकस करता है। (3) यह लेंस प्रकाश की किरणों को फैलाता है।

प्रश्न 4.
अवतल और उत्तल दर्पणों का एक-एक उपयोग लिखिए।
उत्तर-
(क) अवतल दर्पण का उपयोग – यह कारों, स्कूटरों आदि के अग्रदीपों में, सर्च लाइटों में तथा दंत चिकित्सकों द्वारा उपयोग किया जाता है।
(ख) उत्तल दर्पण के उपयोग – इनका उपयोग कारों तथा स्कूटरों के पार्श्व दर्पणों में किया जाता है।

प्रश्न 5.
किस प्रकार का दर्पण वास्तविक प्रतिबिंब बना सकता है ?
उत्तर-
अवतल दर्पण वास्तविक प्रतिबिंब बना सकता है।

प्रश्न 6.
किस प्रकार का लेंस सदैव आभासी प्रतिबिंब बनाता है ?
उत्तर-
अवतल लेंस।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 15 प्रकाश

प्रश्न 7.
वस्तुओं को देखने के लिए कौन-सी आवश्यक शर्त है ?
उत्तर-
किसी वस्तु के दिखाई देने के लिए निम्नलिखित तीन शर्तों का पूरा होना आवश्यक है

  1. वस्तु को दीप्त करने के लिए प्रकाश का स्रोत।
  2. वस्तु जिसको देखना चाहते हो।
  3. रोग मुक्त आंख जिससे देखा जाता है।

प्रश्न 8.
दर्पणों के विभिन्न उपयोग लिखिए। उत्तर-दर्पणों के विभिन्न उपयोग हम किसी-न-किसी रूप में अपने दैनिक जीवन में दर्पणों का प्रयोग करते
(1) समतल दर्पण-

  • इन दर्पणों का उपयोग घरों तथा नाई की दुकानों में अपना प्रतिबिंब देखने के लिए किया जाता है।
  • यह पैरीस्कोप बनाने में भी उपयुक्त होता है।

(2) अवतल दर्पण-अवतल दर्पण के निम्नलिखित उपयोग हैं-

  • ये वाहनों में परावर्तक के रूप में प्रयुक्त होते हैं।
  • ये हजामत बनाने में प्रयुक्त होते हैं।
  • ये बीमार लोगों के नाक तथा गले की जाँच हेतु डॉक्टरों द्वारा प्रयोग किए जाते हैं।

(3) उत्तल दर्पण-उत्तल दर्पण कारों तथा अन्य वाहनों में अपने पीछे आ रहे वाहनों को देखने में प्रयुक्त होते हैं।

दीर्घ उत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
एक प्रयोग द्वारा सिद्ध करो कि श्वेत प्रकाश में सात वर्ण होते हैं।
उत्तर-
प्रयोग-वृताकार डिस्क से एक छोटा लट्ट बनाओ। डिस्क के पृष्ठ पर सातों वर्ण पेंट करो। अब लट्ट को घुमाओ। श्वेत रंग नज़र आएगा जो यह सिद्ध करता है कि श्वेत प्रकाश में सात वर्ण होते हैं।
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 15 प्रकाश 8

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 14 विद्युत धारा तथा इसके चुंबकीय प्रभाव

Punjab State Board PSEB 7th Class Science Book Solutions Chapter 14 विद्युत धारा तथा इसके चुंबकीय प्रभाव Textbook Exercise Questions and Answers.

PSEB Solutions for Class 7 Science Chapter 14 विद्युत धारा तथा इसके चुंबकीय प्रभाव

PSEB 7th Class Science Guide विद्युत धारा तथा इसके चुंबकीय प्रभाव Textbook Questions and Answers

1. रिक्त-स्थानों की पूर्ति कीजिए :-

(i) विद्युत सेल के प्रतीक में छोटी रेखा ………………… टर्मिनल को निरूपित करती (दर्शाती) है।
उत्तर-
ऋण टर्मिनल

(ii) दो अथवा दो से अधिक सेल के जोड़ने को ……………………. कहते हैं।
उत्तर-
बैटरी

(iii) किसी स्विच की ………………….. अवस्था में परिपथ में विद्युत धारा प्रवाहित होती है।
उत्तर-
ऑन

(iv) एक बैटरी में एक सेल का धन सिरा या टर्मिनल दूसरे सेल के …………………… सिरे या टर्मिनल से जुड़ा होता
उत्तर-
ऋण

(v) हीटर विद्युत धारा के ………………………. प्रभाव का प्रयोग करता है।
उत्तर-
तापीय।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 14 विद्युत धारा तथा इसके चुंबकीय प्रभाव

2. निम्नलिखित में सही या गलत लिखें :-

(i) दो सेलों की बैटरी बनाने के लिए एक सेल का धन टर्मिनल दूसरे के ऋण टर्मिनल के साथ जोड़ते हैं।
उत्तर-
सही

(ii) विद्युतीय प्रैस, विद्युत धारा के तापीय प्रभाव पर काम करती है।
उत्तर-
गलत

(iii) चुंबक-क्रेन, विद्युत धारा के चुंबक प्रभाव पर आधारित है।
उत्तर-
सही

(iv) जिस परिपथ में विद्युत धारा प्रवाहित होती हो, उसे खुला (Open) परिपथ कहा जाता है।
उत्तर-
गलत

(v) एक विद्युत घण्टी एक विद्युत चुंबक के सिद्धांत पर आधारित है।
उत्तर-
सही।

3. सही मिलान कीजिए :-

कॉलम ‘A’ कॉलम ‘B’
(i) विद्युत सैल (क) सुरक्षा उपकरण
(ii) विद्युत प्रैस (ख) विद्युत धारा का तापन
(iii) विद्युत फ्यूज़ (ग) विद्युत चुंबक
(iv) चुंबकीय क्रेन (घ) विद्युत घटक

उत्तर-

कॉलम ‘A’ कॉलम ‘B’
(i) विद्युत सैल (घ) विद्युत घटक
(ii) विद्युत प्रैस (ख) विद्युत धारा का तापन
(iii) विद्युत फ्यूज़ (क) सुरक्षा उपकरण
(iv) चुंबकीय क्रेन (ग) विद्युत चुंबक।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 14 विद्युत धारा तथा इसके चुंबकीय प्रभाव

4. सही विकल्प चुनिए :-

प्रश्न (i)
कौन-सा उपकरण विद्युत के तापन प्रभाव का उपयोग नहीं करता ?
(क) विद्युत टोस्टर
(ख) लाऊड स्पीकर
(ग) हीटर
(घ) विद्युत प्रेस।
उत्तर-
(क) विद्युत टोस्टर।

प्रश्न (ii)
कौन-सा उपकरण विद्युत के चुंबकीय प्रभाव का उपयोग नहीं करता ?
(क) रूम हीटर
(ख) चुंबकीय क्रेन
(ग) विद्युत घण्टी
(घ) लाऊड स्पीकर ।
उत्तर-
(क) रूम हीटर।

प्रश्न (iii)
विद्युत तार में पैदा हुए ताप की मात्रा निर्भर करती है-
(क) तार के पदार्थ की किस्म
(ख) तार की लम्बाई
(ग) तार की मोटाई
(घ) उपर्युक्त सभी से।
उत्तर-
(घ) उपर्युक्त सभी से।

प्रश्न (iv)
बल्ब में प्रयोग की जाने वाली तार को कहते हैं ?
(क) एलीमेंट
(ख) स्प्रिंग
(ग) फिलामेंट
(घ) घटक।
उत्तर-
(ग) फिलामेंट।

प्रश्न (v)
एक विद्युत घण्टी के मुख्य भाग हैं-
(क) गोंग (Gong)
(ख) हथौड़ा
(ग) विद्युत चुंबक
(घ) उपर्युक्त सभी।
उत्तर-
(घ) उपर्युक्त सभी।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 14 विद्युत धारा तथा इसके चुंबकीय प्रभाव

5. लघूत्तर प्रश्न :-

प्रश्न (i)
परिभाषित करो
1. विद्युत सैल (Electric Cell)
2. बैटरी
3. विद्युत परिपथ
4. खुला परिपथ
5. बंद परिपथ।
उत्तर-
1. विद्युत सैल – यह एक ऊर्जा स्रोत है जिसमें रासायनिक ऊर्जा को विद्युतीय ऊर्जा में परिवर्तित करता है। इसमें दो इलैक्ट्रोड होते हैं।

  1. धन-इलैक्ट्रोड,
  2. ऋण इलैक्ट्रोड।

2. बैटरी – यह दो या दो से अधिक सैलों का संयोजन है जिन्हें श्रेणी क्रम में संयोजित करके विद्यत्त् धारा प्राप्त की जाती है। इसका प्रयोग टार्च तथा अन्य खिलौनों, कार आदि में किया जाता है, जहाँ अधिक धारा की आवश्यकता होती है।

3. विद्युत सर्कट – वह रास्ता (पथ) जो सैल के एक टर्मिनल से आरंभ होकर बल्ब में होता हुआ दूसरे टर्मिनल तक पहुँचे तथा जिसमें से विद्युतीय धारा बह सके, विद्युतीय सर्कट या परिपथ कहलाता है।
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 14 विद्युत धारा तथा इसके चुंबकीय प्रभाव 1

4. खुला परिपथ – यदि विद्युतीय सर्कट में से विद्युतीय धारा का प्रवाह नहीं होता तो ऐसे सर्कट को खुला परिपथ कहते हैं।
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 14 विद्युत धारा तथा इसके चुंबकीय प्रभाव 2

5. बंद परिपथ – ऐसा विद्युतीय सर्कट जिसमें से विद्युतीय धारा का प्रवाह होता है, उसे बंद परिपथ कहते हैं।
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 14 विद्युत धारा तथा इसके चुंबकीय प्रभाव 3

प्रश्न (ii)
विद्युत चुंबक क्या होती है ? यह कैसे कार्य करती है ?
उत्तर-
विद्युतीय चुंबक – एक लोहे के टुकड़े पर एनेमल लेपित तांबे की तार लपेटी गयी कुंडली में से विद्युतीय धारा प्रवाहित करने पर यह लोहे का टुकड़ा अस्थायी रूप में चुंबक बन जाता है। ऐसे चुंबक को विद्युतीय चुंबक कहते हैं। विद्युतीय धारा बंद करने पर यह वापिस लोहे जैसा व्यवहार करता है अर्थात् इसके चुंबकीय गुण समाप्त हो जाते हैं।

प्रश्न (iii)
चुंबकीय क्रेन क्या है ? यह कैसे कार्य करती है ?
उत्तर-
यह एक सामान्य क्रेन होती है जिसके एक छोर पर शक्तिशाली विद्युतीय चुंबक जुड़ा होता है। विद्युतीय धारा प्रवाहित करने पर यह शक्तिशाली चुंबक बन जाता है जो कबाड़ में से लोहे को आकर्षित करके अलग कर लेता है तथा विद्युतीय धारा बंद करने पर यह अपना चुंबकीय गुण गंवा लेता है।

प्रश्न (iv)
एक विद्युत परिपथ बनाइए, जिसमें एक बैटरी, एक बल्ब और एक स्विच खुली अवस्था में हो।
उत्तर-
एक विद्युतीय सर्कट का चित्र जिसमें एक बैटरी, एक बल्ब तथा खुली अवस्था में स्विच।
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 14 विद्युत धारा तथा इसके चुंबकीय प्रभाव 4

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 14 विद्युत धारा तथा इसके चुंबकीय प्रभाव

6. निबंधात्मक प्रश्न :-

प्रश्न (i)
एक चित्र की सहायता से एक-विद्युत घण्टी का सिद्धांत, रचना और कार्य की व्याख्या करो।
उत्तर-
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 14 विद्युत धारा तथा इसके चुंबकीय प्रभाव 5
विद्युतीय घण्टी – विद्युतीय घंटी वह यांत्रिक यंत्र है जो विद्युतीय चुंबक के सिद्धांत पर काम करती है। विद्युतीय धारा प्रवाहित करने से यह बार-बार ध्वनि पैदा करती है।

सिद्धांत – जब लोहे की छड़ पर लपेटी गयी कुंडली में से विद्युतीय धारा प्रवाहित की जाती है, तब लोहे की छड़ चुंबक के रूप में काम करती है। यह उतनी देर तक ही चुंबक के रूप में काम करती है जब तक इसमें से विद्युत धारा प्रवाहित होती है।

रचना – विद्युत घण्टी के नीचे लिखे मुख्य भाग हैं-

  1. विद्युत – चुंबक-इसमें लैमीनेट की धातु की तार होती है जिसे एक लोहे की छड़ पर लपेटा होता है। यह छड़ विद्युत धारा प्रवाहित होने पर विद्युत चुंबक बन जाती है।
  2. हथौड़ा – यह लोहे की पत्ती जिसके एक छोर पर धातु का छोटा-सा गोला होता है जो हथौड़ा कहलाता है। इसे विद्युत चुंबक के समीप रखा जाता है। लोहे की पत्ती के समीप एक संपर्क पेच चुंबक होता है।
  3. घण्टी – यह एक कप के रूप की धातु की बनी आकृति है। जब हथौड़ा आकर्षित होकर घण्टी धातु की पत्ती में टकराता है तो ध्वनि सुनाई देती है।

कार्यविधि – जब हम स्विच ऑन करते हैं तो संपर्क पेच लोहे की पत्ती के संपर्क में आता है जिस कारण विद्युत चुंबकीय कुंडली में विद्युत धारा बहती है तथा वह विद्युत चुंबक बन जाती है। यह विद्युत चुंबक लोहे की पत्ती को अपनी ओर आकर्षित करता है जिससे हथौड़ा घंटी से टकराता है तथा ध्वनि पैदा करता है। परन्तु इस क्रिया के दौरान हथौड़े का संपर्क पेच से टूट जाता है जिससे विद्युत परिपथ टूट जाता है। इस कारण कुंडली में अब विद्युत चुंबक का गुण समान हो जाता है तथा लोहे की पत्ती को आकर्षित नहीं कर सकता।

अब लोहे की पत्ती अपनी पहली अवस्था में आ जाती है तथा दोबारा संपर्क पेच को छूती है। यह वापिस विद्युत चुंबक बना देती है तथा हथौड़ा फिर घण्टी से टकराता है। यही क्रिया तीव्र गति में दोहराई जाती है तथा बार-बार घण्टी बजती रहती है।

प्रश्न (ii)
विद्युत फ्यूज़ क्या होता है ? विद्युत की आपूर्ति में इसका क्या महत्त्व है ?
उत्तर-
विद्युत फ्यूज़ – कभी कभी घरों तथा कारखानों में विद्युत की डोरी की दोनों तारें एक-दूसरे के संपर्क में आ जाती हैं तो सार्ट सर्कट हो जाता है जिससे सर्कट का प्रतिरोध कम होने के कारण विद्युत धारा की मात्रा बढ़ जाती है तथा ताप पैदा होने के कारण विद्युत उपकरणों को आग लग जाती है। इस प्रकार के खतरे से बचने के लिए सर्कट की तारों में फ्यूज़ लगाए जाते हैं।
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 14 विद्युत धारा तथा इसके चुंबकीय प्रभाव 6

बनावट – अकसर फ्यूज तार तांबा, टिन तथा लैड के मिश्रण से बनी एक छोटी सी पतली तार होती है जिसका पिघलांक तांबे की
बैटरी तुलना में बहुत कम होता है। इस तार को चीनी मिट्टी के होल्डर में लगे दो टर्मिनलों के बीच जोड़ दिया जाता है। जिस सर्कट की सुरक्षा करनी होती है, उसकी दो तारें जोड़ने में क्रमबद्ध जोड़ देते हैं। मोटाई के अनुसार फ्यूज तार की एक निश्चित समर्था होती है जिससे ज्यादा धारा प्रवाहित होने पर प्यूज तार गर्म होकर पिघल जाती है। तार के पिघलने से सर्कट टूट जाता है तथा विद्युत धारा का प्रवाह रुक जाता है। इस से उपकरण में या सर्कट में किसी खराबी का तुरंत पता चल जाता है। उस खराबी को दूर करके फ्यूज़ होलडर में नयी फ्यूज़ तार लगाने के बाद दोबारा विद्युत धारा के प्रवाह को चला दिया जाता है।
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 14 विद्युत धारा तथा इसके चुंबकीय प्रभाव 7

Science Guide for Class 7 PSEB विद्युत धारा तथा इसके चुंबकीय प्रभाव Intext Questions and Answers

सोचें तथा उत्तर दें:-(पेज 170)

प्रश्न 1.
एक सेल में कितने टर्मिनल होते हैं ? उनके नाम बताओ।
उत्तर-
एक सेल के भीतर दो टर्मिनल होते हैं-

  1. धन टर्मिनल
  2. ऋण टर्मिनल।

प्रश्न 2.
विद्युत परिपथ में स्विच का क्या काम है ?
उत्तर-
विद्युत परिपथ में स्विच सर्कट को पूरा करने (जोड़ने) तथा तोड़ने का काम करता है अर्थात् सर्कट को पूरा करके विद्युतीय परिपथ, में धारा का प्रवाह बनाने तथा ज़रूरत के समय सर्कट को तोड़ कर धारा का प्रवाह रोकने के लिए किया जाता है।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 14 विद्युत धारा तथा इसके चुंबकीय प्रभाव

सोचें तथा उत्तर दें :-(पेज 170)

प्रश्न 1.
जब स्विच ‘ON’ की स्थिति में है तो बल्ब ……………………. है तथा ……………………. महसूस होता है।
उत्तर-
जगता, गर्म।

सोचें तथा उत्तर दें :-(पेज 171)

प्रश्न 1.
जब स्विच ऑफ’ अवस्था में है तो क्या तार गर्म महसूस होती है ? (सही/गलत)
उत्तर-
गलत।

प्रश्न 2.
जब स्विच ऑन’ अवस्था में है तो क्या तार थोड़ी ठंडी महसूस होती है ? (सही/गलत )
उत्तर-
गलत।

प्रश्न 3.
कोई अन्य तार लेने पर भी आपको यही प्रभाव महसूस होगा ?
उत्तर-
क्योंकि बिजली प्रवाह होने से तार गर्म हो जाती है। यह विद्युतीय की धारा के तापीय प्रभाव के कारण होता है। कोई अन्य तार लेने पर भी यही महसूस होगा।

सोचें तथा उत्तर दें :-(पेज 173)

प्रश्न 1.
किसी चुंबकीय पदार्थ के न होने के बावजूद भी चुंबकीय सुई पहले उत्तर-दक्षिण (N-S) दिशा की ओर क्यों संकेत करती है ?
उत्तर-
चुंबकीय सुई एक छोटा-सा चुंबक है, जिसका एक छोर उत्तर ध्रुव (N-Pole) तथा दूसरा छोर दक्षिणी ध्रुव (S-Pole) है। हमारी पृथ्वी एक बड़े चुंबक के सामान व्यवहार करती है जिसका चुंबकीय उत्तरी ध्रुव इसके भौगोलिक दक्षिण दिशा तथा चुंबकीय दक्षिणी ध्रुव भौगोलिक उत्तर दिशा की ओर स्थित है। चुंबकीय सुई जो एक छोटा सा चुंबक है और जो अपने धुरे पर क्षितिज दिशा में घूमने के लिए स्वतन्त्र है, का उत्तरी ध्रुव पृथ्वी के चुंबकीय दक्षिणी ध्रुव की ओर तथा चुंबकीय सुई का दक्षिणी ध्रुव पृथ्वी के चुंबकीय उत्तरी ध्रुव की ओर आकर्षित होता है। इसलिए यद्यपि कोई चुंबक नज़दीक नहीं है, तो भी इसके बावजूद चुंबकीय सुई पहले ही उत्तर-दक्षिण की ओर संकेत करती है।

प्रश्न 2.
एक छड़ चुंबक निकट लाने पर चुंबकीय सुई विक्षेपित क्यों हो जाती है?
उत्तर-
चुंबकीय के समान ध्रुव एक-दूसरे को प्रतिकर्षित तथा विपरीत (असमान) ध्रुव एक-दूसरे को आकर्षित करते हैं। इसलिए जब छड़ चुंबक को चुंबकी सुई के निकट लाया जाता है, तो चुंबकी सुई जो घूमने के लिए स्वतन्त्र है, विक्षेपित हो जाती है।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 14 विद्युत धारा तथा इसके चुंबकीय प्रभाव

प्रश्न 3.
विद्युत धारा ‘ऑन’ करने पर चुंबकीय सुई विक्षेपित क्यों हो जाती है?
उत्तर-
विद्युत धारा ‘ऑन’ करने पर चुंबकीय सुई का विक्षेपित होना यह दर्शाता है कि इसके नज़दीक कोई चुंबक स्थित है। यह धारा प्रवाहित होने वाली तार के इर्द-गिर्द चुंबकीय क्षेत्र बनने के कारण चुंबक जैसा व्यवहार कर रही है।

सोचें तथा उत्तर दें:-(पेज 174)

प्रश्न 1.
पेपर पिन्ज़ विद्युत धारा प्रवाहित करने पर लोहे के कील के साथ क्यों चिपक जाती हैं ?
उत्तर-
विद्युत धारा प्रवाहित होने से लोहे के कील में चुम्बकीय गुण आ जाते हैं जिस कारण पेपर पिन्ज़ आकर्षित होकर कील से चिपक जाती हैं।

प्रश्न 2.
विद्युत धारा का प्रवाह बंद करने पर क्या ये पिन्ज पुनः नीचे गिर जाती हैं ?
उत्तर-
हां, यह नीचे गिर जाएंगी। विद्युत धारा का प्रवाह बंद करने से लोहे का कील अपना चुंबकीय गुण गंवा लेती है जिस कारण पेपर पिन्ज़ आकर्षित न होने के कारण नीचे गिर जाती हैं।

PSEB Solutions for Class 7 Science विद्युत धारा तथा इसके चुंबकीय प्रभाव Important Questions and Answers

वस्तुनिष्ठ प्रश्न

प्रश्न 1.
रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए-

(i) स्टैंडर्ड संकेतों के साथ एक विद्युत सर्कट को ………………….. कहते हैं। (सर्कट चित्र/विद्युत चित्र)
उत्तर-
सर्कट चित्र

(ii) जब स्विच को ‘ऑन’ स्थिति में लाते हैं तो हॉट प्लेट, विद्युत टोस्टर तथा विद्युत प्रैस विद्युत के ………………….. कारण गर्म हो जाती है। (चुंबकीय प्रभाव, तापन प्रभाव)
उत्तर-
तापन प्रभाव

(iii) फ्यूज़ एक ………………………. उपकरण है। (सेफ्टी/तापन)
उत्तर-
सेफ्टी

(iv) लकड़ी के सिलेंडर के इर्द-गिर्द वृत शक्ल में लपेटी गई लेमीनेटेड तांबे की तार …………….. कहलाती है। (कुंडली/बिजली चुंबक)
उत्तर-
कुंडली

(v) चुंबक के ध्रुव होते हैं, एक …………………………. ध्रुव तथा दूसरा …………………. ध्रुव। (उत्तरी-दक्षिणी/पश्चिमी-पूर्वी)
उत्तर-
उत्तरी-दक्षिणी

(vi) विद्युत सैल के चिन्ह में लंबी रेखा उसके ……………………… टर्मिनल को दर्शाती है। (धन (+)/ऋण (-))
उत्तर-
धन (+) ।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 14 विद्युत धारा तथा इसके चुंबकीय प्रभाव

प्रश्न 2.
कॉलम ‘A’ में दिए शब्दों को कॉलम ‘B’ में दिए गए वाक्यों से मिलाइए –

कॉलम ‘A’ कॉलम ‘B’
(i) सर्कट चित्र (क) विद्युत धारा के कारण चालक का चुंबक बनना
(ii) विद्युत घंटी (ख) विद्युत फ्यूज़
(iii) सेफ्टी युक्ति (ग) फ्यूज़ की तार
(iv) जल्दी पिघल जाती है (घ) स्टैंडर्ड संकेतों के साथ एक विद्युत सर्कट बनना।

उत्तर-

कॉलम ‘A’ कॉलम ‘B’
(i) सर्कट चित्र (घ) स्टैंडर्ड संकेतों के साथ एक विद्युत सर्कट बनना
(ii) विद्युत घंटी (क) विद्युत धारा के कारण चालक का चुंबक बनना
(iii) सेफ्टी युक्ति (ख) विद्युत फ्यूज़
(iv) जल्दी पिघल जाती है (ग) फ्यूज़ की तार।

प्रश्न 3.
सही विकल्प चुनें-

(i) बिजली (विद्युत) सर्कट को तोड़ने वाली युक्ति है-
(क) विद्युत सैल
(ख) स्विच
(ग) विद्युत बल्ब
(घ) इनमें से कोई नहीं।
उत्तर-
(ख) स्विच।

(ii) विद्युत बल्ब टर्मिनल हैं-
(क) तीन
(ख) एक
(ग) दो
(घ) इनमें से कोई नहीं।
उत्तर-
(ग) दो।

(iii) संपर्क तार बनाने के लिए प्रयुक्त होता है-
(क) रबड़
(ख) ऐल्युमीनियम
(ग) प्लास्टिक
(घ) इनमें से कोई नहीं।
उत्तर-
(ख) ऐल्युमीनियम।

(iv) एक विद्युत बल्ब में से विद्युत धारा प्रवाहित की गई परंतु बल्ब जगा नहीं क्योंकि-
(क) तंतु टूटा हुआ है
(ख) तंतु बिजली का रोधक है
(ग) तंतु विद्युत का सुचालक है
(घ) इनमें से कोई नहीं।
उत्तर-
(क) तंतु टूटा हुआ है।

(v) विद्युतीय सर्कट में सैल में आने वाली बिजली (विद्युत) धारा की दिशा है
(क) धन टर्मिनल से ऋण टर्मिनल की ओर
(ख) ऋण टर्मिनल से धन टर्मिनल की ओर
(ग) पहले आधे समय के लिए धन टर्मिनल से ऋण टर्मिनल की ओर तथा अगले आधे समय के लिए ऋण टर्मिनल से धन टर्मिनल की ओर
(घ) इनमें से कोई नहीं।
उत्तर-
(क) धन टर्मिनल से ऋण टर्मिनल की ओर

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 14 विद्युत धारा तथा इसके चुंबकीय प्रभाव

(vi) विद्युत फ्यूज़ की तार का गलनांक होना चाहिए-
(क) कम
(ख) अधिक
(ग) न अधिक और न कम
(घ) उपरोक्त सभी।
उत्तर-
(क) कम।

(vii) विद्युत बल्ब का तंतु (फिलामेंट) बना होता है-
(क) लोहा
(ख) तांबा
(ग) टंगस्टन
(घ) टिन।
उत्तर-
(ग) टंगस्टन।

(viii) फ्यूज़ की तार किससे बनाई जाती है ?
(क) टिन
(ख) ऐल्युमीनियम
(ग) लैड
(घ) तांबा।
उत्तर-
(क) टिन।

(ix) स्विच ऑन करने पर दिशा सूचक सुई के विक्षेपण का क्या कारण है ?
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 14 विद्युत धारा तथा इसके चुंबकीय प्रभाव 8
(क) ऊष्मा के कारण
(ख) चुम्बकीय क्षेत्र का बनना
(ग) रासायनिक क्रिया होना ।
(घ) इनमें से कोई भी नहीं।
उत्तर-
(ख) चुम्बकीय क्षेत्र का बनना।

प्रश्न 4.
निम्नलिखित में कथनों में से सही तथा ग़लत कथन बताइए-

(i) विद्युत चुंबक पिन को आकर्षित करता है जब विद्युत धारा का प्रवाह रोका जाता है।
उत्तर-
ग़लत

(ii) विद्युत चुंबक की शक्ति कुंडली जो इसके इर्द-गिर्द लपेटी गयी है, के लपेटों की संख्या पर निर्भर नहीं करती है।
उत्तर-
ग़लत

(iii) विद्युत सर्कट में विद्युत धारा के प्रवाह की दिशा धन टर्मिनल से ऋण टर्मिनल की ओर होता है।
उत्तर-
सही

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 14 विद्युत धारा तथा इसके चुंबकीय प्रभाव

(iv) बैटरी बनाने के लिए दो या दो से अधिक सैलों को क्रमबद्ध करना होता है जिसमें पहले सैल का ऋण टर्मिनल दूसरे सैल के धन टर्मिनल तथा दूसरे सैल का ऋण टर्मिनल तीसरे सैल से जोड़ना होता है।
उत्तर-
सही

(v) चुंबक के एक समान ध्रुव एक-दूसरे को आकर्षित तथा विसरित ध्रुव प्रतिकर्षित करते हैं।
उत्तर-
ग़लत

(vi) दो सैलों को बैटरी बनाने के लिए एक सैल के ऋण टर्मिनल को दूसरे सैल के ऋण टर्मिनल से संयोजित करते हैं।
उत्तर-
ग़लत।

अति लघु उत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
टार्च में विद्युत धारा का स्रोत क्या है?
उत्तर-
विद्युत सेल।

प्रश्न 2.
विद्युत सेल में कितने टर्मिनल होते हैं?
उत्तर-
दो-

  1. धन टर्मिनल (+) और
  2. ऋण टर्मिनल (-)।

प्रश्न 8.
क्या विद्युत चुंबक का उपयोग किसी कचरे के ढेर से प्लास्टिक को पृथक् करने के लिए किया जा सकता है ? स्पष्ट कीजिए।
उत्तर-
नहीं! विद्युत चुंबक केवल चुंबकीय पदार्थों को आकर्षित करते हैं और प्लास्टिक चुंबकीय पदार्थ नहीं होता। यदि इसमें लोहे के टुकड़े या लोहे की हैंडल (हत्थियाँ) लगी हो तो यह आसानी से विद्युत चुंबक पृथक् किए जा सकते हैं।

प्रश्न 9.
यदि चित्र में दर्शाए गए विद्युत परिपथ में स्विच को ‘ऑफ’ किया जाए, तो क्या चुंबकीय सुई विक्षेप दर्शाएगी?
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 14 विद्युत धारा तथा इसके चुंबकीय प्रभाव 9
उत्तर-
‘ऑफ’ स्थिति में कोई विद्युत धारा नहीं बह रही होगी। इसलिए कोई चुंबकीय प्रभाव नहीं होगा। अत: चुम्बकीय सूई विक्षेपित नहीं होगी।

प्रश्न 10.
जुबैदा ने चित्र में दर्शाए अनुसार एक सेल होल्डर बनाया तथा इसे एक स्विच और एक बल्ब से जोड़कर कोई विद्युत परिपथ बनाया। जब उसने स्विच को ‘ऑन’ की स्थिति में किया, तो बल्ब दीप्त नहीं हुआ। परिपथ में संभावित दोष को पहचानने में जुबैदा की सहायता कीजिए।
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 14 विद्युत धारा तथा इसके चुंबकीय प्रभाव 10
उत्तर-

  1. जुबेदा ने धन (+ve) टर्मिनल को दूसरे धन (+ve) टर्मिनल से जोड़ दिया होगा या (-ve) ऋण टर्मिनल को (-ve) टर्मिनल से जोड़ा होगा।
  2. तारों के जोड़ ढीले हो सकते हैं।
  3. बल्ब फ्यूज हो सकता है।

प्रश्न 11.
चित्र में चार सेल दिखाए गए हैं। रेखाएँ खींचकर यह निर्दिष्ट कीजिए कि चार सेलों के टर्मिनलों को तारों द्वारा संयोजित करके आप बैटरी कैसे बनाएँगे?
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 14 विद्युत धारा तथा इसके चुंबकीय प्रभाव 11
उत्तर-
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 14 विद्युत धारा तथा इसके चुंबकीय प्रभाव 12

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 14 विद्युत धारा तथा इसके चुंबकीय प्रभाव

प्रश्न 12.
चित्र में दर्शाए गए परिपथ में बल्ब दीप्त नहीं हो पा रहा है। क्या आप इसका कारण पता लगा सकते हैं ? परिपथ में आवश्यक परिवर्तन करके बल्ब को प्रदीप्त कीजिए।
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 14 विद्युत धारा तथा इसके चुंबकीय प्रभाव 13
उत्तर-
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 14 विद्युत धारा तथा इसके चुंबकीय प्रभाव 14

दीर्घ उत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.

विद्युत चुंबक क्या होता है ? यह कैसे तैयार किया जा सकता है ? इसकी प्रबलता को प्रभावित करने वाले कारण क्या है ? विद्युत चुंबक के उपयोग भी लिखें।
उत्तर-
विद्युत चुंबक – एक लोहे के टुकड़े पर एनेमल लोपित तांबे की तार की लपेटी गयी कुंडली में से विद्युत धारा प्रवाहित करने पर यह लोहे का टुकड़ा अस्थायी रूप से चुंबक बन जाता है। ऐसे चुंबक को विद्युत चुंबक कहते हैं।

विद्युत चुंबक बनाना – एक लगभग 6-10 सैंटीमीटर लम्बी लोहे की कील लो तथा इस पर 50 सैंटीमीटर लम्बी बिजली की प्लास्टिक से ढकी हुई तार लो। तार को कुंडली रूप में कील पर लपेटो। तार के स्वतन्त्र छोरों को स्विच से होते हुए विद्युत सैल के टर्मिनल से जोड़ों जैसा चित्र में दर्शाया गया है।

स्विच को ‘ऑन’ करके कुछ पिनों को कील के छोर के निकट लाओ। आप देखोगे कि पिन कील की ओर खिंची जाती है, क्योंकि विद्युत धारा प्रवाहित होने से कुंडली चुंबक की तरह व्यवहार करती है। लोहे की कील इस चुंबकीय क्षेत्र में पड़ी होने के कारण चुंबक बन जाती है। विद्युत धारा का प्रवाह खत्म होने पर कुंडली तथा फिर कील का चुंबकीय प्रभाव खत्म हो जाता है। यह कुंडलीनुमा लोहा विद्युत चुंबक बन जाता है।
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 14 विद्युत धारा तथा इसके चुंबकीय प्रभाव 15

विद्युत चुंबकता की प्रबलता को प्रभावित करने वाले कारक-

  1. बिजली की शक्ति।
  2. कुंडली के लपेटों (वलयों) की संख्या।

विद्युत चुंबकों के उपयोग-

  1. यह बहुत भार उठाने के लिए क्रेनों के एक छोर पर प्रबल विद्युत चुंबक लगा के कबाड़ में से चुंबकीय पदार्थों को अलग किया जाता है।
  2. कई खिलौनों में भी विद्युत चुंबकों का प्रयोग किया जाता है।
  3. डॉकटर दुर्घटना के समय किसी व्यक्ति की आंख में पड़े चुंबकीय पदार्थ के छोटे टुकड़े को बाहर निकालने के लिए विद्युत चुंबक का प्रयोग करते हैं।
  4. उपकरणों जैसे विद्युत घंटी, टैलीग्राफ, टैलीफोन में भी इसका प्रयोग किया जाता है।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 13 गति तथा समय

Punjab State Board PSEB 7th Class Science Book Solutions Chapter 13 गति तथा समय Textbook Exercise Questions and Answers.

PSEB Solutions for Class 7 Science Chapter 13 गति तथा समय

PSEB 7th Class Science Guide गति तथा समय Textbook Questions and Answers

1. खाली स्थान भरें :-

(i) किसी वस्तु की सीधी रेखा में गति को ……………………. .
उत्तर-
सरल रेखी

(ii) एक घड़ी का प्रयोग ……………………. मापने के लिए किया जाता है।
उत्तर-
समय

(iii) एक समान गति के लिए तय की गयी दूरी तथा लगे समय में बनाया गया ग्राफ एक ……………………… रेखा है।
उत्तर-
सीधी

(iv) एक साधारण पेंडुलम की गति को …………………… गति कहते हैं।
उत्तर-
दोलन।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 13 गति तथा समय

2. निम्नलिखित के लिए ठीक या गलत लिखें :-

(i) प्रति इकाई समय में तय की गई दूरी को गति कहते हैं।
उत्तर-
ठीक

(ii) गति की S.I. इकाई Km/s है।
उत्तर-
ग़लत

(iii) पेंडुलम द्वारा एक दोलन के लिए लगाए गए समय को इसका आवर्तकाल कहते हैं।
उत्तर-
ठीक

(iv) चलते हुए वाहनों की गति मापने के लिए प्रयोग किए जाने वाले यंत्र को स्पीडोमीटर कहते हैं।
उत्तर-
ठीक।

3. कॉलमों का मिलान करें :-
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 13 गति तथा समय 1
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 13 गति तथा समय 2
उत्तर-
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 13 गति तथा समय 3

4. बहु वैकल्पिक उत्तरों वाले प्रश्न :-

प्रश्न (i)
निम्नलिखित में से कौन दूरी-समय ग्राफ वस्तु की विराम अवस्था को दर्शाता है ?
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 13 गति तथा समय 4
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 13 गति तथा समय 5
उत्तर-
(क) विराम अवस्था में दूरी-समय ग्राफ X-अक्ष (समय अक्ष) के समानांतर एक सीधी रेखा होती है।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 13 गति तथा समय

प्रश्न (ii)
निम्नलिखित में कौन-सा समीकरण गति पता करने के लिए ठीक संबंध दर्शाता है ?
(क) गति = दूरी × समय ।
(ख) गति = दूरी/समय
(ग) गति = समय/दूरी ।
(घ) गति = 1/दूरी × समय
उत्तर-
(ख) चाल = दूरी/समय।

प्रश्न (iii)
यह ………………………. गति की उदाहरण है।
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 13 गति तथा समय 6
(क) सरल रेखीय गति
(ख) दोलन गति
(ग) आवर्ती गति
(घ) चक्राकार गति।
उत्तर-
(ग) आवर्ती गति।

प्रश्न (iv)
एक कार 40 किमी/घंटा की गति के साथ 15 मिनट के लिए चलती है तथा अगले 15 मिनट के लिए इसकी गति 60 किमी/घंटा हो जाती है । कार द्वारा तय की गई कुल दूरी पता करो ।
(क) 100 किमी
(ख) 25 किमी
(ग) 15 किमी
(घ) 10 किमी
उत्तर-
(ख) 25 किमी

5. अति लघूत्तर प्रश्न :-

प्रश्न (i)
गति की परिभाषा लिखें । इसकी S.I. इकाई क्या है ?
उत्तर-
गति – इकाई समय में तय की गई दूरी को उस वस्तु की गति कहते हैं।
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 13 गति तथा समय 7
इकाई – गति को मापने की S.I. इकाई मीटर/सैकण्ड (m/s) है।

प्रश्न (ii)
पुराने समय में लोग समय मापने के लिए किन उपकरणों का प्रयोग करते थे ?
उत्तर-
पुराने (प्राचीन) समय में लोग प्राकृतिक घटनाओं द्वारा समय का माप करते थे। समय बीतने में समय मापने के लिए कुछ उपकरणों की खोज की गयी। उनमें से कुछ निम्नलिखित हैं-

  1. सूर्य घड़ी – सूरज की स्थिति में परिवर्तन के कारण परछायीं की स्थिति में परिवर्तन को सूर्य घड़ी द्वारा मापा जाता
  2. रेत घड़ी – इस घड़ी में रेत को एक बल्ब से दूसरे बल्ब में एक घंटे बहने का समय मापने के लिए प्रयोग किया जाता है।
  3. जल घड़ी – एक बर्तन से दूसरे बर्तन में खास समय में जल के बहने की समय मापने के लिए प्रयुक्त किया जाता था।
  4. पेंडुलम – साधारण पेंडुलम प्रत्येक दोलन के लिए बराबर समय लेता है। इस काल को आवर्तकाल कहते हैं।

प्रश्न (iii)
इनका माप पता करने के लिए प्रयोग किए जाने वाले उपकरणों के नाम लिखें।
(क) चलते हुए वाहनों की गति।
(ख) वाहनों द्वारा तय की गई दूरी।
उत्तर-
(क) चलते वाहन की चाल मापने के लिए उपकरण – स्पीडोमीटर।
(ख) वाहनों द्वारा तय की गई दूरी – ओडोमीटर।

प्रश्न (iv)
ग्राफ क्या होता है ? इसकी किस्मों के नाम लिखें।
उत्तर-
ग्राफ – ग्राफ एक मात्रा की दूसरी मात्रा से तुलना को चित्र रूप में दर्शाता है। एक मात्रा को बदलने से दूसरी मात्रा अपने आप बदल जाती है।

ग्राफ की किस्में/प्रकार-ग्राफ की कई किस्में हैं-

  1. रेखीय ग्राफ
  2. छड़ ग्राफ
  3. पाई चार्ट या चक्कर ग्राफ।

6. लघूत्तर प्रश्न :-

प्रश्न (i)
मंद तथा तेज़ गति में अंतर बताएं। इनके उदाहरण दें।
उत्तर-
मंद गति – यदि कोई वस्तु थोड़ी दूरी तय करने में बहुत लम्बा समय लगाती है तो उसकी गति मंद गति होती है।
उदाहरण – कछुआ तथा घोंघा की गति।
तेज़ गति – यदि कोई वस्तु उसी दूरी को तय करने में कम समय लगाती है तो उसकी गति तेज़ होती है।
उदाहरण – रेसिंग कार तथा चीते की गति।

प्रश्न (ii)
एक समान तथा असमान गतियों में अंतर बताएं। इनके उदाहरण दें।
उत्तर-
समान गति – यदि कोई वस्तु समान समय में समान दूरी तय करती है भले ही कालांतर कितना भी छोटा क्यों न हो, तो उस वस्तु की गति समान गति कहलाती है।

उदाहरण – मान लो एक बस 10 km की दूरी पहले 15 मिनट में तय करती है तथा अगले 15 मिनटों में 10 km की दूरी, फिर इससे अगले 15 मिनटों में भी 10 km की दूरी तय करती है, तो उस बस की गति समान गति होगी।

असमान गति – यदि कोई वस्तु समान समय में समान दूरी न तय करे तो उस वस्तु की गति असमान गति कहलाती है।

उदाहरण – मान लो एक कार सीधी सड़क पर 10 मिनटों में 25 km की दूरी तय करती है तथा अगले 10 मिनटों में 30 km तथा इससे अगले 10 मिनटों में 20 km की दूरी तय करती है, तो उस कार की गति असमान गति होगी।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 13 गति तथा समय

प्रश्न (iii)
अजय अपने घर से 600 मीटर दूर अपने स्कूल जाता है। यदि उसे अपने घर से पैदल स्कूल तक जाने के लिए 5 मिनट लगते हैं, तो उसकी गति मीटर/सैकण्ड में पता करें।
हल :
अजय के स्कूल की घर से दूरी = 600 मीटर
स्कूल से घर की दूरी तय करने में लगा समय = 5 मिनट
= 300 सैकण्ड
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 13 गति तथा समय 8
= 2 मी०/सैं०

प्रश्न (iv)
दो स्टेशनों के बीच 216 किलोमीटर की दूरी है। 20 मीटर/सेकंड की गति के साथ चल रही एक रेलगाड़ी कितने घंटे में एक स्टेशन से दूसरे स्टेशन तक पहुंचेगी ?
हल :
दो स्टेशनों के बीच दूरी = 216 किलोमीटर
रेलगाड़ी की चाल = 20 मी०/सैं०
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 13 गति तथा समय 9
= 3 घण्टे उत्तर

प्रश्न (v)
एक साधारण पेंडुलम 20 सैकंड में 50 दोलनें पूरी करता है । इसका आवर्तकाल पता करें ।
हल :
साधारण पेंडुलम के दोलनों की संख्या = 50
50 दोलनों को पूरा करने में लगा समय = 20 सैकण्ड
पेंडुलम का आवर्तकाल = ?
हम जानते हैं कि आवर्तकाल = 1 दोलन को लगा समय
\(\frac{20}{50}\)
= \(\frac{2}{5}\) सैकण्ड
= 0.4 सैकण्ड उत्तर

7. निबंधात्मक प्रश्न :-

प्रश्न (i)
एक साधारण पेंडुलम का आवर्तकाल पता करने की विधि लिखें।
उत्तर-
विधि-चित्र में दिखाए अनुसार लगभग 1 मीटर लम्बें धागे से एक धातु के गोले को बांधकर साधारण पेंडुलम बनाओ। यदि आस-पास कोई पंखा चल रहा हो तो उसे बंद कर दो। जब पेंडुलम को मध्य स्थिति पर विराम अवस्था में आने दो। मध्य स्थिति को फर्श पर चाक से अंकित करो। पेंडुलम का आवर्तकाल मापने के लिए एक विराम घड़ी या मोबाइल ले लो। गोले को एक तरफ ले जाओ। ध्यान रहे कि धागा खींचा होना चाहिए। अब गोले को धीरे से छोड़ दो। जब गोल अंतिम स्थिति पर हो तो विराम घड़ी शुरू कर दो। दोलनों की गिनती करो। पेंडुलम द्वारा 20 दोलनों को पूरा करने के लिए लिया गया समय नोट करो। अपने निरीक्षण को दी हुई सारणी में लिखो। 20 दोलनों के लिए लगे समय को दोलनों की गिनती (20) से भाग करो ताकि जो एक दोलन में लगे समय का पता चल सके। पेंडुलम द्वारा एक दोलन के लिए लगे समय को इसका आवर्तकाल कहते हैं।
इस क्रिया को 3-4 बार दोहराओ तथा नीचे दी गई सारणी में नोट करो ।
निरीक्षण

क्रम संख्या 20 दोलनों के लिए लगा समय आवर्तकाल
1.
2.
3.

आप देखोगे कि हर बार आवर्तकाल का माप लगभग एक समान होगा।

प्रश्न (ii)
एक कार पहले घंटे में 60 किलोमीटर, दूसरे घंटे में 75 किलोमीटर, तीसरे घंटे में 55 किलोमीटर तथा चौथे घंटे में 50 किलोमीटर दूरी तय करती है। कार की गति के लिए दूरी-समय ग्राफ बनाएं।
(क) पूरे सफर के लिए कार की गति पता करें ।
(ख) पहले घंटे से तीसरे घंटे के बीच कार की गति पता करें ।
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 13 गति तथा समय 10

हल :
(क) पूरे सफर में तय की गई दूरी = 60 कि०मी० + 75 कि०मी० + 55 कि०मी०
+ 50 कि०मी०
= 240 कि०मी०
कुल लगा समय = 4 घण्टे
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 13 गति तथा समय 11
= 60 कि०मी०/घण्टा उत्तर

(ख) पहले घण्टे से लेकर तीसरे घण्टे तक तय की गयी दूरी
= 75 कि०मी० + 55 कि०मी०
= 130 मि०मी०
समय = 2 घण्टे
पहले घण्टे से तीसरे घण्टे तक कार की चाल = PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 13 गति तथा समय 12
= 65 कि०मी०/घण्टा उत्तर

प्रश्न (ii)
चित्र में दो वाहनों A तथा B की गति के लिए दूरी-समय ग्राफ दिया गया है। दोनों में से किसकी चाल अधिक है।
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 13 गति तथा समय 13
उत्तर-
दोनों वाहनों के दूरी – समय ग्राफ के अध्ययन से यह पता चलता है कि वाहन A की दूरी तथा समय के ग्राफ का अनुपात वाहन B की तुलना में अधिक है, इसलिए A वाहन की चाल वाहन B के मुकाबले अधिक है।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 13 गति तथा समय

Science Guide for Class 7 PSEB गति तथा समय Intext Questions and Answers

सोचें तथा उत्तर दें:-(पेज 157)

प्रश्न 1.
साधारण पेंडुलम क्या है ?
उत्तर-
साधारण पेंडुलम – एक धागे से बाँधकर किसी स्थिर बिंदु से लटकाए गए भारी पुंज (धातु के गोले) को साधारण पेंडुलम कहते हैं।

प्रश्न 2.
साधारण पेंडुलम की इधर-उधर की गति को क्या कहते हैं ?
उत्तर-
साधारण पेंडुलम की इधर-उधर की गति को दोलन गति कहते हैं।

प्रश्न 3.
पेंडुलम की एक दोलन के लिए लगे समय को इसका ……………….. कहते हैं।
उत्तर-
आवर्तकाल।

प्रश्न 4.
प्रति इकाई समय में किए गए दोलनों की संख्या को ………………………. कहते हैं।
उत्तर-
आवृत्ति।

सोचें तथा उत्तर दें :-(पेज 158)

प्रश्न 1.
हम विराम घड़ी के साथ क्या मापते हैं ?
उत्तर-
छोटे समय अंतराल को मापने के लिए विराम घडी प्रयोग की जाती है।

प्रश्न 2.
दूरी को मापने की इकाई क्या है ?
उत्तर-
मीटर ।

PSEB Solutions for Class 7 Science गति तथा समय Important Questions and Answers

वस्तुनिष्ठ प्रश्न

प्रश्न 1.
रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए-

(i) किसी वस्तु द्वारा इकाई समय में तय की गई दूरी को ………………….. कहते हैं।
उत्तर-
चाल

(ii) पेंडुलम द्वारा एक दोलन के लिए लगे समय को इसका ………………….. कहते हैं।
उत्तर-
आवर्त काल

(iii) वाहनों द्वारा तय की गई दूरी मापने के लिए प्रयोग होने वाले यंत्र को …………………. कहते हैं।
उत्तर-
ओडोमीटर

(iv) चलते हुए वाहनों की चाल मापने वाले यंत्र को ………………….. कहते हैं।
उत्तर-
स्पीडोमीटर

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 13 गति तथा समय

(v) एक समान गति के लिए तय की गई दूरी तथा लगे समय में बनाया गया ग्राफ
उत्तर-
सीधी रेखा।

प्रश्न 2.
कॉलम A में दिए शब्दों को कॉलम B में दिए गए चित्रों से मिलाइए चित्रों-
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 13 गति तथा समय 14
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 13 गति तथा समय 15
उत्तर-
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 13 गति तथा समय 16
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 13 गति तथा समय 17
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 13 गति तथा समय 18

प्रश्न 3.
सही विकल्प चुनें-

(i) समय का मूल मात्रक है-
(क) मिनट
(ख) घंटा
(ग) सैकण्ड
(घ) इनमें से कोई नहीं।
उत्तर-
(ग) सैकण्ड।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 13 गति तथा समय

(ii) रेलगाड़ी की चाल व्यक्त की जाती है-
(क) m/h
(ख) km/h
(ग) cm/h
(घ) mm/h.
उत्तर-
(ख) km/h

(iii) चाल का S.I. मात्रक है-
(क) m/s
(ख) km/s
(ग) cm/s
(घ) mm/s.
उत्तर-
(क) m/s.

(iv) निम्न में से कौन-सा संबंध सही है ?
(क) चाल = दूरी × समय
(ख) चाल = PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 13 गति तथा समय 19
(ग) चाल = PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 13 गति तथा समय 20
(घ) इनमें से कोई नहीं।
दूरी
उत्तर-
(ख) चाल = PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 13 गति तथा समय 19

(v) गति जो एक समानांतर समय के बाद अपने आप को दोहराती है-
(क) दोलन गति
(ख) आवर्ती गति
(ग) आवर्त गति
(घ) इनमें से कोई नहीं।
उत्तर-
(ख) आवर्ती गति।

(vi) तय की गई दूरी को मापने वाली युक्ति है-
(क) चाल मापी
(ख) ओडोमीटर (पथमापी)
(ग) लोलक
(घ) इनमें से कोई नहीं।
उत्तर-
(ख) ओडोमीटर (पथमापी)।

(vii) सरल लोलक द्वारा एक दोलन पूरा करने में लगा समय-
(क) आवर्तकाल
(ख) दोलन गति
(ग) समय-चाल
(घ) इनमें से कोई नहीं।
उत्तर-
(क) आवर्तकाल।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 13 गति तथा समय

(vii) नीचे दिखाए दूरी-समय ग्राफ़ों में से कौन-सा वस्तु की विराम अवस्था को दर्शाता है ?
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 13 गति तथा समय 21
(क) a
(ख) b
(ग) c
(घ) कोई नहीं ।
उत्तर-
(क) a.

(ix) निम्नलिखित में कौन-सा संबंध सही है ?
(क) चाल = दूरी × समय
(ख) चाल = PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 13 गति तथा समय 22
(ग) चाल = PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 13 गति तथा समय 23
(घ) चाल = PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 13 गति तथा समय 24
उत्तर-
(ख) चाल = PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 13 गति तथा समय 22

(x) चाल का मूल मात्रक है-
(क) km/min
(ख) m/min
(ग) km/h
(घ) m/s
उत्तर-
(घ) m/s.

प्रश्न 4.
निम्नलिखित में कौन-सा कथन सही नहीं है ?

(क) समय का मूल मात्रक सेकंड है।
उत्तर-
सही

(ख) प्रत्येक वस्तु नियत चाल से गति करती है।
उत्तर-
गलत

(ग) दो शहरों के बीच की दूरियां किलोमीटर में मापी जाती हैं।
उत्तर-
सही

(घ) किसी दिए गए लोलक का आवर्तकाल नियत नहीं होता।
उत्तर-
गलत

(ङ) रेलगाड़ी की चाल-m/h में व्यक्त की जाती है।
उत्तर-
गलत।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 13 गति तथा समय

अति लघु उत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
दूरी को तय करने की दर को क्या कहते हैं गति या चाल ?
उत्तर-
चाल।

प्रश्न 2.
विस्थापन की दर को क्या कहते हैं-गति या चाल ?
उत्तर-
गति।

प्रश्न 3.
औसत चाल का सूत्र क्या है ?
उत्तर-
औसत चाल = PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 13 गति तथा समय 25

प्रश्न 4.
दो प्रकार की गतियों के नाम लिखें।
उत्तर-

  1. एक समान गति और
  2. असमान गति।

प्रश्न 5.
घड़ियों की चाल किस गति पर निर्भर करती है ?
उत्तर-
दोलन गति पर।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 13 गति तथा समय

प्रश्न 6.
काल अंतराल के मापन के लिए कौन-सा यंत्र उपयोग किया जाता है ?
उत्तर-
घड़ियां।

प्रश्न 7.
लोलक के धातु के गोले को क्या कहते हैं ?
उत्तर-
गोलक।

प्रश्न 8.
साधारण या सरल लोलक कौन-सी गति दर्शाता है ?
उत्तर-
आवर्ती (किसी बिंदु के इर्द-गिर्द की गति)।

प्रश्न 9.
समय का मात्रक क्या है ?
उत्तर-
सैकण्ड।

प्रश्न 10.
समय के बड़े मात्रक क्या हैं ?
उत्तर-
मिनट और घंटे।

प्रश्न 11.
ओडोमीटर (पथमापी) क्या है ?
उत्तर-
ओडोमीटर – ओडोमीटर एक ऐसी युक्ति है, जो वाहन द्वारा तय की गई दूरी को मापती है।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 13 गति तथा समय

प्रश्न 12.
चालमापी का क्या काम है ?
उत्तर-
यह चाल को km/h में मापती है।

लघु उत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
दोलन घड़ियों से पहले समय अंतराल का मापन क्या था ?
उत्तर-

  1. धूप घड़ी
  2. जल घड़ी
  3. रेत घड़ी।

प्रश्न 2.
ग्राफ़ खींचने के लिए पैमाने के चयन समय किन बातों का ध्यान रखना आवश्यक है ?
उत्तर-
ग्राफ़ खींचने के लिए पैमाने के चयन करते समय ध्यान देने योग्य बातें

  1. प्रत्येक राशि के अधिकतम और न्यूनतम मान के बीच अंतर।
  2. प्रत्येक राशि के मध्यवर्ती मान का अनुमान होना।
  3. ग्राफ़ पेपर के अधिकतम भाग का उपयोग करना।

प्रश्न 3.
सरल लोलक क्या है ?
उत्तर-
सरल लोलक – यह धातु के छोटे गोले अथवा पत्थर के टुकड़े को किसी दृढ़ स्टैंड से धागे द्वारा निलंबित करके बनाया जाता है।

प्रश्न 4.
निम्नलिखित गतियों का वर्गीकरण सरल रेखा के अनुदिश, वर्तुल तथा दोलन गति में कीजिए-
(क) दौड़ते समय आपके हाथों की गति
(ख) सीधी सड़क पर गाड़ी को खींचते घोड़े की गति
(ग) ‘मैरी गो राउंड’ झूले में बच्चे की गति।
(घ) ‘सी-सॉ’ झूले पर बच्चे की गति
(च) विद्युत घंटी के हथौड़े की गति
(छ) सीधे पुल पर रेलगाड़ी की गति।
उत्तर-
(क) दोलन गति
(ख) सरल रेखा के अनुदिश
(ग) वर्तुल गति
(घ) दोलन गति
(च) दोलन गति
(छ) सरल रेखा के अनुदिश।

प्रश्न 5.
कोई सरल लोलक 20 दोलन पूरे करने में 32s लेता है। लोलक का आवर्तकाल क्या है ?
हल :
दोलनों की संख्या = 20
दोलनों को पूरा करने में लगा समय = 32s
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 13 गति तथा समय 26
(लोलक को एक दोलन पूरा करने में लगा समय)
= \(\frac{32}{20}\)
= 1.6s

प्रश्न 6.
दो स्टेशनों के बीच की दूरी 200 km है। कोई रेलगाड़ी इस दूरी को तय करने में 4 घंटे लेती है। रेलगाड़ी की चाल परिकलित कीजिए।
हल :
दो स्टेशनों के बीच की दूरी (s) = 200 Km
दूरी तय करने में लगा समय (t) = 4 h
∴ चाल = \(\frac{S}{t}\)
= \(\frac{200}{4}\)
= 50 km/h.

प्रश्न 7.
सलमा अपने घर से साइकिल पर विद्यालय पहुँचने में 15 मिनट लेती है। यदि साइकिल की चाल 2 m/s है, तो घर से विद्यालय की दूरी परिकलित कीजिए।
हल-
लगा समय = 15 मिनट
= 15 × 60 = 900 सैकण्ड
साइकि की चाल = 2 m/s
तय की गई दूरी = चाल × समय
= 2 × 900
= 1800 मीटर
= \(\frac{1800}{1000}\) कि०मी०
= 1.8 कि० मी० उत्तर

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 13 गति तथा समय

दीर्घ उत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
परिभाषित करें-
(i) आवर्ती गति
(ii) दोलन गति
(ii) दोलन
(iv) आवर्त काल ।
उत्तर-
(i) आवर्ती गति – वह गति जो एक समान समय अंतराल के बाद अपने आपको दोहराती है, आवर्ती गति कहलाती है।

(ii) दोलन गति – किसी स्थिर बिंदु के इधर-उधर वस्तु की बार-बार दोहराई जाने वाली गति, दोलन गति कहलाती है।

(iii) दोलन – वस्तु का बार-बार इधर-उधर गति करना दोलन कहलाता है। जब पत्थर एक छोर से दूसरे छोर तक जाकर वापस पहले छोर तक पहुँचता है तो दोलन पूरा होता है।

(iv) आवर्त काल – सरल लोलक द्वारा एक दोलन को पूरा करने में लगा समय सरल लोलक का आवर्त काल कहलाता है।
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 13 गति तथा समय 27

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 12 पौधों में प्रजनन

Punjab State Board PSEB 7th Class Science Book Solutions Chapter 12 पौधों में प्रजनन Textbook Exercise Questions and Answers.

PSEB Solutions for Class 7 Science Chapter 12 पौधों में प्रजनन

PSEB 7th Class Science Guide पौधों में प्रजनन Textbook Questions and Answers

1. खाली स्थान भरें :-

(i) परागकोष तथा तंतु मिलकर फूल का ……………………. बनाते हैं।
उत्तर-
पुंकेसर

(ii) …………………. प्रजनन में बीज बनते हैं।
उत्तर-
द्विलिंगी

(iii) जिस फूल में हरी पत्तियाँ, पंखुड़ियाँ, पुंकेसर तथा स्त्रीकेसर के घेरे हों, उस फूल को ……………….. फूल कहते हैं।
उत्तर-
द्विलिंगी

(iv) …………. अलैंगिक प्रजनन की एक विधि है।
उत्तर-
कायिक प्रजनन।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 12 पौधों में प्रजनन

2. निम्नलिखित में ठीक या गलत लिखें :-

(i) खमीर में लैंगिक तथा अलैंगिक ढंगों से प्रजनन होता है।
उत्तर-
गलत

(ii) परागकण फूल के नर युग्मक होते हैं।
उत्तर-
ठीक

(iii) अदरक एक तना है जिसमें गाँठे तथा पोरियाँ या अंतरगाँठे होती हैं।
उत्तर-
ठीक

(iv) कलमें लगाना तथा प्योंद चढ़ाना, प्रजनन के प्राकृतिक ढंग हैं।
उत्तर-
गलत

3. उपयुक्त/उचित विकल्पों का मिलान करें :-

कॉलम ‘क’ कॉलम ‘ख’
(i) शकरकंदी (क) सूक्ष्म प्रजनन
(ii) आलू (ख) पत्थर चट्ट
(iii) पत्तों की मुकुलन द्वारा कायिक प्रजनन (ग) कृत्रिम प्रजनन
(iv) प्योंद चढ़ाना (घ) खमीर
(v) टिशु कल्चर (ङ) स्पाइरोगायरा
(vi) मुकुलन (च) रेशेदार जड़ें
(vii) खंडन विखंडन (छ) पौधा गाँठ

उत्तर-

कॉलम ‘क’ कॉलम ‘ख’
(i) शकरकंदी (च) रेशेदार जड़ें
(ii) आलू (छ) पौधा गाँठ
(iii) पत्तों की मुकुलन द्वारा कायिक प्रजनन (ख) पत्थर चट्ट
(iv) प्योंद चढ़ाना (ग) कृत्रिम प्रजनन
(v) टिशु कल्चर (क) सूक्ष्म प्रजनन
(vi) मुकुलन (घ) खमीर
(vii) खंडन विखंडन (ङ) स्पाइरोगायरा

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 12 पौधों में प्रजनन

4. अति लघूतर प्रश्न :-

प्रश्न (i)
प्रजनन के उस ढंग को क्या कहते हैं जिसमें केवल एक जनक से नये पौधे पैदा होते हैं ?
उत्तर-
कायिक प्रजनन – कलमें लगाना, दाब लगाना, टिशु कल्चर बनावटी ।

प्रश्न (ii)
फूल का कौन-सा भाग फल बनता है ?
उत्तर-
निषेचन के पश्चात् अंडकोष फल बन जाता है।

प्रश्न (iii)
खमीर में प्रजनन कैसे होता है ?
उत्तर-
कायिक वृद्धि का खमीर में सबसे साधारण ढंग अलैंगिक प्रजनन है जहाँ जनक सैल पर एक छोटी कली बनती है। जनक सैल टूट कर डॉटर न्यूक्लियस बनाता है जो डॉटर सैल में चला जाता है।

प्रश्न (iv)
एक उदाहरण दें जहां हवा परागण में सहायता करती है।
उत्तर-
जब परागकोष पक कर तैयार हो जाते हैं तो ये फट जाते हैं तथा परागकण इनसे बाहर आ जाते हैं परागकण बहुत हल्के होते हैं। इसलिए जब हवा बहती है तो यह हवा के साथ उड़ जाने पर दूर तक चले जाते हैं। यह परागकण उसी पौधे के दो फूलों के या उसी प्रजाति के दूसरे फूल के स्त्री केसर की परागकण ग्राही तक पहुँचते हैं जिससे परागकण क्रिया होती है।

प्रश्न (v)
फूल के लैंगिक भागों के नाम लिखें। उत्तर-फूल के लैंगिक भाग-

  1. पुंकेसर,
  2. स्त्री केसर।

5. लघूत्तर प्रश्न :-

प्रश्न (i)
पौधों में लैंगिक प्रजनन के भिन्न-भिन्न ढंगों के नाम लिखें।
उत्तर-
पौधों में लैंगिक प्रजनन – अलिंगी प्रजनन ऐसी विधि है जिसमें नये पौधे उगाने के लिए बीजों की आवश्यकता नहीं होती। एक ही जनक से नया पौधा तैयार हो जाता है। लैंगिक प्रजनन निम्नलिखित तरीकों से होता है-

  1. दो-खण्डन विधि
  2. कलियों द्वारा
  3. विखण्डन
  4. बीजाणु द्वारा
  5. पुनर्जनन।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 12 पौधों में प्रजनन

प्रश्न (ii)
पौधों में कृत्रिम प्रजनन क्या है ?
उत्तर-
पौधों में कृत्रिम प्रजनन – लाभदायक पौधों की संख्या बढ़ाने के लिए कायिक प्रजनन के बनावटी ढंग को अपनाया जाता है। अलैंगिक प्रजनन की इन विधियों में न तो जनन अंग हिस्सा लेता है तथा न ही बीज पैदा होता है। इस बनावटी प्रजनन में जड़ों, तने, डालियों या पत्तों द्वारा नये पौधे होते हैं। कुछ बनावटी ढंग ये हैं-

  1. कलम लगाना (तने और जड़ों की कलम)
  2. दाब लगाना
  3. प्योंद
  4. टिशु कल्चर।

प्रश्न (iii)
टिशु कल्चर का सूक्ष्म प्रजनन क्या है ?
उत्तर-
टिशु कल्चर का सूक्ष्म प्रजनन – इस विधि में पौधे की टहनी के शिखर के नुकीले हिस्से में से टिशुओं का कुछ पुंज लिया जाता है क्योंकि इसमें तेजी से विभाजित हो रहे कम विकसित तथा अविभेदित सैल होते हैं। इस पुंज को जरूरी पोषकों तथा हार्मोन युक्त माध्यम में रखा जाता है। इस टिशु एक अविभेदित पुंज में विकसित हो जाता है। इन टिशुओं का कुछ भाग किसी माध्यम में उस समय तक रखा जाता है जब तक यह अंकुरित होने लगे। इन अंकुरों को गीली मिट्टी में उगाया जाता है। इस विधि को सूक्ष्म प्रसार भी कहते हैं।

प्रश्न (iv)
बीज प्रकीर्णन के लाभ लिखें।
उत्तर-
बीज प्रकीर्णन के लाभ-

  1. बीज प्रकीर्णन से पौधे अधिक क्षेत्रों में फैल जाते हैं।
  2. एक ही स्थान पर पौधों के घने होने की संभावना कम हो जाती है।
  3. पौधों की सही/उचित वृद्धि होती है तथा पौधों का आपस में सूर्य की रोशनी, पानी, खनिजों की प्राप्ति के लिए मुकाबला कम हो जाता है।

प्रश्न (v)
अंकुरित होना क्या है ? अंकुरित होने के लिए आवश्यक परिस्थितियाँ कौन-सी हैं ?
उत्तर-
गीली मिट्टी पर पहुँच कर बीज पानी अवशोषित कर फूल जाते हैं। अब भ्रूण अंकुरित होना आरंभ कर देता है तथा इसका रैडीकल (जड़ अंकुर) मिट्टी के अंदर धंस जाता है तथा जड़ बनती है। तना अंकुर (प्लयूमर) ऊपर हवा की ओर बढ़ता है तथा पत्ते निकल आते हैं। यह छोटे पौधे का रूप है।

अंकुरित होने के लिए आवश्यक स्थितियाँ – सभी बीजों को अंकुरित होने के लिए पानी, ऑक्सीजन (हवा) और उचित तापमान को आवश्यकता होती है ! कुछ बीजों को प्रकाश की उचित मात्रा की भी आवश्यकता होती है। जब बीज को उचित स्थितियाँ मिलती हैं तो वह पानी तथा ऑक्सीजन को बाहरी परत से अंदर की ओर ले जाकर एंजाइम को क्रियाशील बनाता है तथा अंकुरित होता है तथा बीज की जड़ बनती है जो भूमि के नीचे से पानी प्राप्त करता है तथा इसका तना बनता है जो ऊपर हवा की ओर बढ़ता है तथा तने में पत्ते निकलते हैं जिससे सूर्य प्रकाश में भोजन बनाता है।

6. निबंधात्मक प्रश्न :-

प्रश्न (i)
उदाहरणों सहित अलैंगिक प्रजनन के भिन्न-भिन्न ढंगों का वर्णन करें।
उत्तर-
अलैंगिक प्रजनन के विभिन्न ढंग-
1. दो-खण्डन विधि – यह अलिंगी प्रजनन का आम ढंग है जिसमें एक जीव, दो जीवों में बंट जाता है। यह पौधे तथा कुछ एक कोशी जीवों जैसे फफूंदी, कुछ कायी में सामान्य होता है। प्रजनन की इस विधि में जीव दो समान भागों में बाँटा जाता है। न्यूक्लियस दो हिस्सों में बाँटा जाता है तथा दोनों भाग विकसित होकर दो नये | जनक जीव उत्पन्न करते हैं।
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 12 पौधों में प्रजनन 1

2. कलियों (मुकुलन) द्वारा – ऐसा प्रजनन हाइड्रा में देखा जाता है। अलैंगिक प्रजनन कलियों या बड्ड द्वारा होता है। जनक पौधे लीव पर बल्ब जैसे आकार बनते हैं जिन्हें कली कहा जाता है, यह कली अपने आप को मुख्य पौधे से अलग करके एक नये पौधे में विकसित (स्वयं) होती है।
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 12 पौधों में प्रजनन 2

3. विखंडन – यह छप्पड़, झीलों या अन्य रुके जल भंडारों में हरे धब्बों के रूप में काई दिखाई देती है। जब भरपूर मात्रा में पानी तथा पोषण उपलब्ध होता है तो विखण्डन की विधि द्वारा इनकी संख्या में वृद्धि होती है। इस विधि में काई दो या अधिक टुकड़ों में बंट जाती है। प्रत्येक टुकड़ा पूर्ण काई में विकसित हो जाता है। यह प्रक्रिया कई बार दुहराई जाती है।
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 12 पौधों में प्रजनन 3

4. बीजाणु द्वारा – बीजाणु बहुत छोटे, गोल आकार की अलैंगिक प्रजनन की रचनाएँ होती हैं। बीजाणुओं की बाहरी परत सख्त होती है तथा यह हवा में लंबा समय रह सकते हैं। अनुकूल स्थितियों के दौरान, प्रत्येक बीजाणु अंकुरित होकर एक नये जीव के रूप में विकसित हो जाता है। डबल रोटी पर पैदा हुई फफूंदी राइजोपस, बीजाणुओं द्वारा अलैंगिक प्रजनन से पैदा होती है। मौस, फरन जैसे पौधे भी बीजाणुओं द्वारा पैदा होते हैं।
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 12 पौधों में प्रजनन 4

5. पुनर्जनन – जीव किसी-न-किसी रूप में अपने टूटे-फूटे अंग की मुरम्मत तथा वृद्धि करता है। पुराने या मृत कोशिका के जगह नए कोशिका बनाते हैं। जीवों की अपने आप (स्वयं) को मुरम्मत करने तथा टूटे-फूटे अंग वापिस द्वारा पैदा करने की योग्यता को पुनर्जनन कहते हैं। पौधों में पुनर्जनन की क्षमता जंतुओं की तुलना में अधिक होती है।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 12 पौधों में प्रजनन

प्रश्न (ii)
उदाहरणों सहित उन ढंगों का वर्णन करें जिनके द्वारा पौधे कायिक प्रवर्धन के कृत्रिम ढंगों के द्वारा प्रजनन करते हैं।
उत्तर-
कायिक प्रवर्धन के कृत्रिम ढंग – मनुष्य ने लाभदायक पौधों की संख्या में अधिकता के लिए कायिक प्रजनन के कृत्रिम ढंग अपनाए हैं।
इनमें से कुछ ढंग निम्नलिखित हैं-
1. कलमें लगाना-(क) तने की कलमें लगाना – कलमें, तने या टहनी के गांठ वाले छोटे भाग होते हैं, जब इन्हें गीली मिट्टी में दबाया जाता है तो अनुकूल स्थितियों के दौरान इनमें जड़ें तथा पत्ते अंकुरित होते हैं तथा यह भिन्न पौधे के रूप में विकसित होते हैं। बोगनवेलिया, गन्ना, कैक्टस तथा गुलाब आदि कलमों द्वारा उगाये जाते हैं।
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 12 पौधों में प्रजनन 5
(ख) जड़ों की कलमें (Root Cuttings) – नींबू, इमली जैसे पौधों की जड़ों के टुकड़ों को जब गीली मिट्टी में दबाया जाता है तो यह नये पौधों में विकसित हो जाती हैं।

2. दाब लगाना – पौधे की एक टहनी को मोड़ कर मिट्टी में दबाया जाता है। दबे हुए भाग में जड़ें विकसित हो जाती हैं तथा एक स्वतन्त्र पौधा तैयार हो जाता है क्योंकि इस टहनी का ऊपरी सिरा पहले ही हवा में होता है। इस प्रकार विकसित हुए पौधे को मूल पौधे से काट कर नयी जगह पर उगाया जाता है। जैसमीन, स्ट्राबेरी, बोगनवेलिया जैसे पौधे लेयरिंग या दाब द्वारा उगाये जाते
चित्र-दाब लगाना हैं।
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 12 पौधों में प्रजनन 6

3. प्योंद – प्योंद दो भिन्न-भिन्न पौधों से तैयार की जाती है। एक पौधे के जड़ वाला हिस्सा तने सहित चुना जाता है जिसको (स्टॉक) कहते हैं, जबकि दूसरे पौधे (आवश्यक गुणों वाला) से तने वाला भाग लिया जाता है जिसे शाखा (scion) कहा जाता है। शाखा ऐसे पौधे की लगायी जाती है जिसके गुणों वाला पौधा आवश्यक होता है। मूल तथा शाखा दोनों को तिरछा काट कर आमने-सामने जोड़ा जाता है। फिर दोनों सिरों को कसकर बाँध दिया जाता है। बाँधे हुए हिस्से को किसी कपडे या पालीथीन से लपेट दिया जाता है।
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 12 पौधों में प्रजनन 7

4. टिशु कल्चर – इस विधि में पौधे की टहनी के शिखर के नुकीले भाग में से टिशु का पुंज लिया जाता है क्योंकि इसमें तेजी से विभाजित हो रहे, कम विकसित तथा अविभेदित सैल होते हैं। टिशु के पुंज को ज़रूरी पोषकों तथा हार्मोन युक्त माध्यम में रखा जाता है, जब तक उनमें से अंकुर न निकल आए। इन छोटे पौधों को मिट्टी या गमले में गीली मिट्टी में उगाया जाता है। इस विधि को सूक्ष्म प्रसार भी कहते हैं।
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 12 पौधों में प्रजनन 8

इस विधि द्वारा बहुत ही कम समय में बहुत सारे पौधे उगाये जा सकते हैं। इस तकनीक का प्रयोग बीमारी-रहित आरकिड (archids), कार्नेशन (Carnation), गलैडीओलस (Gladiolus), गुलदाउदी, आलू, गन्ना आदि के पौधों उगाने के लिए किया जाता है।

प्रश्न (iii)
परागण क्रिया क्या है ? दो तरह की परागण क्रिया कौन-सी है ? परागण के कारकों का उदाहरण सहित वर्णन करें।
उत्तर-
परागण (Pollination) – पके हुए परागकणों का परागकोष से परागकण-ग्राही तक स्थानांतरण, परागण क्रिया कहलाता है। परागकण हल्के होते हैं इसलिए यह हवा, पानी, कीटों या जंतुओं द्वारा दूर-दूर तक चले जाते हैं तथा उसे फूल के या दूसरे फूल के स्त्री केसर की परागकण ग्राही तक पहुँचते हैं। परागकणों का परागकोष से परागकण ग्राही तथा स्थनांतरण परागण क्रिया कहलाती है।

परागण की किस्में-परागण क्रिया निम्नलिखित दो प्रकार का होती हैं-

1. स्व:परागण – दो लैंगिक फूलों में परागकण, परागकोष में जब उसी फूल के स्त्री केसर की परागकण-ग्राही तक जाते हैं तो इस क्रिया को स्व:परागण कहते हैं, क्योंकि इनके जीन की रचना समान होती है। उदाहरण बैंगन, टमाटर, सरसों ।

2. पर-परागण-पर-परागण क्रिया में परागकण एक फूल के पुंकेसर (परागकोष) से किसी दूसरे फूल की परागकता-ग्राही (स्त्री केसर) तक जाते हैं। पर-परागण क्रिया एक ही पौधे के दो फूलों (पुष्पों) या उसी प्रजाति के दो पौधों के फूलों के मध्य होता है। पौधों में पर-परागण हवा, कीट, पानी तथा जन्तुओं द्वारा होता है।
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 12 पौधों में प्रजनन 9

परागण के विभिन्न कारक-

1. वायु द्वारा परागण – कई पौधों में हवा द्वारा परागण होता है। तेज हवा चलने से किसी फूल के हल्के परागण दूसरे फूल के स्त्री केसर तक पहुँच जाते हैं। उदाहरण-गेहूँ, कपास, सूरजमुखी, ज्वार, करोंदा, चीड़, दो–फूल आदि।

2. कीट द्वारा परागण – फूलों के रंग तथा खुशबू के कारण कीट (तितली तथा भँवरे) फूलों की ओर खींचे आते हैं। इन फूलों पर स्त्री केसर साधारण रूप से चिपचिपे होते हैं। जब कीट इन फूलों पर आकर बैठते हैं तो उनके पैरों तथा पंखों में परागकण चिपक जाते हैं। जब यह कीट किसी दूसरे फूल पर बैठते हैं तो वहाँ स्त्री केसर पर परागकण छोड़ देते हैं। उदाहरण-अंजीर, आक, गूलर आदि।

3. पानी द्वारा परागण – पानी में उगने वाले पौधों के फूलों के परागकण पानी में बहते हुए दूसरे फूल को स्त्री केसर तक पहुंचाते हैं क्योंकि परागकणों की सघनता इतनी है कि वह पानी पर तैरते हैं तथा मादा फूल के संपर्क में आ सके। उदाहरण-कमल का फूल, जल-लिली, वेलसनेरिया आदि।

4. जन्तुओं द्वारा परागकण – कुछ पौधों में परागण पंछियों, चमगादड़ तथा घोघों की मदद द्वारा होता है। उदाहरण-यूरेना, अँबीयम सेमल, बिगोनीयम आदि।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 12 पौधों में प्रजनन

प्रश्न (iv)
निषेचन क्रिया का वर्णन करो।
उत्तर-
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 12 पौधों में प्रजनन 10
निषेचन क्रिया – परागकण-ग्राही पर पहुँचने के बाद परागकण में से एक छोटी-सी ट्यूब निकलती है, जिसे परागनली कहते हैं। यह स्त्री केसर की पराग वाहिनी या वर्तीकाग्र में से होते हुए अंडकोष तक पहुंचती है तथा फिर अंडाणु (Ovule) में दाखिल होती है। यहाँ नर तथा मादा युग्मक का मेल होता है। नर युग्मक तथा मादा युग्मक के सुमेल को निषेचन क्रिया कहते हैं।

निषेचन के बाद फल की पंखुड़ियां पुंकेसर, टाइल तथा स्टिगमा गिर जाते हैं बाहरी दल सूख जाता है तथा अंडकोश पर लगा रहता है। अंडकोश तेजी से वृद्धि करता है और इन में मौजूद सैल विभाजित होकर वृद्धि करते हैं तथा बीज का बनना शुरू हो जाता है। बीज में एक भ्रूण होता है। भ्रूण में एक छोटी जड़, (मूल जड़) एक प्रांकुर तथा बीज पत्र होते हैं। बीज पत्र में भोजन संचित रहता है। समय अनुसार बीज सख्त होकर सूख जाता है। यह बीज प्रतिकूल हालतों में जीवित रह सकता है। अंडकोश की दीवार भी सख्त हो सकती है और एक फली बन जाती है। निषेचन के बाद सारे अंडकोश को फल कहते हैं।

प्रश्न (v)
फल तथा बीज की प्रक्रिया के दौरान भिन्न-भिन्न पड़ावों का वर्णन करो।
उत्तर-
फल तथा बीज बनना-

  1. निषेचन के पश्चात् अंडकोष; फल में तथा अंडाणु; बीज में परिवर्तित हो जाते हैं । फूल के बाकी हिस्से मुरझा कर झड़ जाते हैं।
  2. बीज एक विकसित अंडाणु होता है जिससे भ्रूण तथा पोषण उपस्थित होता है। यह एक सुरक्षित परत से ढका होता है। इसे बीज का छिलका कहते हैं।
  3. फल गुद्देदार तथा रस से भरे हुए या फिर सूखे तथा सख्त हो सकते हैं। आम, सेब, संतरा, गुद्देदार तथा रस भरे फल होते हैं जबकि बादाम, अखरोट सूखे तथा सख्त फल होते हैं।

प्रश्न (vi)
प्रकीर्णन (बिखरना) क्या है ? उदाहरण सहित उन ढंगों का वर्णन करें जिनके द्वारा बीज प्रकीर्णित (बिखरते) हैं।
उत्तर-
प्रकीर्णन (बिखरना) – बीज का एक स्थान से दूसरे स्थान तक किसी साधन/कारक-हवा, पानी, कीट, पंछी, मनुष्यों तथा जन्तुओं द्वारा पहुँचना जिससे बीज का अस्तित्व कायम रहे, बीज़ का प्रकीर्णन कहलाता है।

बीज प्रकीर्णन (बिखरने) की विधियाँ-

  1. हवा द्वारा बिखराव
  2. पानी द्वारा प्रकीर्णन
  3. जन्तुओं द्वारा प्रकीर्णन
  4. मनुष्यों द्वारा प्रकीर्णन
  5. विस्फोटक प्रक्रिया द्वारा।

1. हवा द्वारा प्रकीर्णन – हवा से बिखरने वाले बीज हल्के तथा छोटे होते हैं। दोफल (Maple); करोंदा ड्रमस्टिकस के बीजों के पंख होते हैं। इसलिए यह हवा में उड़ कर दूर चले जाते हैं। घास के हल्के बीज, आक, कपास (Cotton) जैसे पौधों के बालों वाले बीज तथा सूरजमुखी के बालों वाले फल हवा में उड़ कर दूर चले जाते हैं।

2. पानी द्वारा प्रकीर्णन – जल लिली, कमल तथा नारियल के फल तथा बीज पानी में तैरते रहते हैं। पानी की लहरें इन्हें दूर ले जाती हैं।

Science Guide for Class 7 PSEB पौधों में प्रजनन Intext Questions and Answers

सोचें तथा उत्तर दें :-(पेज 144)

प्रश्न 1.
पुनर्जनन (Regeneration) विधि में क्या होता है ?
उत्तर-
पनर्जनन विधि – इस विधि में जीव (पौधे तथा जंत) अपने आप की मुरम्मत करते हैं या फिर टूटे फूटे अंगों को वापिस पैदा करते हैं। इस प्रकार वह अपने पुराने या मृत सेलों के स्थान पर नये सेल बनते हैं। पौधों में पुनर्जनन की क्षमता जंतुओं के मुकाबले में अधिक होती है।

प्रश्न 2.
दो-खण्डन विधि (Binary Fission) के द्वारा अलैंगिक प्रजनन करने वाले दो जीवों के नाम लिखो।
उत्तर-
दो-खण्डन विधि द्वारा अलैंगिक प्रजनन करने वाले जीव-

  1. काई,
  2. फफूंदी।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 12 पौधों में प्रजनन

PSEB Solutions for Class 7 Science पौधों में प्रजनन Important Questions and Answers

वस्तनिष्ठ प्रश्न

प्रश्न 1.
रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए-

(i) जनक पादप के कायिक भागों से नए पादप के उत्पादन का प्रक्रम ……………….. कहलाता है।
उत्तर-
कायिक प्रवर्धन

(ii) ऐसे पुष्पों को, जिनमें केवल नर अथवा मादा जनन अंग होता है ……………….. पुष्प कहते हैं।
उत्तर-
एकलिंगी पुष्प

(iii) परागकणों का उसी अथवा उसी प्रकार के अन्य पुष्प के परागकोश से वर्तिकाग्र पर स्थानांतरण का प्रक्रम …………….. कहलाता है।
उत्तर-
स्वः परागण

(iv) नर और मादा युग्मकों का युग्मन ……………….. कहलाता है।
उत्तर-
निषेचन

(v) बीज प्रकीर्णन ………………………….. ,………………. के द्वारा होता है।
उत्तर-
जल, वायु, जंतु।

प्रश्न 2.
कॉलम ‘A’ में दिए गए शब्दों का कॉलम ‘B’ में दिए गए जीवों से मिलान कीजिए :-

का कॉलम ‘A’ कॉलम ‘B’
(क) कली/मुकुल (i) मैपिल
(ख) आँख (ii) स्पाइरोगाइरा
(ग) खंडन (iii) यीस्ट
(घ) पंख (iv) डबलरोटी की फफूंद
(च) बीजाणु (v) आलू

उत्तर-

का कॉलम ‘A’ कॉलम ‘B’
(क) कली/मुकुल (iii) यीस्ट
(ख) आँख (v) आलू
(ग) खंडन (ii) स्पाइरोगाइरा
(घ) पंख (i) मैपिल
(च) बीजाणु (iv) डबल रोटी की फफूंद।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 12 पौधों में प्रजनन

प्रश्न 3.
सही विकल्प चुनें-

(i) माता-पिता से संतान की उत्पत्ति को ………………… कहते हैं।
(क) परिवहन
(ख) उत्सर्जन
(ग) प्रजनन
(घ) श्वसन।
उत्तर-
(ग) प्रजनन।

(ii) निम्न में से कौन-सा पादप का कायिक अंग है ?
(क) तना
(ख) पत्ते
(ग) जड़
(घ) उपरोक्त सभी।
उत्तर-
(घ) उपरोक्त सभी।

(iii) निम्न में से कौन-सा पादप का जनन अंग है ?
(क) जड़
(ख) फूल
(ग) पत्ता
(घ) तना।
उत्तर-
(ख) फूल।

(iv) नर तथा मादा युग्मकों के मेल को …………………….. कहते हैं।
(क) निषेचन
(ख) परागण
(ग) युग्मनज
(घ) प्रजनन।
उत्तर-
(क) निषेचन।

(v) एक कोशिकीय यीस्ट में जनन के लिए कौन-सी विधि अपनाई जाती है ?
(क) खंडन
(ख) मुकुलन
(ग) बीजाणु निर्माण
(घ) द्विखंडन।
उत्तर-
(ख) मुकुलन।

(vi) ब्रायोफिलम अपने ………………………… भाग द्वारा जनन करता है।
(क) पत्ती
(ख) जड़
(ग) तना
(घ) फल।
उत्तर-
(क) पत्ती।

(vii) गुलाब और गन्ने में कौन-सी कायिक विधि का उपयोग होता है ?
(क) खंडन
(ख) मुकुलन
(ग) द्विखंडन
(घ) कलम लगाना।
उत्तर-
(घ) कलम लगाना।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 12 पौधों में प्रजनन

प्रश्न 4.
निम्नलिखित कथनों में से ठीक/गलत बताएं-

(i) अलैंगिक प्रजनन, लैंगिक प्रजनन के मुकाबले बहुत आम हैं ?
उत्तर-
ग़लत

(ii) वैक्टीरिया तथा खमीर अलैंगिक प्रजनन विधि द्वारा प्रजनन करते हैं।
उत्तर-
ठीक

(iii) बहुत-से जीवों में पुनर्जनन की क्षमता किसी न किसी विधि द्वारा होती है।
उत्तर-
ग़लत

(iv) एक निषेचित अंग बीत बनता है।
उत्तर-
ठीक

अति लघु उत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
जनन क्या है ?
उत्तर-
जनन (Reproduction) – यह जोवों का एक गुण है जिसके द्वारा वे अपने जैसे जीव उत्पन्न कर सकते हैं।

प्रश्न 2.
जनन का क्या उद्देश्य है ?
उत्तर-
जनन का उद्देश्य :

  1. वंश को बढ़ावा
  2. प्रजातियों की उत्पत्ति ।

प्रश्न 3.
दो प्रकार की जनन विधियां.कौन-सी हैं ?
उत्तर-

  1. लैंगिक जनन
  2. अलैंगिक जनन।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 12 पौधों में प्रजनन

प्रश्न 4.
पादपों में विभिन्न कायिक प्रवर्धन विधियां कौन-सी हैं ?
उत्तर-

  1. कलम लगाकर
  2. कायिक कलिकाएं दबाकर
  3. मूल या जड़ से।

प्रश्न 5.
गुलाब और गन्ने में कौन-सी कायिक विधि का उपयोग होता है ?
उत्तर-
कलम लगाना।

प्रश्न 6.
स्पाइरोगायरा और मुकूर में कौन-सी कायिक विधि उपयोग होती है ?
उत्तर-
स्पाइरोगायरा-खंडन
मुकूर-बीजाणु उत्पत्ति।

प्रश्न 7.
बेगोनिया और पुदीना में अलैंगिक जनन कैसे होता है ?
उत्तर-
बेगोनिया – पत्ता मुकुलन
पुदीना – जड़ें (मूल)।

प्रश्न 8.
यीस्ट, स्पंज और हाइड्रा में अलैंगिक जनन कैसे होता है ?
उत्तर-
तीनों में मुकुलन विधि से जनन होता है।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 12 पौधों में प्रजनन

प्रश्न 9.
पत्थरचट्ट (Bryophyllum) का कौन-सा कायिक अंग जनन में सहायक है ?
उत्तर-
पत्ती।

प्रश्न 10.
एक-एक उदाहरण दीजिए-
कायिक जनन
(i) मूल से
(ii) तने से।
उत्तर-
(i) मूल से कायिक जनन-शक्करकंदी
(i) तने से कायिक जनन-आलू।

प्रश्न 11.
परागण क्या है ?
उत्तर-
परागण (Pollination) – परागकणों का वर्तिकाग्र पर स्थानांतरण परागण कहलाता है।

लघु उत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
जनन क्या है ? यह कितनी प्रकार का है ?
उत्तर-
जनन (Reproduction) – सभी जीव जो इस धरती पर उत्पन्न हुए हैं उनके जीवन की विशेषताएं हैं जैसे जन्म वृद्धि, जनन, मृत्यु।

जनन की किस्में – यह एक ऐसा प्रक्रम है जिससे जाति पीढ़ी दर पीढ़ी वृद्धि करती है। पुराने और बूढ़े जीवों को जगह नए और जवान जीव ले लेते हैं। साधारणतया जनन दो प्रकार का होता है-

  1. अलैंगिक जनन (Asexual Reproduction)
  2. लैंगिक जनन (Sexual Reproduction)।

प्रश्न 2.
अलैंगिक और लैंगिक जनन को परिभाषित करें।
उत्तर-
अलैंगिक जनन – वृद्धि की इस विधि में संतान (नया पादप) किसी भी विशेष अथवा सामान्य भाग से उत्पन्न हो सकती है। इसमें जनन अंग से उत्पन्न युग्मकों का युग्मन आवश्यक नहीं है।

लैंगिक जनन – इस विधि में नर और मादा युग्मकों के युग्मन से युग्मनज़ बनता है। इस विधि के दो चरण हैं-

  1. अर्ध-सूत्री विभाजन-इसमें गुण सूत्रों की संख्या आधी हो जाती है।
  2. निषेचन-युग्मकों के युग्मन से गुण सूत्रों की संख्या पूरी हो जाती है।

प्रश्न 3.
डबलरोटी पर फफूंदी कहां से आती है ?
उत्तर-
फफूंदी के बीजाणु वायु में उपस्थित होते हैं। अनुकूलित परिस्थितियों में यह डबलरोटी पर जम जाते हैं और वृद्धि करते हैं।

प्रश्न 4.
एकलिंगी और द्विलिंगी पुष्पों के उदाहरण देते हए परिभाषाएं लिखिए।
उत्तर-
एकलिंगी पुष्प – ऐसे पुष्प जिनमें स्त्रीकेसर और पुंकेसर अलग-अलग पुष्पों में हो अर्थात् केवल पुंकेसर अथवा केवल स्त्रीकेसर हो, उन्हें एकलिंगी पुष्प कहते हैं। उदाहरण-मक्का, पपीता, ककड़ी।

द्विलिंगी पुष्प – एक ही पुष्प में दोनों स्त्रीकेसर और पुंकेसर का होना, द्विलिंगी पुष्प कहलाता है। उदाहरण-सरसों, गुलाब।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 12 पौधों में प्रजनन

प्रश्न 5.
पुष्प के जनन अंगों का संक्षिप्त वर्णन करो।
उत्तर-
पुष्प के जनन अंग-

  1. पुंकेसर – इसमें एक लंबा तंतु और एक परागकोष होता है। परागकोष में परागकण होते हैं। परागकण नर युग्मक बनाते हैं।
  2. स्त्रीकेसर – इसमें तीन भाग होते हैं। वर्तिकाग्र, वर्तिका, अंडाशय।

वर्तिकाग्र सबसे ऊपर वाला भाग, वर्तिका एक सीधी नली जैसा भाग है और अंडाशय सबसे नीचे वाला फूला हुआ भाग है। बीजांड अंडाशय में होते हैं। बीजांड से मादा युग्मक बनते हैं।
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 12 पौधों में प्रजनन 11

प्रश्न 6.
बीजांड और अंडाशय में अंतर स्पष्ट करें।
उत्तर-
बीजांड – अंडाशय की एक संरचना, जो निषेचन के पश्चात् बीज में परिवर्तित हो जाती है।
अंडाशय – स्त्रीकेसर के आधार का फूला हुआ भाग, जिसमें बीजांड होता है।

प्रश्न 7.
अलैंगिक जनन की विभिन्न विधियों का वर्णन कीजिए। प्रत्येक का उदाहरण दीजिए।
उत्तर-
(i) मुकुलन
(ii) खंडन
(iii) बीजाणु उत्पत्ति
(iv) कायिक प्रवर्धन।

(i) मुकुलन – स्पंज और हाइड्रा में आमतौर पर यही जनन प्रक्रम है। इस प्रक्रिया में जनक पादप पर नया पादप एक प्रवर्ध के रूप में विकसित होता है। यह कुछ समय बाद जनक कोशिका से अलग हो जाता है और वृद्धि करता है।

(ii) खंडन – जब शैवाल, फीता कृमि, एनिलिड्ज़ और चपटे कमि दो या अधिक खंडों में विभाजित हो जाते हैं और प्रत्येक खंड नए जीवों में वृद्धि करते हैं, तो विधि खंडन कहलाती है।

(ii) बीजाणु उत्पत्ति – कवक, म्यूकर आदि बीजाणु पैदा करते हैं, जो उच्च ताप और निम्न आर्द्रता जैसी परिस्थितियों में एक कठोर सुरक्षात्मक आवरण से ढके रहते हैं और अनुकूल परिस्थितियों में नए जीव विकसित करते हैं।

(iv) कायिक प्रवर्धन – पादप का एक भाग जो जनन अंग नहीं है, नए पादप में विकसित हो जाता है तो विधि को कायिक प्रवर्धन कहते हैं। जैसे गुलाब की कलम नए पौधे को उत्पन्न करती है।

प्रश्न 8.
पादपों में लैंगिक जनन के प्रक्रम को समझाइए।
उत्तर-
लैंगिक जनन (Sexual Reproduction) – पादपों में नर आर मादा जनन अंग पुंकेसर और स्त्रीकेसर है। पुंकेसर, नर युग्मक पैदा करता है। स्त्रीकेसर, मादा युग्मक उत्पन्न करती है। यह दोनों जनन अंग एक ही पुष्प अथवा अलग-अलग पुष्पों में हो सकते हैं।
पादपों में लैंगिक जनन बीजों द्वारा होता है।

प्रश्न 9.
अलैंगिक और लैंगिक जनन के बीच प्रमुख अंतर बताइए।
उत्तर-
अलैंगिक और लैंगिक जनन में अंतर-

अलैंगिक जनन (Asexual Reproduction) लैंगिक जनन (Sexual Reproduction)
(i) इस प्रक्रिया में एक जनक की आवश्यकता है। (i) इस प्रक्रिया में दोनों जनकों की आवश्यकता है।
(ii) जनन का सारा शरीर, एक कोशिका या एक प्रवर्ध जनन कर सकता है। (ii) युग्मक जो एक कोशिकीय होते हैं जनन इकाइयां है।
(iii) जनन अंग विकसित नहीं होते। (iii) जनन अंगों का विकसित होना अनिवार्य है।
(iv) पादप बीजों के बिना नए पौधे विकसित करते हैं। (iv) नए पादप बीजों द्वारा विकसित होते हैं।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 12 पौधों में प्रजनन

प्रश्न 10.
स्व:परागण और पर-परागण के बीच अंतर बताइए।
उत्तर-
स्वःपरागण और पर-परागण में अंतर-

स्व:परागण (Self Polination) पर-परामण (Cross Pollination)
(i) यह एक ही पुष्प या एक ही पौधों के विभिन्न पुष्पों के बीच होता है। (i) यह दो पुष्पों के बीच होने वाली क्रिया है।
(ii) परागण के लिए किसी अन्य वस्तु की ज़रूरत नहीं। (ii) परागण संपूर्ण करने के लिए वायु, जल, जंतु आदि कारकों की आवश्यकता होती है।

प्रश्न 11.
पुष्पों में निषेचन का प्रक्रम किस प्रकार संपन्न होता है ?
उत्तर-

  1. परागण द्वारा पुष्प के वर्तिकाग्र पर परागकणों का स्थानांतरण होता है।
  2. परागकण वर्तिकान पर पराग नली बनाते हैं जिसमें नर युग्मक होते हैं।
  3. अंडाशय वृद्धि करता है और बड़ी माता कोशिका का रूप ले लेता है।
  4. यह कोशिका अर्ध सूत्री विभाजन से चार बीजाणु बनाती है।
  5. इनमें से एक विकसित होकर भ्रूण थैला बनाता है।
  6. नर युग्मक और मादा युग्मक के संयोग से युग्मनज बनता है। यह क्रिया निषेचन कहलाती है।
  7. एंजियो स्पर्मज़ में दोहरी निषेचन क्रिया होती है।

दीर्य उत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
परागण से लेकर बीज बनने की प्रक्रिया के विभिन्न चरणों का विवरण दीजिए।
उत्तर-
परागकणों का वर्तिकाग्र पर स्थानांतरण, परागण कहलाता है। पुष्प के पुंकेसर पर परागकोष होते हैं, जो परागकण उत्पन्न करते हैं। स्त्रीकेसर के तीन भाग हैं-वर्तिकाग्र, वर्तिका, अंडाशय, परागण के पश्चात् परागकणों की पराग नली विकसित होती है। पराग नली में केंद्रक दो केंद्रकों में बंट जाता है-कायिक केंद्रक और जनन केंद्रक। जनन केंद्रक दो नए युग्मक उत्पन्न करता है। परराग नली वर्तिका में से होते हुए अंडाशय तक पहुंचती है। एक नर युग्मक बीजांड से युग्मक करके युग्मनज बनाता है तो दूसरा नर युग्मक दो ध्रुवीय केंद्रकों से युग्मक करके केंद्रक बनाता है जो एंडोस्पर्म (Endosperm) को जन्म देता है। इस तरह उच्च स्तरीय पादपों में दोहरी निषेचन क्रिया होती है।

निषेचन के पश्चात् अंडाशय फल में विकसित हो जाता है और पुष्प के अन्य भाग मुरझाकर गिर जाते हैं। बीजांड से बीज विकसित होते हैं। बीजों में भ्रूण होता है जो सुरक्षात्मक बीजावरण में रहता है। बीजावरण में संग्रहित भोजन होता है।
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 12 पौधों में प्रजनन 12

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 11 जंतुओं और पादपों में परिवहन

Punjab State Board PSEB 7th Class Science Book Solutions Chapter 11 जंतुओं और पादपों में परिवहन Textbook Exercise Questions and Answers.

PSEB Solutions for Class 7 Science Chapter 11 जंतुओं और पादपों में परिवहन

PSEB 7th Class Science Guide जंतुओं और पादपों में परिवहन Textbook Questions and Answers

1. रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए :-

(i) पादपों में जल तथा खनिजों का परिवहन ……………….. द्वारा किया जाता है।
उत्तर-
जड़ों

(ii) शरीर की आन्तरिक ध्वनियों को सुनने के लिए चिकित्सक …………………….. का प्रयोग करते हैं।
उत्तर-
स्टेथोस्कोप

(iii) पसीने में जल एवं …………………….. होता है।
उत्तर-
लवण

(iv) रक्त की नाड़ियाँ जिनको भित्तियाँ मोटी एवं लचीली होती हैं, उन्हें ……………………. कहते हैं।
उत्तर-
धमनियां

(v) हृदय के लयबद्ध संकुचन एवं विश्रांति (फैलाव) को …………….. कहते हैं।
उत्तर-
धड़कन।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 11 जंतुओं और पादपों में परिवहन

2. निम्नलिखित में से सही या गलत बताओ :-

(i) पौधों में फ्लोएम वाहिनियाँ भोज्य पदार्थों का स्थानान्तरण करती हैं।
उत्तर-
ग़लत

(ii) ऑक्सीजन रहित रक्त शिराओं द्वारा वापिस हृदय को भेज दिया जाता है।
उत्तर-
सही

(iii) शिराओं की भित्तियां मोटी होती हैं।
उत्तर-
ग़लत

(iv) प्लाज्मा रक्त का ठोस भाग होता है।
उत्तर-
ग़लत

(v) रक्त का लाल रंग रक्त में विद्यमान प्लाज्मा के कारण होता है।
उत्तर-
ग़लत

3. उचित विकल्पों का मिलान कीजिए :-

कॉलम क कॉलम ख
(i) जल का परिवहन (क) स्टोमैटा
(ii) लाल रंग (ख) जाइलम
(iii) गैसों की अदला-बदली (ग) हीमोग्लोबिन
(iv) रक्त का थक्का (घ) फ्लोएम
(v) भोजन का स्थानान्तरण (ङ) प्लेटलेट्स।

उत्तर-

कॉलम क कॉलम ख
(i) जल का परिवहन (ख) ज़ाइलम
(ii) लाल रंग (ग) हीमोग्लोबिन
(iii) गैसों की अदला-बदली (क) स्टोमैटा
(iv) रक्त का थक्का (ङ) प्लेटलेट्स
(v) भोजन का स्थानान्तरण (घ) फ्लोएम।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 11 जंतुओं और पादपों में परिवहन

4. सही उत्तर चुनिए :-

प्रश्न (i)
रक्त कोशिकाओं के जमने में सहायता करता है –
(क) प्लाज्मा
(ख) श्वेत रक्त कोशिकाएँ
(ग) लाल रक्त कोशिकाएँ
(घ) प्लेटलेट्स।
उत्तर-
(घ) प्लेटलेट्स।

प्रश्न (ii)
हृदय के निचले दो खानों को कहते हैं –
(क) अलिन्द
(ख) वाल्व
(ग) शिराएँ
(घ) निलय (वैटरीकल)।
उत्तर-
(घ) निलय (वैटरीकल)।

प्रश्न (iii)
मल निकास प्रणाली में होते हैं-
(क) गुर्दे
(ख) मूत्राशय
(ग) मूत्र-द्वार
(घ) उपरोक्त सभी।
उत्तर-
(घ) उपरोक्त सभी।

प्रश्न (iv)
वह मांसपेशी अंग जो निरन्तर पम्प की भाँति कार्य करने के लिए धड़कता रहता है –
(क) धमनियाँ
(ख) गुर्दे
(ग) हृदय
(घ) शिराएँ।
उत्तर-
(ग) हृदय।

प्रश्न (v)
रक्त में शामिल होते हैं –
(क) प्लाज्मा
(ख) लाल रक्त कोशिकाएँ
(ग) श्वेत रक्त कोशिकाएँ
(घ) उपरोक्त सभी।
उत्तर-
(घ) उपरोक्त सभी।

5. अति लघूत्तर प्रश्न :-

प्रश्न (i)
रक्त का रंग लाल क्यों होता है ?
उत्तर-
रक्त का लाल रंग – होमोग्लोबिन नाम का वर्णक जो एक प्रोटीन है। यह लोहे के अणुओं से मिलकर एक जटिल यौगिक बनाता है तथा ऑक्सीजन को लेकर शरीर के भिन्न-भिन्न अंगों की ओर जाता है। लोहे की अधिक मात्रा होने के कारण यह लाल रंग को परावर्तित करता है, जिससे रक्त लाल रंग का दिखाई देता है।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 11 जंतुओं और पादपों में परिवहन

प्रश्न (ii)
स्थानान्तरण की परिभाषा लिखो।
उत्तर-
स्थानान्तरण – पत्तों में तैयार भोजन पदार्थों को पौधे के अन्य हिस्सों तक पहुँचाने की प्रक्रिया को स्थानान्तरण कहते हैं।

प्रश्न (iii)
डायलाइसिस क्या होता है ?
उत्तर-
डायलाइसिस – यदि किसी व्यक्ति के दोनों गुर्दे खराब हो जाएं तो रक्त अच्छी प्रकार साफ़ नहीं होता, जिससे हानिकारक ठोस तथा द्रव व्यर्थ पदार्थ शरीर में जमा होने शुरू हो जाते हैं। ऐसा व्यक्ति अधिक देर तक जीवित नहीं रह सकता जब तक कि उसके रक्त को समय-समय पर बनावटी गुर्दे द्वारा फिल्टर न किया जाए। किसी मशीन द्वारा रक्त में से जहरीले पदार्थों को बाहर निकालने की प्रक्रिया को डायलाइसिस कहते हैं।

6. लघूत्तर प्रश्न :-

प्रश्न (i)
रक्त के तीन कार्य बताओ।
उत्तर-
रक्त के कार्य-

  1. रक्त ऑक्सीजन तथा पोषकों का स्थानान्तरण फेफड़ों तथा टिशुओं तक करता है।
  2. रक्त अपशिष्ट पदार्थों को गुर्दो तथा जिगर तक ले जाता है।
  3. रक्त संक्रमण का मुकाबला करने के लिए ऐंटीबाडीज़ को लेकर जाता है।
  4. रक्त शरीर के तापमान को कन्ट्रोल करता है।

प्रश्न (ii)
धमनियों में वाल्व क्यों नहीं होते ?
उत्तर-
धमनियों में वाल्व का मुख्य काम है कि रक्त को वापिस आने से रोकना क्योंकि इनमें रक्त दबाव कम होता है। अर्थात् यह सुनिश्चित किया जाता है कि रक्त एक दिशा में बह रहा है। धमनियों में लगे वाल्व गुरुत्वाकर्षण के उल्ट (विपरीत) दिशा में रक्त को वापिस हृदय तक बहने में सहायता करते हैं।

प्रश्न (iii)
मानवीय मल-त्याग प्रणाली के भागों के नाम लिखो।
उत्तर-
मानवीय मल-त्याग प्रणाली के भाग – मानवीय मल-त्याग प्रणाली के निम्नलिखित मुख्य भाग हैं :

  1. गुर्दे,
  2. मूत्रवाहिनी,
  3. मूत्राशय,
  4. मूत्र-मार्ग।

7. निबंधात्मक प्रश्न :-

प्रश्न (i)
रक्त के विभिन्न अंशों का विस्तारपूर्वक वर्णन करो।
उत्तर-
रक्त के अंश – रक्त एक तरल संयोगी टिशु है, जोकि निम्नलिखित मुख्य अंशों से मिलकर बना है :

  1. लाल रक्त सैल,
  2. सफेद रक्त सैल,
  3. प्लेटलेट्स तथा
  4. प्लाज्मा।

1. लाल रक्त सैल (R.B.C.) – इनमें हीमोग्लोबिन नाम का प्रोटीन होता है। जो श्वसन क्रिया में ऑक्सीजन तथा कार्बन डाइऑक्साइड का परिवहन करता है।
2. सफेद रक्त सैल (W.B.C.) – ये हानिकारक बैक्टीरिया तथा मृत सैलों को नष्ट कर देते हैं, जिससे संक्रमण से शरीर की रक्षा होती है।
3. प्लेटलेट्स (Platelets) – ये रक्त का थक्का बनाने में सहायक हैं। इस तरह ये अनमोल (अमूल्य) रक्त नष्ट होने से बचाते हैं।
4. प्लाज्मा (Plasma) – यह रक्त का द्रवीय भाग है, जिसमें प्रोटीन, हार्मोन, ग्लूकोस, फैटी एसिड, अमीनो ऐसिड, खनिज लवण, भोजन के पचने योग्य तथा उत्सर्जी पदार्थ होते हैं। यह रक्त के परिवहन का मुख्य अंश है। यह रक्त का \(\frac{2}{3}\) हिस्सा बनाता है।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 11 जंतुओं और पादपों में परिवहन

प्रश्न (ii)
हृदय के कार्य के बारे में बताओ।
उत्तर-
हृदय की कार्यप्रणाली – मुज्य धमनी फेफड़ों से ऑक्सीजन युक्त रक्त हृदय के दाएँ आरीकल में दाखिल होता है। फिर दाएँ आरीकल के सिकुड़ने से रक्त दाएँ वैंटरीकल में दाखिल होता है। जब दायाँ टरीकल सिकुड़ता है तो रक्त शरीर में दाखिल होता है। शरीर में से
ऑक्सीजन रहित रक्त बाएं आरीकल में दाखिल होता है।

जब बायाँ आरीकल सिकुड़ता है, दायां आरीकल तो यह रक्त को बाएं वैंटरीकल में भेज देता है। बायाँ सैंटरीकल इस रक्त को फेफडे धमनी के द्वारा पम्प करके फेफड़ों में आक्सीजन प्राप्त करने के लिए भेज देता है । हृदय में मौजूद वाल्व रक्त को केवल एक दिशा में ही जाने की आज्ञा देते हैं तथा रक्त को पीछे की ओर बहने से रोकते हैं।
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 11 जंतुओं और पादपों में परिवहन 1

प्रश्न (iii)
मानव उत्सर्जन-तन्त्र का चित्र बनाओ।
उत्तर-
मानव उत्सर्जन तन्त्र का चित्र-
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 11 जंतुओं और पादपों में परिवहन 2

प्रश्न (iv)
धमनियों तथा शिराओं में अन्तर बताओ।
उत्तर-
धमनियों तथा शिराओं में अन्तर-

धमनियों (Arteries) शिराएँ (Veins)
(1) धमनियाँ हृदय से रक्त का संवहन शरीर के विभिन्न भागों तक करती हैं। (1) शिराएँ शरीर के विभिन्न हिस्सों से रक्त को एकत्रित करके उसका संवहन हृदय तक करती हैं।
(2) इनमें कपाट (वाल्व) नहीं होते हैं। (2) इनमें कपाट (वाल्व) होते हैं।
(3) इनकी दीवारें मोटी होती हैं। (3) इनकी दीवारें पतली होती हैं।
(4) फेफड़ा धमनी को छोड़कर अन्य सभी धमनियाँ शुद्ध रक्त का परिवहन करती हैं। (4) फेफड़ा शिरा को छोड़कर अन्य सभी शिराएँ कार्बन-डाइऑक्साइड युक्त अशुद्ध रक्त का परिवहन करती हैं।
(5) चमड़ी नीचे गहराई में मौजूद होती हैं। (5) चमड़ी के नीचे कम गहराई में मौजूद होती है।
(6) रक्त का बहाव तेज़ और झटके से होता है। (6) रक्त का बहाव धीमी चाल से होता है।

प्रश्न (v)
पौधों में पदार्थों के स्थानान्तरण की व्याख्या करो।
उत्तर-
पौधों में पदार्थों का परिवहन – पौधे सूरज की रोशनी की मौजूदगी में वायुमण्डल में से कार्बनडाइऑक्साइड तथा जल लेकर क्लोरोफिल की सहायता से अपना भोजन तैयार करते हैं। जड़ों द्वारा जल तथा खनिज लवण अवशोषित कर पत्तों तक पहुंचाए जाते हैं जहाँ प्रकाश संश्लेषण की क्रिया होती है।

पौधों में जल तथा खनिजों का परिवहन – पौधे मिट्टी में से जल तथा खनिज प्राप्त करते हैं। यह सामान्य रूप से जडों के द्वारा किया जाता है। जड़ों के ऊपर जड़ बाल होते हैं जो जड़ की सतह के क्षेत्रफल को बढ़ा देते हैं जिससे जड़ को जल तथा इसमें घुले हुए खनिजों को अवशोषित करने में सहायता मिलती है।

पत्तों में जल के उत्सर्जन के कारण एक खिंचाव बल पैदा हो जाता है जो जल तथा पौष्टिक तत्वों को पौधे के शिखर तक पहँचाने में सहायक होता है। पौधों में मिट्टी से जल तथा पोशक तत्त्वों के परिवहन के लिए पाइप जैसी वाहिनियाँ होती हैं। वाहिनियाँ विशेष प्रकार के मृत सैलों से बनी होती हैं जिन्हें वाहिनी उत्तक कहते हैं।

भोजन का परिवहन – पौधे पत्तों में प्रकाश संश्लेषण द्वारा तैयार हुए भोजन को पौधे के प्रत्येक भाग तक पहुँचाने की आवश्यकता होती है। पौधों में भोजन के परिवहन के लिए ज़िम्मेदार उत्तक को फ्लोएम कहा जाता है। फ्लोएम, पत्तों में पैदा हुए ग्लूकोज़ को पौधों के सभी भागों तक पहुंचाता है। पत्तों में तैयार भोजन पदार्थों को पौधे के अन्य भागों तक पहुंचाने की प्रक्रिया को स्थानान्तरण कहते हैं।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 11 जंतुओं और पादपों में परिवहन

Science Guide for Class 7 PSEB जंतुओं और पादपों में परिवहन Intext Questions and Answers

सोचें तथा उत्तर दें:-(पृष्ठ 128)

प्रश्न 1.
स्पंदन (नब्ज़) दर क्या होती है ?
उत्तर-
नब्ज दर – किसी व्यक्ति की एक मिनट में जितनी बार नब्ज़ धक-धक करे, वह उसकी नब्ज़ दर कहलाती है।

प्रश्न 2.
आप नब्ज़ कहाँ अनुभव कर सकते हैं ?
उत्तर-
आप गर्दन पर, घुटनों के पीछे तथा टखनों के जोड़ के समीप नब्ज अनुभव कर सकते हैं।

सोचें तथा उत्तर दें:-(पृष्ठ 131)

प्रश्न 1.
स्टेथोस्कोप क्या है ?
उत्तर-
डॉक्टर, मरीज़ की स्थिति की जाँच करते समय उसके शरीर के अन्दर हृदय तथा फेफड़ों की आवाजें सुनने के लिए स्टेथॉस्कोप का प्रयोग करते हैं। स्टेथॉस्कोप के एक सिरे पर चैस्ट पीस तथा दूसरे सिरे पर इअर पीस होता है। यह दोनों पीस रबड़ की नली द्वारा जुड़े होते हैं।

प्रश्न 2.
क्या दिल की धड़कन और नब्ज (पल्ज) में कोई सम्बन्ध है ?
उत्तर-
नब्ज़ दर तथा हृदय धड़कन की दर दोनों एक समान होते हैं क्योंकि दिल (हृदय) का सिकुड़ना धमनियों में खून का दबाव बढ़ाता है जिस का पता नब्ज की धक-धक से लगता है। इसलिए नब्ज की जाँच सीधे दिल की धड़कन दर का माप है।

सोचें तथा उत्तर दें:-(पृष्ठ 133)

प्रश्न 1.
परासरण क्या होता है ?
उत्तर-
परासरण – यह वह प्रक्रिया है जिसमें घोलक एक अर्ध-पारगामी झिल्ली द्वारा कम सघनता वाले घोल से अधिक सघनता वाले घोल की ओर जाता है तथा झिल्ली के दोनों तरफ में घोलों की सघनता बराबर हो जाती है।

प्रश्न 2.
अर्ध-पारगम्य झिल्ली क्या होती है ?
उत्तर-
अर्ध-पारगम्य झिल्ली – यह एक प्रकार की जैविक या संश्लिष्ट, पालीमर से बनी झिल्ली होती है जिस में परासरण क्रिया द्वारा कुछ अणु या चार्जित कण गुज़र सकते हैं।

आलू की दीवार अर्ध-पारगम्य झिल्ली जैसी काम करती है।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 11 जंतुओं और पादपों में परिवहन

PSEB Solutions for Class 7 Science जंतुओं और पादपों में परिवहन Important Questions and Answers

वस्तनिष्ठ प्रश्न

प्रश्न 1.
रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए-

(क) हृदय से रक्त का शरीर के सभी अंगों में परिवहन ………………… के द्वारा होता है।
उत्तर-
धमनियों

(ख) हीमोग्लोबिन …………………… कोशिकाओं में पाया जाता है।
उत्तर-
लाल रक्त

(ग) धमनियां और शिराएं …………………… के जाल द्वारा जुड़ी रहती हैं।
उत्तर-
केशिकाओं

(घ) हृदय का लयबद्ध विस्तार और संकुचन …………………. कहलाता है।
उत्तर-
हृदय स्पंदन

(ङ) मानवीय शरीर की मुख्य मल उपज …………………………है।
उत्तर-
मूत्र ।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 11 जंतुओं और पादपों में परिवहन

प्रश्न 2.
कॉलम ‘A’ में दी गई संरचनाओं का कॉलम ‘B’ में दिए गए प्रक्रमों से मिलान कीजिए।

कॉलम ‘A’ कॉलम ‘B’
(क) रंध्र (i) जल का अवशोषण
(ख) जाइलम (ii) वाष्पोत्सर्जन
(ग) मूल रोम (iii) भोजन का परिवहन
(घ) फ्लोएम (iv) जल का परिवहन

उत्तर-

कॉलम ‘A’ कॉलम ‘B’
(क) रंध्र (ii) वाष्पोत्सर्जन
(ख) जाइलम (iv) जल का परिवहन
(ग) मूल रोम (i) जल का अवशोषण
(घ) फ्लोएम (ii) भोजन का परिवहन

प्रश्न 3.
सही विकल्प चुनें-

(i) मनुष्य के हृदय में कितने कक्ष होते हैं ?
(क) एक
(ख) दो
(ग) तीन
(घ) चार।
उत्तर-
(घ) चार।

(ii) हृदय स्पंद मापने वाले यंत्र का नाम बताओ।
(क) स्टेथोस्कोप
(ख) हारोस्कोप
(ग) माइक्रोस्कोप
(घ) टैलीस्कोप।
उत्तर-
(क) स्टेथोस्कोप।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 11 जंतुओं और पादपों में परिवहन

(iii) मनुष्य का उत्सर्जन अंग कौन-सा है ?
(क) फेफड़े
(ख) गुर्दा
(ग) आमाशय
(घ) हृदय।
उत्तर-
(ख) गुर्दा।

(iv) रक्त के घटक कौन-कौन से हैं ?
(क) लाल रक्त कोशिकाएं
(ख) श्वेत रक्त कोशिकाएं
(ग) पट्टिकाणु
(घ) उपरोक्त सभी।
उत्तर-
(घ) उपरोक्त सभी।

(v) हृदय स्पंदन की दर प्रति मिनट कितनी है ?
(क) 72-80 बार
(ख) 52-60 बार
(ग) 92-100 बार
(घ) 62-70 बार।
उत्तर-
(क) 72-80 बार।

(vi) निम्न में से कौन-सा उत्सर्जन तंत्र का अंग नहीं है ?
(क) वृक्क
(ख) फेफड़े
(ग) मूत्राशय
(घ) मूत्र मार्ग।
उत्तर-
(ख) फेफड़े।

प्रश्न 4.
दिए गये कथनों में सही तथा ग़लत कथन बताइए-

(i) स्पाइरोगायरा में पदार्थों का परिवहन, परासरण विधि द्वारा होता है।
उत्तर-
सही

(ii) खून का थक्का बनने के लिए प्लेटलेट्स की आवश्यकता नहीं होती है।
उत्तर-
ग़लत

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 11 जंतुओं और पादपों में परिवहन

(iii) हाइड्रा में उत्सर्जन विसरण विधि द्वारा नहीं होती है।
उत्तर-
ग़लत

(iv) जायलम तथा फ्लोयम वहिनी उत्तक हैं।
उत्तर-
सही

अति लघु उत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
पादपों में मुख्य संवहन उत्तक कौन-कौन से हैं ?
उत्तर-
पादपों में संवहन उत्तक, जाइलम और फ्लोएम हैं।

प्रश्न 2.
हृदय में वाल्वों का क्या कार्य है ?
उत्तर-
हृदय में वाल्वों के कारण रक्त का परिवहन एक मार्ग में होता है।

प्रश्न 3.
कृत्रिम वृक्क में कौन-सी विधि कार्य करती है ?
उत्तर-
डायलाइसिस।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 11 जंतुओं और पादपों में परिवहन

प्रश्न 4.
मूत्र नालियों द्वारा मूत्र कहां जाता है ?
उत्तर-
मूत्राशय में।

प्रश्न 5.
मूत्राशय क्या है ?
उत्तर-
मूत्राशय – यह एक पेशीय थैले जैसी संरचना है, जिसमें मूत्र अस्थाई रूप में संग्रहित होता है और मूत्र मार्ग द्वारा शरीर से बाहर निकाला जाता है।

प्रश्न 6.
फेफड़ों द्वारा कौन-सा अपशिष्ट बाहर निकाला जाता है ?
उत्तर-
कार्बन डाइऑक्साइड।

प्रश्न 7.
डायलाइसिस क्या है ?
उत्तर-
डायलाइसिस (Dialysis) – वह विधि जिसमें कृत्रिम वृक्क द्वारा अपशिष्ट फिल्टर किए जाते हैं, डायलाइसिस कहलाती है।

प्रश्न 8.
वाष्पोत्सर्जन क्या है ?
उत्तर-
वाष्पोत्सर्जन (Transpiration) – पादपों की पत्तियों की सतह से जल का वाष्पित होना वाष्पोत्सर्जन है।

प्रश्न 9.
रक्त में लाल वर्णक कौन-सा है ?
उत्तर-
हिमोग्लोबिन (Haemoglobin)।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 11 जंतुओं और पादपों में परिवहन

लघु उत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
केशिकाएं क्या हैं ? इनके कार्य लिखिए।
उत्तर-
केशिकाएं – बहुत ही बारीक और महीन नलियां जो शिराओं और धमनियों के अंतिम छोर पर जाल-सा बनाती हैं, केशिकाएं कहलाती हैं। खाद्य पदार्थों, गैसों, जल, हार्मोनों आदि का विनिमय इनमें से होता है।

प्रश्न 2.
मानवीय परिसंचरण तंत्र के अंगों के नाम लिखिए।
उत्तर-
मानवीय परिसंचरण तंत्र के अंग-

  1. हृदय – पंप
  2. रक्त – द्रव्य उत्तक
  3. धमनियां – शरीर के विभिन्न भागों तक शुद्ध रक्त पहुंचाने वाली नलियां।
  4. शिराएं – शरीर के विभिन्न भागों से अशुद्ध रक्त एकत्रित करने वाली नलियां।

प्रश्न 3.
हृदय स्पंदन और नब्ज़ क्या है ?
उत्तर-
हृदय स्पंदन (Heart beat) – हृदय की पेशियों के लयबद्ध संकुचन और लयबद्ध विश्रांति को हृदय स्पंदन कहते हैं। इसको स्टेथोस्कोप द्वारा मापा जाता है। विश्राम की स्थिति में मनुष्य का हृदय स्पंदन 72 बार/मिनट है।
नब्ज़ – धमनियों में प्रवाहित रक्त कारण उत्पन्न स्पंदन (धक्-धक्) को नाड़ी स्पंद या नब्ज कहते हैं।

प्रश्न 4.
कारण बताइए-
(i) शिराओं में वाल्व होते हैं।
(ii) निलयों की भित्तियां मोटी क्यों होती हैं ?
(iii) दाएं निलय से रक्त फुस्फुस धमनी में जाता है परंतु धमनी से वापस निलय में नहीं जा पाता।
(iv) बायां अलिंद ऑक्सीजन युक्त रक्त ग्रहण करता है।
(v) लाल रक्त कोशिकाएं विभाजित नहीं हो सकतीं।
(vi) फुस्फुस धमनी में अशुद्ध रक्त होता है।
(vii) अलिंदों की भित्ति पतली होती है।
(viii) दायां निलय, बाएं निलय से अधिक पेशीय और मोटी भित्ति वाला है।
उत्तर-
(i) शिराएं पतली भित्ति वाली और संकुचनशील है। वे शरीर के सभी भागों से अशुद्ध रक्त एकत्रित करती हैं और हृदय में वापस लाती है। रक्त को उल्टी दिशा में बहने से रोकने के लिए इनमें वाल्व होते हैं।

(ii) निलय सभी भागों तक रक्त पहुंचाने का कार्य करते हैं, इसलिए इनकी भित्ति मोटी होती है क्योंकि मोटी भित्ति
से रक्त पर अधिक दबाव पड़ता है।

(iii) दाएं निलय और फुस्फुस धमनी के बीच एक वाल्व है जो रक्त को निलय में से धमनी तक जाने देता है।
परंतु धमनी में से वापस निलय में नहीं आने देता।

(iv) दाएं अलिंद में रक्त फेफड़ों से आता है इसलिए ऑक्सीजन युक्त अर्थात् शुद्ध होता है।

(v) लाल रक्त कोशिकाओं में नाभिक (न्यूक्लियस) नहीं होता, इसलिए ये विभाजित नहीं हो सकती।

(vi) दाएं निलय से अशुद्ध रक्त फुस्फुस धमनी द्वारा फेफड़ों में ऑक्सीजन युक्त होने के लिए जाता है।

(vii) अलिंद रक्त का संग्रह करते हैं। इसलिए इनकी भित्ति पतली होती है और आयतन अधिक होता है।

(viii) दाएं निलय को पूरे शरीर में रक्त पंप करना होता है। इसलिए यह अधिक पेशीय और मोटी भित्ति वाला होता है।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 11 जंतुओं और पादपों में परिवहन

प्रश्न 5.
उत्सर्जन तंत्र के विभिन्न अंगों के नाम लिखिए।
उत्तर-
उत्सर्जन तंत्र के विभिन्न अंग-

  1. वृक्क
  2. मूत्र वाहिनियां
  3. मूत्राशय
  4. मूत्र मार्ग
  5. मूत्र छिद्र।

प्रश्न 6.
पादपों में वस्तुओं का परिवहन क्यों आवश्यक है ?
उत्तर-
पादप के प्रत्येक भाग को भोजन ऊर्जा के लिए और वृद्धि के लिए आवश्यक है। क्योंकि भोजन पत्तों में संश्लेषित होता है और जल और लवण मूलों द्वारा अवशोषित किए जाते हैं इसलिए इन सबका परिवहन पादपों में बहुत आवश्यक है।

प्रश्न 7.
पादपों अथवा जंतुओं में पदार्थों का परिवहन क्यों आवश्यक है ? समझाइए।
उत्तर-
पादपों और जंतुओं में परिवहन की आवश्यकता – पादप और जंतुओं के शरीर के सभी भागों को ऊर्जा की आवश्यकता होती है। यह ऊर्जा भोजन से प्राप्त होती है। शरीर के सभी भागों तक जल, ऑक्सीजन और भोजन पहंचना आवश्यक है और वहां उत्पन्न हुए अपशिष्ट पदार्थ दूर करने की भी ज़रूरत है। इसलिए परिसंचरण बहुत लाभकारी है।

प्रश्न 8.
क्या होगा यदि रक्त में पट्टिकाणु नहीं होंगे ?
उत्तर-
पटिकाणु की अनुपस्थिति में रक्त का थक्का नहीं बनेगा।

प्रश्न 9.
रक्त के घटकों के नाम बताइए।
उत्तर-
रक्त के घटक-

  1. श्वेत रक्त कोशिकाएं (White Blood Corpuscles)
  2. लाल रक्त कोशिकाएं (Red Blood Corpuscles)
  3. पट्टिकाणु (Blood Platelets)
  4. रक्त द्रव्य-प्लाज्मा (Fluid Matrix-Plasma)।

प्रश्न 10.
शरीर के सभी अंगों को रक्त की आवश्यकता क्यों होती है ?
उत्तर-
रक्त की आवश्यकता-

  1. यह ऑक्सीजन और कार्बन डाइऑक्साइड का परिवहन करता है।
  2. यह थक्का जमाने में सहायक है।
  3. यह पोषक तत्त्व, अपशिष्टों, हार्मोनों और एंजाइमों के परिवहन में सहायक है।
  4. यह उत्सर्जन में सहायक है।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 11 जंतुओं और पादपों में परिवहन

प्रश्न 11.
रक्त लाल रंग का क्यों दिखाई देता है ?
उत्तर-
रक्त लाल है, क्योंकि लाल रक्त कोशिकाओं में हिमोग्लोबिन (Haemoglobin) नामक एक वर्णक होता है।

प्रश्न 12.
हृदय के कार्य बताइए।
उत्तर-
हृदय के कार्य-

  1. हृदय का मुख्य काम शरीर के सभी भागों तक रक्त को पंप करना है।
  2. इसमें अशुद्ध रक्त एकत्रित होता है।
  3. यह अशुद्ध रक्त को फेफड़ों में शुद्ध करने के लिए भेजता है।
  4. शरीर को ऑक्सीजन पहुँचाने का काम हृदय के पंप कारण ही होता है।

प्रश्न 13.
शरीर द्वारा अपशिष्ट पदार्थों को उत्सर्जित करना क्यों आवश्यक है ?
उत्तर-
अपशिष्टों के उत्सर्जन की आवश्यकता-शरीर के कई कार्यों द्वारा कई अपशिष्ट उत्पन्न होते हैं। इन अपशिष्टों का संग्रह ज़हर पैदा करता है। इसलिए इनके उत्पन्न होने के साथ ही इनका उत्सर्जन आवश्यक है।

प्रश्न 14.
हृदय स्पंद और नब्ज दर में क्या अंतर है ?
उत्तर-
हृदय स्पंद और नब्ज़ में अंतर-

हृदय स्पंद (Heart Beat) नब्ज (Pulse Rate)
(1) हृदय की पेशियों का क्रमबध संकुचन और क्रमबद्ध विश्रांति है। (1) यह महाधमनी (Aorta) और विभिन्न धमनियों की संकुचन और विश्रांति है।
(2) एक हृदय स्पंदन 0.8 सैकिंड तक रहता है। (2) नब्ज एक क्रमबद्ध संकुचन और विश्रांति का झटका है जो हृदय स्पंदन की दर पर निर्भर करता है।

प्रश्न 15.
वाष्पोत्सर्जन और पसीना आने (स्वेदन) में क्या अंतर है ?
उत्तर-
वाष्पोत्सर्जन और पसीना आने (स्वेदन) में अंतर-

वाष्पोत्सर्जन (Transpiration) पसीना आना (Perspiration)
(1) यह पादपों में होता है। (1) यह जंतुओं में होता है।
(2) जल वाष्पित होता है। (2) पसीना जिसमें यूरिया, यूरिक अम्ल और लवण होते हैं, वाष्पित होता है।
(3) यह पत्तों और तनों के स्टोमैटा और वात रंध्रों द्वारा होता है। (3) यह त्वचा में स्थित पसीना ग्रंथियों के छिद्रों द्वारा स्रावित होता है।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 11 जंतुओं और पादपों में परिवहन

दीर्घ उत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
मानवीय उत्सर्जन तंत्र की संरचना की व्याख्या करें।
उत्तर-
उत्सर्जन तंत्र के अंग-

  1. वृक्क
  2. मूत्र वाहिनियां
  3. मूत्राशय
  4. मूत्र मार्ग।

(i) वृक्क – वृक्क दो लाल और राजमाह के आकार के होते हैं। यह पेट में रीढ़ की हड्डी के दोनों तरफ पाए जाते हैं। यह बहुत कोमल अंग हैं।

(ii) मूत्र वाहिनियां – यह दो नलियां 30 सें०मी० लंबी होती हैं, जो वृक्क में से निकलकर मूत्राशय तक पहुंच जाती हैं।
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 11 जंतुओं और पादपों में परिवहन 4
(iii) मूत्राशय – यह मूत्र का संग्रह करता है। यह एक पेशीय अंग है, जिसका आयतन 500 ml है।

(iv) मूत्र मार्ग – मूत्र मार्ग एक नली है जो मादा और नर में भिन्न होती है। नर में मूत्र मार्ग 20 से०मी० लंबा होता है।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 10 जीवों में श्वसन

Punjab State Board PSEB 7th Class Science Book Solutions Chapter 10 जीवों में श्वसन Textbook Exercise Questions and Answers.

PSEB Solutions for Class 7 Science Chapter 10 जीवों में श्वसन

PSEB 7th Class Science Guide जीवों में श्वसन Textbook Questions and Answers

1. रिक्त स्थानों को भरो :-

(i) ………………… श्वसन क्रिया दौरान लैक्टिक अम्ल पैदा होता है।
उत्तर-
अवायवीय

(ii) ऑक्सीजन समृद्ध वायु प्राप्त करने को ………………….. कहते हैं।
उत्तर-
साँस लेना

(iii) कोई व्यक्ति एक मिनट में जितनी बार साँस लेता है वह उसकी ……………………. होती है।
उत्तर-
साँस दर

(iv) पादपों में गैसों का विनिमय …………………… द्वारा होता है।
उत्तर-
स्टोमैटा

(v) स्पर्श करने पर केंचुए की त्वचा ……………………… और ……………………… अनुभव होती है।
उत्तर-
सिल्ली, फिसलती।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 10 जीवों में श्वसन

2. सही या गलत बताइए :-

(i) मेंढ़क त्वचा तथा फेफड़ों द्वारा श्वास लेते हैं।
उत्तर-
सही

(ii) हम अपने शरीर के भीतर श्वास अनुभव नहीं कर सकते।
उत्तर-
ग़लत

(iii) अवायवीय-श्वसन की तुलना में वायवीय श्वसन क्रिया के दौरान अधिक ऊर्जा उत्पन्न होती है।
उत्तर-
सही

(iv) व्यायाम करते समय व्यक्ति की श्वास दर कम हो जाती है।
उत्तर-
सही

(v) कीटों में श्वसन अंगों को श्वास नाल कहते हैं।
उत्तर-
सही।

3. उचित विकल्पों का मिलान कीजिए :-

कॉलम ‘क’ कॉलम ‘ख’
(i) लैंटीसँल (क) गिल
(ii) खमीर (ख) पुराना तना
(iii) मछली (ग) त्वचा
(iv) रंध्र (घ) एल्कोहल
(v) केंचुए (ङ) पत्ते

उत्तर-

कॉलम ‘क’ कॉलम ‘ख’
(i) लैंटीसँल (ख) पुराना तना
(ii) खमीर (घ) एल्कोहल
(iii) मछली (क) गिल
(iv) रंध्र (ङ) पत्ते
(v) केंचुए (ग) त्वचा

4. सही उत्तर चुनिए :-

प्रश्न (i)
केंचुए के श्वसन अंग हैं-
(क) श्वसन नाल
(ख) गिल
(ग) फेफड़े
(घ) त्वचा।
उत्तर-
(घ) त्वचा।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 10 जीवों में श्वसन

प्रश्न (ii)
श्वसन क्रिया सहायक होती है-
(क) पाचन
(ख) ऊर्जा उत्पादन
(ग) गति
(घ) मल त्याग।
उत्तर-
(ख) ऊर्जा उत्पादन।

प्रश्न (iii)
कॉकरोच में हवा इन के द्वारा आती है-
(क) त्वचा
(ख) रंध्र
(ग) फेफड़े
(घ) गिल।
उत्तर-
(ख) रंध्र।

प्रश्न (iv)
पुराने तथा सख्त तनों में गैसों का विनिमय इनके द्वारा होता है-
(क) रंध्र
(ख) लैंटीसँल
(ग) जड़ रोम
(घ) इनमें से कोई नहीं।
उत्तर-
(ख) लैंटीसैंला

प्रश्न (v)
भारी व्यायाम करने से हमें थकावट होती है, उसका कारण है-
(क) ग्लूकोस
(ख) ऑक्सीजन
(ग) लैक्टिक एसिड
(घ) एल्कोहल।
उत्तर-
(ग) लैक्टिक एसिड।

5. अति लघूत्तर प्रश्न :-

प्रश्न (i)
श्वसन दर (Breathing Rate) की परिभाषा लिखें।
उत्तर-
श्वसन दर – कोई व्यक्ति एक मिनट में जितनी बार श्वास लेता है, उसे श्वास दर कहते हैं। एक बार श्वास लेने से अभिप्राय है कि एक बार श्वास अंदर खींचना तथा एक बार श्वास छोड़ना।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 10 जीवों में श्वसन

प्रश्न (ii)
श्वसन क्रिया क्या है ? दो प्रकार की श्वसन क्रियाओं के नाम लिखें।
उत्तर-
श्वसन क्रिया – यह एक सरल भौतिक क्रिया है जिस दौरान वातावरण की ऑक्सीजन युक्त हवा श्वास अंगों (फेफड़ों) में खींची जाती है। श्वसन क्रिया के इस भाग को श्वास लेना कहते हैं तथा श्वास लेने के पश्चात् कार्बन डाइऑक्साइड युक्त हवा श्वास अंगों से वातावरण में बाहर निकाली जाती है, को श्वास छोड़ना कहते हैं। श्वसन क्रिया निम्नलिखित दो प्रकार की होती है-

  1. वायवीय श्वसन क्रिया
  2. अवायवीय श्वसन क्रिया।

6. लघूत्तर प्रश्न :-

प्रश्न (i)
भारी व्यायाम करने के बाद हमें थकान क्यों हो जाती है ?
उत्तर-
भारी व्यायाम के बाद मांसपेशियों में थकावट महसूस होती है। ऐसा अवायवीय श्वसन क्रिया के कारण होता है। इस क्रिया में ऑक्सीजन की अनुपस्थिति में ग्लूकोस की आंशिक ऑक्सीकरण क्रिया से लैक्टिक ऐसिड उत्पन्न होता है। लैक्टिक ऐसिड के माँसपेशियों में जमा होने के कारण थकावट तथा अकड़न महसूस होती है।

प्रश्न (ii)
अधिक पानी डालने से गमले वाला पौधा क्यों मुरझा जाता है ?
उत्तर-
जब पौधे को आवश्यकता से अधिक पानी देते हैं तो वह मर जाता है। ऐसा इस कारण होता है कि अधिक पानी देने से मिट्टी के कणों में मौजूद हवा आने जाने वाली जगह पानी से भर जाती है। जिस कारण पौधों की जड़ों को आवश्यक ऑक्सीजन प्राप्त नहीं होती।

प्रश्न (iii)
जब हम धूल भरी वायु में सांस लेते हैं तो हमें छीकें क्यों आती हैं ?
उत्तर-
जब हम धूल भरे वातावरण. में श्वास लेते हैं तो यह धूल के अनावश्यक कण नाक के अंदर, नाक के अंदरूनी बालों तथा म्यूकस में फंस जाते हैं जिस कारण नाक में जलन या खुजली (irritation) पैदा हो जाती है जिस कारण छीकें आती हैं। छीकें आने से धूल के कण बाहर निकल जाते हैं तथा स्वच्छ हवा हमारे फेफड़ों में अंदर जाने लगती है।

7. निबंधात्मक प्रश्न :-

प्रश्न (i)
श्वास क्रिया, श्वसन से कैसे भिन्न है ?
उत्तर-
श्वसन क्रिया तथा श्वास क्रिया में अंतर-

श्वसन क्रिया श्वास लेना/श्वास क्रिया
(i) यह क्रिया सैंलो (कोशिका) में होती है। (i) यह क्रिया सैंलों (कोशिका) से बाहर होती है।
(ii) इस क्रिया में ऊर्जा उत्पन्न होती है। (ii) इस क्रिया में ऊर्जा उत्पन्न नहीं होती है।
(iii) यह एक रासायनिक क्रिया है। (iii) यह एक भौतिक क्रिया है जिस में गैसों का आदान-प्रदान (विनिमय) होता है।
(iv) इस क्रिया में श्वास अंगों की आवश्यकता नहीं होती। (iv) इस क्रिया में श्वास अंगों (फेफड़ों) की आवश्यकता होती है।
(v) इसमें एंजाइमों की आवश्यकता होती है। (v) इस क्रिया में एंजाइमों की आवश्यकता नहीं होती।
(vi) इस क्रिया में कार्बन डाइऑक्साइड तथा ऊर्जा पैदा होती है। (vi) इसमें कार्बनडाइऑक्साइड बाहर छोड़ी जाती है।
(vii) इसमें ग्लूकोस का ऑक्सीकरण होता है। (vii) इसमें ऑक्सीजन अंदर खींची जाती है।

प्रश्न (ii)
मनुष्य की श्वसन प्रणाली का अंकित चित्र बनाओ।
उत्तर-
मनुष्य की श्वसन प्रणाली का अंकित चित्र-
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 10 जीवों में श्वसन 1

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 10 जीवों में श्वसन

प्रश्न (iii)
वायवीय श्वसन क्रिया तथा अवायवीय श्वसन क्रिया में समानताएँ एवं असमानताएँ लिखिए।
उत्तर-
वायवीय श्वसन क्रिया तथा अवायवीय श्वसन क्रिया में अन्तर-

वायवीय श्वसन क्रिया अवायवीय श्वसन क्रिया
(i) यह क्रिया ऑक्सीजन की उपस्थिति में होती है। (i) यह क्रिया ऑक्सीजन की अनुपस्थिति में होती है।
(ii) यह क्रिया सँलों के जीव द्रव तथा माइटोकाँडिया दोनों में पूर्ण होता है। (ii) यह क्रिया केवल जीव द्रव में ही पूर्ण होती है।
(iii) इस क्रिया में ग्लूकोस का पूर्ण रूप से ऑक्सीकरण होता है। (iii) इस क्रिया में ग्लूकोस का अपूर्ण ऑक्सीकरण होता है।
(iv) इस क्रिया में CO2 तथा पानी बनता है। (iv) इस क्रिया में एल्कोहल तथा कार्बनडाइआक्साइड बनती है।
(v) इस क्रिया में ग्लूकोज़ के एक अणु में से 38 ATP अणु मुक्त होते हैं। (v) इस क्रिया में ग्लूकोज़ के एक अणु में से 2 ATP अणु मुक्त होते हैं।
(vi) ग्लूकोज़ के एक अणु के पूरी तरह ऑक्सीकरण से 673 किलो-कैलोरी ऊर्जा मुक्त होती है। (vi) ग्लूकोज़ के एक अणु के अधूरे ऑक्सीकरण से 21 किलो-कैलोरी ऊर्जा मुक्त होती है।

Science Guide for Class 7 PSEB जीवों में श्वसन Intext Questions and Answers

सोचें तथा उत्तर दें:-(पेज 114)

प्रश्न 1.
आप अपना श्वास कितनी देर तक रोक सकते हैं ?
उत्तर-
35 सैकण्ड तक।

प्रश्न 2.
हम अपना श्वास अधिक देर तक क्यों नहीं रोक सकते ?
उत्तर-
हमें हर समय ऑक्सीजन की आवश्यकता होती है। ज्यादा देर तक साँस रोकने से शरीर के अंदर कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा बढ़ जाएगी जोकि यह घातक साबित हो सकती है।

सोचें तथा उत्तर दें:-(पेज 115)

प्रश्न 1.
किस अवस्था में श्वसन दर सबसे कम होती है ?
उत्तर-
आराम करने के बाद साँस दर सबसे कम 12 से 20 साँस प्रति मिनट होती है। इससे कम दर होना कोई शारीरिक समस्या की ओर संकेत है।

प्रश्न 2.
आपकी सामान्य श्वसन दर कितनी है ?
उत्तर-
20 साँस प्रति मिनट है।

सोचें तथा उत्तर दें:-(पेज 118)

प्रश्न 1.
रबड़ की परत किस अंग को दर्शाती है ?
उत्तर-
रबड़ शीट पेट पर्दा को दर्शाती है।

प्रश्न 2.
दो गुब्बारे किन अंगों को दर्शाते हैं ?
उत्तर-
दो गुब्बारे फेफड़ों को दर्शाते हैं।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 10 जीवों में श्वसन

प्रश्न 3.
क्या आप इस मॉडल से श्वसन की क्रिया विधि को समझ सकते हैं ?
उत्तर-
हाँ, क्योंकि यह उसका प्रतिरूप है इसलिए यह श्वास लेने की प्रक्रिया को पूरी तरह समझाएगा।

सोचें तथा उत्तर दें:-(पेज 118)

प्रश्न 1.
चूने का पानी दूधिया क्यों हो जाता है ?
उत्तर-
जब हम चूने के पानी में फूंक मारते हैं तो साँस द्वारा बाहर निकाली गयी कार्बनडाइऑक्साइड चूने के पानी के साथ क्रिया करके चूने के पानी को दूधिया बना देती है।

प्रश्न 2.
चूने के पानी का सूत्र लिखिए।
उत्तर-
चूने के पानी का सूत्र : Ca(OH)2.

PSEB Solutions for Class 7 Science जीवों में श्वसन Important Questions and Answers

वस्तुनिष्ठ प्रश्न

प्रश्न 1.
रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए-

(i) जिन जीवों को श्वसन क्रिया के लिए ऑक्सीजन की आवश्यकता नहीं होती, उन्हें ……………………. कहते हैं।
उत्तर-
अन-ऑक्सी जीव

(ii) ……………….. के जमा होने से मांसपेशियों में अकड़न पैदा होती है।
उत्तर-
लैक्टिक एसिड

(iii) जब हम कसरत अथवा मेहनत वाला काम करते हैं तो उस समय हमारी सांस दर ………………… होती है।
उत्तर-
अधिक

(iv) पौधों के पत्तों में गैसों की अदला-बदली …………………. द्वारा होती है।
उत्तर-
स्टोमैटा

(v) मछलियां सांस लेने के लिए ……………….. का प्रयोग करती है।
उत्तर-
गलफड़ों या गिल।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 10 जीवों में श्वसन

प्रश्न 2.
कॉलम ‘A’ में दिए गए शब्दों का कॉलम ‘B’ के साथ मिलान कीजिए-

कॉलम ‘A’ कॉलम ‘B’
(क) यीस्ट (i) केंचुआ
(ख) डायाफ्राम (मध्यपट) (ii) क्लोम
(ग) त्वचा (iii) ऐल्कोहॉल
(घ) पत्तियाँ (iv) वक्ष-गुहा
(ङ) मछली (v) रंध्र
(च) मेंढक (vi) फेफड़े और त्वचा

उत्तर-

कॉलम ‘A’ कॉलम ‘B’
(क) यीस्ट (iii) ऐल्कोहॉल
(ख) डायाफ्राम (मध्यपट) (iv) वक्ष-गुहा
(ग) त्वचा (i) केंचुआ
(घ) पत्तियाँ (v) रंध्र
(ङ) मछली (ii) क्लोम
(च) मेंढक (vi) फेफड़े और त्वचा

प्रश्न 3.
सही विकल्प चुनें-

(i) निम्न में से कौन-सा अवायवीय जीव है ?
(क) गाय
(ख) खमीर
(ग) मेंढक
(घ) तितली।
उत्तर-
(ख) खमीर

(ii) उच्छ्वसनित वायु में CO2 की मात्रा होती है-
(क) 0.4%
(ख) 4%
(ग) 4.4%
(घ) 14.4%.
उत्तर-
(ग) 4.4%.

(iii) अवायवीय श्वसन के उत्पाद हैं-
(क) कार्बोहाइड्रेट तथा O2
(ख) इथाइल एल्कोहल तथा CO2
(ग) कार्बोहाइड्रेट तथा CO2
(घ) इथाइल एल्कोहल तथा O2.
उत्तर-
(ख) इथाइल एल्कोहल तथा CO2.

(iv) मछली के श्वसन अंग हैं-
(क) त्वचा
(ख) फेफडे
(ग) गलफड़े
(घ) स्टोमेटा।
उत्तर-
(ग) गलफड़े।

(v) पादपों में प्रकाश-संश्लेषण का समय है-
(क) रात
(ख) दिन
(ग) दिन तथा रात
(घ) इनमें से कोई नहीं।
उत्तर-
(ख) दिन।

(vi) मेंढक के श्वसन अंग हैं-
(क) फेफड़े तथा त्वचा
(ख) गलफड़े
(ग) केवल त्वचा
(घ) इनमें से कोई नहीं।
उत्तर-
(क) फेफड़े तथा त्वचा।

(vii) सजीवों का महत्त्वपूर्ण जैविक प्रक्रम है-
(क) पाचन
(ख) जनन
(ग) उत्सर्जन
(घ) श्वसन।
उत्तर-
(घ) श्वसन।

(viii) कौन-सा जीव सांस लेने के लिए एक से अधिक अंगों का प्रयोग करता है ?
(क) मछली
(ख) काकरोच
(ग) मनुष्य
(घ) मेंढक।
उत्तर-
(घ) मेंढ़क।

(ix) कॉकरोच के शरीर में हवा प्रवेश करती है, उनके-
(क) फेफड़ों द्वारा
(ख) गल्फड़ों द्वारा
(ग) स्पाइरेक्लों द्वारा
(घ) त्वचा द्वारा।
उत्तर-
(ग) स्पाइरेक्लों द्वारा।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 10 जीवों में श्वसन

प्रश्न 4.
बताइए कि निम्नलिखित वक्तव्य ‘सत्य’ हैं अथवा ‘असत्य’-

(i) अत्यधिक व्यायाम करते समय व्यक्ति की श्वसन दर धीमी हो जाती है।
उत्तर-
असत्य

(ii) पादपों में प्रकाश संश्लेषण केवल दिन में, जबकि श्वसन केवल रात्रि में होता है।
उत्तर-
असत्य

(iii) मेंढ़क अपनी त्वचा के अतिरिक्त अपने फेफड़ों से भी श्वसन करते हैं।
उत्तर-
सत्य

(iv) मछलियों में श्वसन के लिए फेफड़े होते हैं।
उत्तर-
असत्य

(v) अंतःश्वसन के समय वक्ष-गुहा. का आयतन बढ़ जाता है।
उत्तर-
सत्य ।

अति लघु उत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
ऊर्जा देने वाली क्रियाओं के नाम लिखिए।
उत्तर-
पाचन और श्वसन क्रिया।

प्रश्न 2.
वायवीय श्वसन के उत्पाद क्या हैं ?
उत्तर-
कार्बनडाइऑक्साइड, जल और ऊर्जा ।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 10 जीवों में श्वसन

प्रश्न 3.
अवायवीय श्वसन के उत्पाद क्या हैं ?
उत्तर-
C2H5OH (एल्कोहॉल) और कार्बनडाइऑक्साइड ।

प्रश्न 4.
श्वसन क्रिया की परिभाषा लिखिए।
उत्तर-
श्वसन क्रिया – साँस द्वारा ऑक्सीजन-युक्त वायु को शरीर के अंदर ले जाना और साँस छोड़ते हुए कार्बन डाइऑक्साइड युक्त वायु शरीर से बाहर निकालने के प्रक्रम को श्वसन क्रिया कहते हैं।

प्रश्न 5.
श्वसन प्रक्रम के चरण कौन-से हैं ?
उत्तर- श्वसन प्रक्रम के दो चरण हैं

  1. श्वास लेना
  2. O2 को कोशिका में उपयोग।

प्रश्न 6.
अवायवीय जीव कौन-से हैं ?
उत्तर-
वे जीव जो ऑक्सीजन की अनुपस्थिति में जीवित रह सकते हैं, अवायवीय जीव कहलाते हैं।

प्रश्न 7.
एक अवायवीय जीव का उदाहरण दें।
उत्तर-
यीस्ट (Yeast)।

प्रश्न 8.
कोशिकीय श्वसन क्या है ?
उत्तर-
कोशिकीय श्वसन-कोशिका में होने वाले श्वसन को कोशिकीय श्वसन कहते हैं।

प्रश्न 9.
कोशिका को किन कार्यों के लिए ऊर्जा की आवश्यकता है ?
उत्तर-
पाचन, संवहन, उत्सर्जन, प्रजनन आदि के लिए।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 10 जीवों में श्वसन

प्रश्न 10.
टाँगों में ऐंठन का क्या कारण है ?
उत्तर-
लैक्टिक अम्ल का निर्माण ।

प्रश्न 11.
टाँगों की पेशियों को राहत कैसे महसूस होती है ?
उत्तर-
गर्म पानी से स्नान करके या शरीर की मालिश करवाने से।

प्रश्न 12.
डायाफ्राम क्या है ?
उत्तर-
डायाफ्राम (Diaphragm) – वक्ष गुहा का आधार एक पेशीय परत है, जिसे डायाफ्राम (मध्यपट) कहते हैं।

प्रश्न 13.
श्वास दर कब बढ़ती है ?
उत्तर-
व्यायाम करते समय या दौड़ते समय।

प्रश्न 14.
उच्छ्वसन के समय वक्ष गुहा में आयतन का क्या होता है ?
उत्तर-
आयतन कम हो जाता है।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 10 जीवों में श्वसन

प्रश्न 15.
वक्ष गुहा में आयतन कब बढ़ता है ?
उत्तर-
अंत: श्वसन के समय।

लघु उत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
अवायवीय श्वसन क्या है ?
उत्तर-
अवायवीय श्वसन – कुछ कोशिकाएँ, जैसे बैक्टीरिया और यीस्ट ऑक्सीजन की अनुपस्थिति में ग्लूकोज़ को एल्कोहॉल और CO2 में विखंडित कर सकते हैं। इस क्रिया को अवायवीय श्वसन कहते हैं।

प्रश्न 2.
रंध्र क्या है ? इनके दो कार्य बताएँ।
उत्तर-
रंध्र – पौधे की पत्ती की निचली सतह पर छोटे-छोटे छिद्र, रंध्र कहलाते हैं। इनके इर्द-गिर्द गुर्दे के आकार की रक्षात्मक कोशिकाएँ होती हैं। इनका खुलना या बंद होना प्रकाश पर निर्भर करता है।
कार्य-

  1. गैसों का आदान-प्रदान
  2. वाष्पोत्सर्जन का नियंत्रण।

प्रश्न 3.
पादपों में श्वसन समझाइए।
उत्तर-
पादपों में श्वसन – प्रकाश संश्लेषण क्रिया द्वारा पादप ऑक्सीजन छोड़ते हैं, जो श्वसन द्वारा उपयोग कर ली जाती है। रंध्र पत्तियों की निचली सतह पर छोटे-छोटे छिद्र हैं, जो गैसों के आदान-प्रदान में सहायक होते हैं।

प्रश्न 4.
क्या श्वसन श्वास लेने के समान है ?
उत्तर-
नहीं, दोनों क्रियाएँ समान नहीं हैं। श्वसन एक रासायनिक क्रिया है। इसमें भोजन का ऑक्सीकरण होता हैं और ऊर्जा निर्मुक्त होती है। यह कोशिकीय श्वसन है।

श्वास लेना एक भौतिक क्रिया है, जिसमें अतःश्वसन और उच्छ्वसन द्वारा ऑक्सीजन अंदर और CO2 बाहर निकलती है अर्थात् गैसों का केवल आदान-प्रदान होता है।

प्रश्न 5.
पौधों में श्वसन की क्या महत्ता है ?
उत्तर-
पौधों में श्वसन की महत्ता – पौधों में श्वसन अंग में श्वास क्रिया द्वारा आक्सीजन छोड़ते हैं, जो श्वास क्रिया द्वारा उपयोग कर ली जाती है। रंध्र पत्तों की निचली सतह पर छोटे-छोटे छेद होते हैं, जो गैसों के आदान-प्रदान में सहायक होते हैं।

प्रश्न 6.
वायवीय श्वसन की रासायनिक समीकरण लिखें।
उत्तर-
ग्लूकोज़ + ऑक्सीजन → कार्बन डाइऑक्साइड + जल

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 10 जीवों में श्वसन

प्रश्न 7.
उच्छ्वसन और अतःश्वसन हेतू वक्ष गुहा में परिवर्तन क्या होता है ?
उत्तर-
वक्ष गुहा में परिवर्तन-

  1. अतःश्वसन में – पसलियाँ ऊपर और बाहर की ओर निकलती हैं, ताकि वक्ष गुहा का आयतन बढ़ जाए।
  2. उच्छ्व सन में – पसलियाँ नीचे और अंदर की ओर गति करती हैं, जिससे वक्ष गुहा का आयतन कम हो जाता क्लोम

प्रश्न 8.
मछलियों में श्वसन कैसे होता है ?
उत्तर-
मछलियों में श्वसन – मछलियाँ जलीय जंतु हैं। इनके श्वसन अंग क्लोन (गिल्ज़) हैं। क्लोम पानी से भीगे रहते हैं और घुली हुई ऑक्सीजन पानी में से ले लेते हैं और कार्बन डाइऑक्साइड पानी में सरल विसरन विधि द्वारा छोड़ते हैं। क्लोम रक्त वाहिनियों से भरपूर होते हैं।
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 10 जीवों में श्वसन 2

दीर्य उत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न-सिद्ध करो कि उच्छ्वसत वायु में CO2 की उपलब्धता होती है ?
उत्तर-
उच्छ्वसित वायु में कार्बन डाइऑक्साइड की उपलब्धता
प्रयोग-दो साफ़ काँच की परखनलियाँ लो। दोनों में ताज़ा चूने का पानी डालो। कार्क के ढक्कनों से दोनों नलियाँ बंद करो। कार्क के दो छिद्रों में से नालियाँ डालो जैसा कि चित्र में दिखाया गया है। अब साँस उच्छ्वसन क्रिया से नली में फंको। काँच की परखनलियों में चूने का पानी दूधिया हो जाएगा जिससे पता चलता है कि उच्छ्वसित वायु में CO2 की मात्रा होती है।
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 10 जीवों में श्वसन 3

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 9 मृदा

Punjab State Board PSEB 7th Class Science Book Solutions Chapter 9 मृदा Textbook Exercise Questions and Answers.

PSEB Solutions for Class 7 Science Chapter 9 मृदा

PSEB 7th Class Science Guide मृदा Textbook Questions and Answers

1. खाली स्थान भरो :-

(i) धरती की ऊपरी 30 से 40 सेंटीमीटर परत जिसमें फसलें उग सकें, उसे ……………………. कहते हैं।
उत्तर-
मृदा

(ii) धरती का काट चित्र मृदा की ……………………… दर्शाता है।
उत्तर-
पर्ते

(iii) मृदा का अम्लीय गुण या क्षारीय गुण ………………… का प्रयोग करके जाँचा जा सकता है।
उत्तर-
pH पेपर

(iv) के बहुत बारीक कण होते हैं जो कि मलमल के कपड़े में से छन सकते हैं।
उत्तर-
चिकनी मृदा

(v) ……………………. मृदा का जल रोकने का सामर्थ्य सबसे कम होता है।
उत्तर-
चिकनी

(vi) …………………. मृदा फसलें उगाने के लिए सबसे अच्छी होती है।
उत्तर-
दोमट

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 9 मृदा

(vii) भारत के गुजरात तथा महाराष्ट्र जैसे पश्चिमी राज्यों की मृदा ……………………. रंग की होती है।
उत्तर-
काले

(viii) …………………… का प्रयोग कुम्हार मिट्टी के बर्तन बनाने के लिए करता हैं।
उत्तर-
चिकनी मिट्टी

(ix) ………………… मृदा का प्रयोग सीमेंट बनाने के लिए किया जाता है।
उत्तर-
चिकनी

(x) ईटों का निर्माण ………………….. में किया जाता है।
उत्तर-
चिकनी मिट्टी।

2. निम्नलिखित में ठीक है या गलत बताएं :-

(i) मृदा के अम्लीय या क्षारीय गुण की जाँच pH पेपर के साथ की जाती है।
उत्तर-
ठीक

(ii) 100 सेंटीमीटर गहराई से नीचे की मृदा को भू/भूमि कहते हैं।
उत्तर-
ग़लत

(iii) सारी फसलें रेतीली मृदा में बढ़िया उगती हैं।
उत्तर-
ग़लत

(iv) चारागाह को पशुओं के द्वारा अधिक चरने के कारण भी भूमि अपरदन होता है।
उत्तर-
ठीक

(v) खाने खोदने से भी भूमि अपरदन होता है।
उत्तर-
ग़लत

(vi) चिकनी मृदा के द्वारा जल आसानी से रिस (Percolate) जाता है।
उत्तर-
ग़लत।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 9 मृदा

3. उचित विकल्पों का मिलान करें :-

कॉलम ‘क’ कॉलम ‘ख’
(i) जल आसानी से रह जाता है। (क) मृदा का प्रदूषण
(ii) यह मृदा कपास उगाने के लिए सबसे बढ़िया होती है। (ख) भूमि-अपरदन
(iii) पॉलीथीन, प्लास्टिक तथा कीटनाशकों के कारण होता है। (ग) चिकनी मृदा
(iv) खाने खोदने, अधिक चराने तथा वृक्ष काटने से होता है। (घ) काली मृदा
(v) इस मृदा का प्रयोग सीमेंट बनाने में किया जाता है। (ङ) रेतीली मृदा

उत्तर-

कॉलम ‘क’ कॉलम ‘ख’
(i) जल आसानी से रह जाता है। (ङ) रेतीली मृदा
(ii) यह मृदा कपास उगाने के लिए सबसे बढ़िया होती है। (घ) काली मृदा
(iii) पॉलीथीन, प्लास्टिक तथा कीटनाशकों के कारण होता है। (क) मिट्टी का प्रदूषण
(iv) खाने खोदने, अधिक चराने तथा वृक्ष काटने से होता है। (ख) भूमि-अपरदन
(v) इस मृदा का प्रयोग सीमेंट बनाने में किया जाता है। (ग) चिकनी मृदा

4. सही विकल्प चुनें :-

प्रश्न (i)
किस क्रिया से भूमि-अपरदन नहीं होता ?
(क) वृक्ष काटने के साथ
(ख) चैंक डैम बनाने के साथ
(ग) पशु चराने के साथ
(घ) खाने खोदने के साथ।
उत्तर-
(ख) चैंक डैम बनाने के साथ।

प्रश्न (ii)
मृदा का प्रदूषण होता है-
(क) फसलों की अदला-बदली के साथ
(ख) रूडी खाद डालने से
(ग) कीटनाशक तथा रासायनिक खाद डालने से
(घ) हरी खाद डालने से।
उत्तर-
(ग) कीटनाशक तथा रासायनिक खाद डालने से।

प्रश्न (iii)
मृदा का प्रयोग नहीं होता –
(क) कीटनाशक बनाने के लिए
(ख) बैंक डैम बनाने के लिए
(ग) शीशे बनाने के लिए
(घ) मृदा के घड़े तथा बर्तन बनाने के लिए।
उत्तर-
(क) कीटनाशक बनाने के लिए।

प्रश्न (iv)
भूमि-अपरदन रुकता है-
(क) वृक्ष काटने से
(ख) वृक्ष उगाने से
(ग) पशु चराने से
(घ) खानें खोदने से।
उत्तर-
(ख) वृक्ष. उगाने से।

प्रश्न (v)
मृदा का प्रयोग होता है-
(क) सीमेंट बनाने के लिए
(ख) बाँध बनाने के लिए
(ग) फसलें उगाने के लिए
(घ) उपर्युक्त सभी।
उत्तर-
(घ) उपर्युक्त सभी।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 9 मृदा

5. अति लघूत्तर प्रश्न :-

प्रश्न (i)
ह्यूमस क्या होता है ?
उत्तर-
ह्यूमस – पौधो के मृत तथा गले-सड़े पत्ते या पौधे, कीट या मृत जंतुओं के मृदा में दबे शरीर, पशुओं का गोबर आदि मिलकर ह्यूमस बनता है।

प्रश्न (ii)
मृदा के जैविक घटकों के नाम लिखिए।
उत्तर-
मृदा के जैविक घटक-

  1. पौधों के मृत तथा गले सड़े पत्ते
  2. मृत जन्तुओं के शरीर
  3. पशुओं का गोबर आदि।

प्रश्न (iii)
मृदा के अजैविक घटकों के नाम लिखिए।
उत्तर-
मृदा के अजैविक घटक-

  1. रेत
  2. कंकर पत्थर
  3. चिकनी मृदा
  4. खनिज मृदा।

प्रश्न (iv)
दोमट (दुमटी) मृदा क्या होती है ?
उत्तर-
दोमट मृदा – ऐसी मृदा जिसके कणों का आकार रेतीली मृदा तथा चिकनी मृदा के कणों के आकार का मध्य होता है, दोमट मृदा कहलाती है। यह मृदा फसलों के लिए सबसे अच्छी होती है।

प्रश्न (v)
भूमि अपरदन क्या होता है ?
उत्तर-
भूमि अपरदन – तेज़ आँधी, तेज़ वर्षा, बाढ़ या अन्य कारकों द्वारा मृदा की ऊपरी सतह (पर्त) के नष्ट हो जाने को भूमि-अपरदन कहते हैं।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 9 मृदा

6. लघूत्तर प्रश्न :-

प्रश्न (i)
मृदा का खाका (Soil Profile) क्या होता है ?
उत्तर-
मृदा का खाका – मृदा की विभिन्न पर्तों में से गुजरती समतल काट मृदा का खाका कहलाती है। मृदा के खाके (परिछेदिका) की परतें इस प्रकार हैं

  1. ह्यूमस
  2. ऊपरी मृदा
  3. निचली मृदा
  4. चट्टानी टुकड़े
  5. पथरीला ठोस तल।

प्रश्न (ii)
मृदा के खाके का अंकित चित्र बनाएं।
उत्तर-
मृदा के खाके का अंकित चित्र-
PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 9 मृदा 1

प्रश्न (iii)
मृदा प्रदूषित कैसे होती है ?
उत्तर-
मृदा का प्रदूषण – मृदा में अनावश्यक तथा हानिकारक वस्तुओं के शामिल होने के कारण मृदा का प्रदूषण होता है। निम्नलिखित क्रियाकलापों द्वारा मृदा प्रदूषित होती है।

1. कीटनाशकों तथा रासायनिक खादों का अधिक प्रयोग – फसल की अधिक उपज के लिए कीटनाशकों तथा रासायनिक खादों का अधिक प्रयोग करते हैं। यह सारी कीटनाशक तथा रासायनिक खादें जैविक-अविघटनशील होने के कारण स्थायी रूप से मृदा में मौजूद रहती हैं जिससे मृदा प्रदूषित हो जाती है।

2. उद्योगों के व्यर्थ पदार्थ – कई कारखाने अपना जहरीला कचरा अपने इर्द-गिर्द के क्षेत्रों में फेंक देते हैं, जिससे मृदा का प्रदूषण होता है।

3. पॉलिथीन तथा प्लास्टिक कचरा – प्लास्टिक तथा पॉलिथीन के निर्माण में कई रसायन प्रयोग किए जाते हैं। प्लास्टिक तथा पॉलिथीन जैविक-अविघटनशील हैं। जब फालतू या बेकार प्लास्टिक या पॉलिथीन कचरे को हम इधरउधर फेंक देते हैं तो यह मृदा में पड़े रहते हैं जिससे प्रदूषित हो जाती है।

प्रश्न (iv)
हमें बाँस के पौधे अधिक क्यों लगाने चाहिए ?
उत्तर-
पहाड़ी तथा अर्द्ध-पहाड़ी क्षेत्रों में पशुओं को घास चराने की आवश्यकता पड़ती है। चरागाहों को पशु बारबार चरते हैं। जिसके फलस्वरूप मृदा के ऊपर की परत नंगी तथा नरम हो जाती है। इसलिए वह मृदा जल्दी ही अपरदित हो जाती है। भूमि-अपरदन को रोकने के लिए बांस के पौधे बहुत सहायक होते हैं। इसलिए भूमि अपरदन को रोकने के लिए बांस के पौधे लगाने चाहिए।

प्रश्न (v)
रेतीली मृदा तथा चिकनी मृदा के मध्य अंतर बताएं।
उत्तर-
चिकनी मृदा तथा रेतीली मृदा में अंतर-

रेतीली मृदा रेतीली मृदा
(i) चिकनी मृदा के कणों का आकार 0.005 mm से कम होता है। (i) रेतीली मिट्टी के कणों का आकार 0.05 mm से 2 mm होता है।
(ii) इसमें ह्यूमस होता है। (ii) इसमें ह्यूमस नहीं होता।
(iii) इसके कणों में कोई खाली स्थान नहीं होता है। (iii) इसके कणों में खाली स्थान होता है।
(iv) जल का अंतरिसाव नहीं होता। (iv) पानी का अंतर्रिसाव होता है।
(v) इसका प्रयोग खिलौने, बर्तन, मूर्तियाँ बनाने के लिए किया जाता है। (v) इसके खिलौने, बर्तन तथा मूर्तियाँ नहीं बनते।
(vi) यह चिपचिपी होती है। (vi) यह चिपचिपी नहीं होती।

प्रश्न (vi)
चैंक डैम क्या होता है ? यह क्यों बनाया जाता है ?
उत्तर-
चैंक डैम – पहाड़ी क्षेत्रों में गड्ढे तथा नालों के ऊपर अस्थायी या छोटे-छोटे डैम बनाये जाते हैं ताकि तीव्र गति के जल को रोक कर सिंचाई के लिए प्रयोग कर सकें। ऐसा करने से भूमि-अपरदन को रोका जा सकता है जिससे भूमि की उपजाऊ शक्ति कायम रहती है। इसके अतिरिक्त मानसून के दौरान जल को रोककर बिना वर्षा के दिनों में सिंचाई के लिए जल इकट्ठा किया जाता है।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 9 मृदा

7. निबंधात्मक प्रश्न :-

प्रश्न (i)
भूमि (Soil) का निर्माण कैसे होता है ? व्याख्या करें।
उत्तर-
भूमि का निर्माण – कई वर्षा पूर्व पृथ्वी सख्त तथा पथरीली थी। समय गुजरने के साथ भूचालों द्वारा चट्टानें छोटे टुकड़ों में टूट गयी। ज्वालामुखी फटने से चट्टानें टुकड़े-टुकड़े हो गई। चट्टानों में जल जमा होने से दरारें पैदा हो गईं तथा यह भी चट्टानों को तोड़ने में सहायक हुईं। वर्षा तथा नदियों के जल ने इन छोटे कणों को अधिक बारीक कणों में परिवर्तित कर दिया तथा अपने साथ बहा कर दूर ले गया। इस प्रकार मृदा का निर्माण हुआ।

प्रश्न (ii)
भूमि-अपरदन (Soil Erosion) के लिए उत्तरदायी अलग-अलग कारकों को कैसे रोका जाता है ? वर्णन करो।
उत्तर-
भूमि/मृदा-अपरदन के लिए निम्नलिखित कारक जिम्मेदार होते हैं-

  1. बाढ़ – बाढ़ से भूमि की ऊपरी उपजाऊ सतह बह जाती है। कभी-कभी तो फसलें भी बाढ़ के कारण बह जाती हैं।
  2. आँधी तथा तूफ़ान – बहुत तेज़ हवा, आँधी तथा तूफ़ान मृदा की ऊपरी पर्त को उड़ा ले जाते हैं तथा भूमिअपरदन का कारण बनते हैं।
  3. जंगलों की कटाई – जब जंगली वृक्षों की कटाई होती है या वृक्ष जड़ों से उखाड़े जाते हैं तो मृदा नरम हो कर बह जाती है।
  4. घास चराना -जब किसी घास के मैदान या चरागाह को पशु बार-बार चरते हैं तो मृदा नर्म होकर अपर्दित हो जाती हैं।
  5. खदानें खोदना – रेत, बजरी या खनिजों की प्राप्ति के लिए पहाड़, ज़मीन या खदानें खोदे जाने से भूमि-अपरदन होता है।

प्रश्न (iii)
भूमि-अपरदन (Soil Erosion) कैसे रोका जाता है ? वर्णन करो।
उत्तर-
भूमि-अपरदन को रोकने के लिए निम्नलिखित तरीके अपनाए जाते हैं-

  1. वृक्ष लगाना – बंजर पहाड़ियों पर अधिक से अधिक स्थानक वृक्ष लगाने चाहिए तथा समतल भूमि पर घास उगानी चाहिए। भूमि-अपरदन रोकने के लिए बांस बहुत सहायक सिद्ध होते हैं। इसलिए पहाड़ी तथा अर्द्ध-पहाड़ी क्षेत्रों में बांस के पौधे लगाने चाहिए।
  2. खदानों की खुदाई को कंट्रोल करना – खदानें खोदने (खनन) पर नियंत्रण रखना चाहिए। खनन का काम इस ढंग से होना चाहिए कि खनन वाले क्षेत्र भूमि-अपरदन से प्रभावित न हो।
  3. अदला – बदली करके पशु चराना-पशुओं को लगातार एक ही चरागाह में नहीं चराना चाहिए। कुछ समय पश्चात् चरागाहों को खाली छोड़ना चाहिए। पशुओं को कुछ समय के लिए अन्य स्थान पर चराना चाहिए।
  4. चैंक डैम का निर्माण – पहाड़ी क्षेत्रों में गड्ढों तथा नालों पर चैक डैम बनाने चाहिए। ऐसा करने से भूमिअपरदन रुक जाता है।

प्रश्न (iv)
कणों के आधार पर मृदा का वर्गीकरण कैसे किया जाता है ?
उत्तर-
कणों के आकार के आधार पर मृदा का वर्गीकरण-कणों के आकार के आधार पर मृदा चिकनी, रेतीली, पथरीली तथा दोमट हो सकती है।

1. चिकनी मृदा – ऐसी मृदा जिसके कण बहुत बारीक, धूल जैसे होते हैं, चिकनी मृदा कहलाती है। इसके कण मलमल के कपड़े में से भी गुज़र सकते हैं। ऐसी मृदा का प्रयोग मृदा के घड़े तथा चीनी मृदा के बर्तन बनाने के लिए किया जाता है। जल डालने से यह कीचड़ में बदल जाती है तथा सूखने पर सख्त हो जाती है।

2. रेतीली मृदा – रेत के कण चिकनी मृदा के कणों से बड़े होते हैं। यह कण मलमल के कपड़े में से नहीं निकल सकते। रेगिस्तान की मृदा सामान्य रूप से रेतीली होती है। इस प्रकार की मिट्टी में जल नहीं रुकता।

3. पथरीली मृदा – ऐसी मृदा के कण बहुत बड़े होते हैं तथा इन्हें हाथों से चुना जा सकता है। ऐसे कण छाननी में से भी नहीं निकल पाते।

4. दोमट मृदा-दोमट मृदा के कणों का आकार रेतीली तथा चिकनी मृदा के कणों के आकार के बीच (मध्य) का होता है। यह फसलों के लिए उत्तम होती है।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 9 मृदा

Science Guide for Class 7 PSEB मृदा Intext Questions and Answers

सोचें तथा उत्तर दें :-(पेज 101)

प्रश्न 1.
जिस मृदा की pH3 हो, उसका रासायनिक गुण कैसा होता है ?
उत्तर-
जिस मृदा का pH मूल्य 3 है, उस मृदा/मृदा का रासायनिक गुण अम्लीय है।

प्रश्न 2.
जिस मृदा की pH10 हो, उसका रासायनिक गुण कैसा होता है ?
उत्तर
-जिस मृदा का pH मूल्य 10 है, उस मृदा का रासायनिक गुण क्षारीय होगा।

प्रश्न 3.
उदासीन मृदा का pH कितना होता है ?
उत्तर-
उदासीन मृदा का pH7 होता है।

सोचें तथा उत्तर दें :-(पेज 102)

प्रश्न 1.
किस मृदा में जल रिसाव की दर सबसे अधिक है ?
उत्तर-
रेतीली मृदा में जल के रिसने की दर सबसे अधिक है।

प्रश्न 2.
किस मृदा में जल को रोकने का सर्वाधिक सामर्थ्य है ?
उत्तर-
चिकनी मृदा में जल को रोकने की क्षमता सबसे अधिक होती है।

सोचें तथा उत्तर दें :-(पेज 103)

प्रश्न 1.
मृदा पर हल क्यों चलाया जाता है ?
उत्तर-
मृदा को हल से जोता जाता है ताकि मृदा नर्म या मुसामदार बन जाए।

प्रश्न 2.
मृदा में विद्यमान हवा का क्या लाभ है ?
उत्तर-
पौधों की जड़ें मृदा में मौजूद हवा का प्रयोग करती हैं।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 9 मृदा

PSEB Solutions for Class 7 Science मृदा Important Questions and Answers

प्रश्न 1.
रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए-

(क) पृथ्वी की सबसे ……………………… परत जिसमें फसलें उग सकती हैं, मिट्टी कहलाती है।
उत्तर-
ऊपरी

(ख) दोमट मिट्टी के कणों के आकार रेतीली तथा चिकनी मिट्टी के कणों के आकार के …………………. होते हैं।
उत्तर-
मध्याकार की

(ग) ……………. मिट्टी की PH8 से 14 होती है।
उत्तर-
क्षारकीय

(घ) मिट्टी के ऊपरी परत के नष्ट होने को ………………. कहते हैं।
उत्तर-
भूमि-अपरदन

प्रश्न 2.
कॉलम A में दी गई वस्तुओं का कॉलम B में दिए गुणों से मिलान कीजिए-

कॉलम A कॉलम B
(क) जीवों को आवास देने वाली (i) बड़े कण
(ख) मृदा की ऊपरी परत (ii) सभी प्रकार की मृदा
(ग) बलुई मृदा (iii) गहरे रंग की
(घ) मृदा की मध्य परत (iv) सघन छोटे कण
(च) मृण्मय मृदा (v) ह्यूमस की कम मात्रा

उत्तर-

कॉलम A कॉलम B
(क) जीवों को आवास देने वाली (ii) सभी प्रकार की मृदा
(ख) मृदा की ऊपरी परत (iii) गहरे रंग की
(ग) बलुई मृदा (i) बड़े कण
(घ) मृदा की मध्य परत (v) ह्यूमस की कम मात्रा
(च) मृण्मय मृदा (iv) सघन छोटे कण मात्रा

प्रश्न 3.
सही उत्तर चुनें-

(i) जल, पवन द्वारा मृदा की ऊपरी सतह के हटने को क्या कहते हैं ?
(क) मृदा प्रदूषण
(ख) मृदा अपरदन
(ग) मृदा परिच्छेदिका
(घ) इनमें से कोई नहीं।
उत्तर-
(ख) मृदा अपरदन।

(ii) कौन-सी मृदा कृषि के लिए सबसे अधिक लाभकारी है ?
(क) दुमटी
(ख) बलुई
(ग) मृण्मय
(घ) बालु और दुमट का मिश्रण।
उत्तर-
(क) दुमटी।

(iii) दालों के लिए कौन-सी मृदा अच्छी होती है ?
(क) मृण्मय
(ख) बालु
(ग) बालु और दोमट का मिश्रण
(घ) दुमटी।
उत्तर-
(घ) दुमटी।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 9 मृदा

(iv) इनमें से कौन-सी परत खनिजों से भरपूर होती है ?
(क) संस्तर स्थिति A
(ख) संस्तर स्थिति B
(ग) संस्तर स्थिति C
(घ) इनमें से कोई नहीं।
उत्तर-
(ख) संस्तर स्थिति B.

(v) इनमें से कौन-सी मृदा में वायु काफ़ी मात्रा में होती है ?
(क) मृण्मय
(ख) दोमट
(ग) दोमट और वायु का मिश्रण
(घ) बलुई।
उत्तर-
(घ) बलुई।

(vi) पृथ्वी की सबसे ऊपरी परत ………………….. कहलाती है।
(क) मृदा
(ख) पवन
(ग) जल
(घ) इनमें से कोई नहीं।
उत्तर-(क) मृदा।

प्रश्न 4.
दिए गये कथनों में सही तथा ग़लत कथन बताइए

(i) रासायनिक खाद मिट्टी को प्रदूषित करते हैं।
उत्तर-
ग़लत

(ii) मिट्टी की ऊपरी 30-40 सैंटीमीटर तक की गहरी परत जिसमें पौधे उग सकते हैं, को भूमि कहते हैं।
उत्तर-
सही

(iii) जिस मिट्टी में लोहे के नमक होते है वह कपास उगाने के लिए अच्छी होती है।
उत्तर-
सही

(iv) मिट्टी की ऊपरी परत को बनने में कुछ महीने लगते हैं?
उत्तर-
सही

अति लघु उत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
मृदा क्या है ?
उत्तर-
मृदा (Soil)-पृथ्वी को सबसे ऊपरी परत मृदा कहलाती है।

प्रश्न 2.
क्या मृदा के सभी कणों का माप एक होता है ?
उत्तर-
नहीं, मृदा के कणों का माप एक समान नहीं होता। यहाँ तक कि रंग और आकार भी विभिन्न होते हैं।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 9 मृदा

प्रश्न 3.
मृदा परतों को किस आधार पर परिच्छेदित किया जाता है ?
उत्तर-
मृदा के गठन, रंग, गहराई और रासायनिक संरचना के आधार पर।

प्रश्न 4.
कुछ जीवों के नाम लिखो जो मृदा में पाए जाते हैं ?
उत्तर-
कीट, बैक्टीरिया, केंचुए, कृमि, छछंदर, कृतंक, भृगु आदि।

प्रश्न 5.
आधार शैल की प्रकृति क्या है ? .
उत्तर-
सख्त (कठोर)।

प्रश्न 6.
कौन-सी मृदा में वायु काफ़ी मात्रा में होती है ?
उत्तर-
बलुई (Sandy soil)।

प्रश्न 7.
चावल की खेती के लिए कौन-सी मृदा की आवश्यकता है ?
उत्तर-
मृत्तिका (Clayey soil)।

प्रश्न 8.
कौन-सी मृदा अधिक जल अवशोषित कर सकती है ?
उत्तर-
छिद्रयुक्त (मृत्तिका अथवा चिकनी)।

प्रश्न 9.
दालों के लिए कौन-सी मदा अच्छी है ?
उत्तर-
दुमटी (Loamy soil)।

लघु उत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
मृदा पौधों की वृद्धि का माध्यम है। कैसे ?
उत्तर-
पौधे वृद्धि के लिए जल और लवण मृदा में से जड़ों द्वारा अवशोषित करते हैं। मृदा जड़ों को जकड़ लेती है और पौधे को सहारा देती है।

PSEB 7th Class Science Solutions Chapter 9 मृदा

प्रश्न 2.
मृदा प्राकृतिक संसाधन कैसे है ?
उत्तर-
मृदा एक प्राकृतिक संसाधन – मृदा एक बहुत महत्त्वपूर्ण प्राकृतिक संसाधन है। पृथ्वी पर हरियाली मृदा के कारण ही है। पादपों को वृद्धि, सहारे और पोषक तत्त्वों के लिए मृदा की आवश्यकता है।

मृदा जीवित जगत का एक सहारा है। यह आश्रय, ईंट और मोर्टार की इकाई है। मृदा लकड़ी, कागज़ आदि देती है। मृदा में से कई तत्त्व जैसे एलुमीनियम, पोटाशियम आदि मिलते हैं। यह कई जीवों का आवास भी है।

प्रश्न 3.
मृण्मय मृदा किस प्रकार फसलों के लिए उपयोगी है ?
उत्तर-
मृण्मय मृदा की जल को अवशोषित करने की शक्ति अधिक होती है, यह ह्यूमस से भरपूर और काफ़ी उर्वरित होती है। इसलिए यह फसलों के लिए उपयोगी है।

प्रश्न 4.
समझाइए कि मृदा प्रदूषण और मृदा अपरदन को किस प्रकार रोका जा सकता है ?
उत्तर-
मृदा प्रदूषण को रोकना-

  1. प्लास्टिक और पॉलीथीन की थैलियों के उपयोग पर रोक लगाकर।
  2. अपशिष्टों और रासायनों का उपचार मृदा निर्मुक्त करने से पहले करके।

मृदा अपरदन की रोकथाम-

  1. वृक्षारोपण द्वारा
  2. फसल चक्रण करके
  3. नदियों के किनारों पर बाढ़ लगाकर
  4. अधिक पेड़ उगा कर।

दीर्य उत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
मदा के भिन्न-भिन्न उपयोग लिखो।
उत्तर-
मृदा के उपयोग – फसलें उगाने के अतिरिक्त मृदा अन्य कई कार्यों में भी उपयोग की जाती है, वह हैं-

  1. मृदा वृक्षों की जड़ों को जकड़ कर रखती है।
  2. पोषकों से युक्त मृदा में फसलें उगाई जाती हैं।
  3. चिकनी मृदा का प्रयोग सीमेंट तैयार करने के लिए किया जाता है।
  4. रेत को सीमेंट बजरी, में मिलाकर घरों, सड़कों पुलों फैक्टरियों आदि का निर्माण किया जाता है।
  5. मृदा का प्रयोग नदी, पहाड़ी नालों पर डैम या बांध बनाने के लिए किया जाता है।
  6. मृदा का प्रयोग ईंटों को बनाने में किया जाता है।
  7. बहुत बारीक चिकनी मृदा का प्रयोग मृदा के वर्तन बनाने के लिए किया जाता है।